ट्रंप पूरे अमेरिका में लॉकडाउन न करने पर अड़े, चिकित्सा विशेषज्ञ नाराज

एक ओर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया है तो दूसरी ओर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पूरी तरह बंदी लागू नहीं करने पर अड़े हुए हैं।

वाशिंगटन:  एक ओर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया है तो दूसरी ओर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पूरी तरह बंदी लागू नहीं करने पर अड़े हुए हैं। ट्रंप का कहना है कि वह कुछ दिनों के भीतर देश की सामाजिक दूरी वाली नीति पर पुनर्विचार करेंगे।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि बहुत जल्द अमेरिका व्यापार के लिए फिर से खुलेगा। लॉकडाउन को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति और देश के स्वास्थ्य विशेषज्ञों के बीच मतभेद उभर आए हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने अमेरिकी राष्ट्रपति के बयान पर नाराजगी जताई है।

ये भी पढ़ें…नोबेल पुरस्कार से सम्मानित फ़िनलैंड के पूर्व राष्ट्रपति मारत्ती अहितसारी व उनकी पत्नी कोरोना वायरस से संक्रमित: रिपोर्ट

व्हाइट हाउस में नियमित प्रेस ब्रीफिंग के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि वह सामान्य स्थितियों की बहाली का समर्थन करते हैं। ट्रंप ने कहा कि अमेरिका फिर से जल्द ही व्यापार के लिए खुलेगा। मीडिया से बातचीत के दौरान संक्रामक रोगों से देश के अग्रणी विशेषज्ञ डॉक्टर फौसी मौजूद नहीं थे। इसे लेकर मीडिया ने सवाल भी खड़े कर दिए।

सलाह न मानने पर ट्रंप से उनके मतभेद की बात भी सामने आई है। अमेरिका में लॉकडाउन न करने की राष्ट्रपति ट्रंप की यह टिप्पणी चिकित्सा विशेषज्ञों को रास नहीं आई है।

पेरिसः फ्रांस में कोरोना वायरस से 186 की और मरे,मरने वालों की संख्या बढ़कर 860 तक पहुंची

टॉम इंगल्सबी ने ट्रंप को दी ये चेतावनी

जॉन हापकिंस सेंटर फॉर हेल्थ सिक्योरिटी के निदेशक टॉम इंगल्सबी ने चेतावनी दी कि अगर अमेरिका में ट्रंप ने जल्द से जल्द लॉकडाउन नहीं किया तो कोरोना वायरस बहुत तेजी से फैल सकता है।

उन्होंने कहा कि तब स्थितियां बेकाबू हो जाएंगी और अस्पताल और चिकित्सा व्यवस्था पूरी तरह तबाह हो जाएगी। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति पैदा होने पर देश के लाखों लोगों की जान पर आफत आ सकती है।

कोरोना वायरस के संकट का बड़ा असर, अब इस फैसले से हो रहीं जेलें खाली