पत्रकार जमाल खशोगी हत्याकांड: 8 दोषी करार, 5 को मिली सजा-ए-मौत,जाने पूरी खबर

सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के मामले में 8 लोगों को दोषी करार दिया है। इस मामले में 5 लोगों को सजा- ए- मौत दी गई है।  तीन अन्य लोगों को कुल 24 साल जेल की सजा दी गई है।  जमाल सऊदी अरब के रहने वाले थे और वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार थे।

रियाद : सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के मामले में 8 लोगों को दोषी करार दिया है। इस मामले में 5 लोगों को सजा- ए- मौत दी गई है।  तीन अन्य लोगों को कुल 24 साल जेल की सजा दी गई है।  जमाल सऊदी अरब के रहने वाले थे और वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार थे। इस मामले में आरोपी दो जानी-मानी हस्तियों को दोषमुक्त करार दिया है। सऊदी सरकार के अभियोजन पक्ष ने सोमवार को यह जानकारी दी।

यह पढ़ें…झारखंड में गंठबंधन की जीत: कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को खुशी की लहर

सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खशोगी अमेरिका में रहते थे और वॉशिंगटन पोस्ट के स्तंभकार थे। उन्हें आखिरी बार दो अक्टूबर 2018 को इस्तांबुल स्थित सऊदी अरब के दूतावास के बाहर देखा गया था। इसके बाद तुर्की के अखबार ने दावा किया था कि सऊदी अरब की एक टीम जमाल खशोगी को रियाद ले जाना चाहती थी। लेकिन उनके इन्कार करने के बाद दूतावास में ही उनकी हत्या कर दी गई।

तुर्की सरकार ने उनके शव को खोजने के लिए दूतावास की भी जांच की। हालांकि, आज तक खशोगी की लाश बरामद नहीं की जा सकी है। एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि खशोगी को मारने के बाद हिट टीम के सदस्यों ने उनकी लाश को नष्ट करने के लिए उसे तेजाब में डाल दिया था। तुर्की के अखबार इस मामले में खुलासा करते रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र की हत्याकांड से जुड़ी एक रिपोर्ट में एक्सपर्ट एग्नेस कैलामार्ड ने कहा था कि खशोगी की हत्या से जुड़े सबूतों के आधार पर कहा जा सकता है कि सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान और उनके उच्चाधिकारी हत्या से जुड़े हुए थे। उन्होंने मामले में प्रिंस सलमान की जांच की बात कही थी। हालांकि, क्राउन प्रिंस अपने ऊपर लगे आरोपों से इनकार करते रहे हैं।

यह पढ़ें…23वां राष्ट्रीय युवा महोत्सव सर्वाधिक उत्कृष्ट होगा: किरण रिजिजू

 

जमाल की लाश नहीं बरामद हुई थी। इसको लेकर आरोप लगे थे कि लाश को तेजाब से जला दिया गया था। जमाल की हत्या के आरोपों के घेरे में सऊदी अरब के प्रिंस भी हैं। संयुक्त राष्ट्र की हत्याकांड से जुड़ी एक रिपोर्ट में भी कहा गया था कि सऊदी अरब के उच्चाधिकारी इस कत्ल से जुड़े हुए हैं। हालांकि, सऊदी अरब की सरकार इन आरोपों से इन्कार करती रही है।