Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

धरती पर बढ़ा खतरा: ऐस्टरॉइड के टकराने से होगा भयावह धमाका, NASA की चेतावनी

नासा ने चेतावनी दी है कि अगर धरती से एक एस्टेरॉइड टकराता है तो परमाणु बम जैसा धमाका होगा।

Newstrack

NewstrackNewstrack Network NewstrackShreyaPublished By Shreya

Published on 4 May 2021 6:12 AM GMT

धरती पर बढ़ा खतरा: ऐस्टरॉइड के टकराने से होगा भयावह धमाका, NASA की चेतावनी
X

(सांकेतिक फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: आने वाले सालों में कभी भी ऐस्टरॉइड (Asteroid) धरती से टकरा सकता है और इस टक्कर के लिए पृथ्वी (Earth) बिल्कुल भी तैयार नहीं है। ये चेतावनी जारी की गई है अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (European Space Agency) की ओर से। साथ ही ये भी कहा गया है कि धरती को बचाने के लिए, इससे निपटने के लिए हमें बेहतर तैयारी की जरूरत है।

बता दें कि एजेंसियों ने ऐस्टरॉइड (Asteroid) के टक्कर का पूर्वाभ्यास करने के बाद निकले नतीजों के आधार पर ही यह चेतावनी जारी की है। इससे पहले नासा के प्लेनेटरी डिफेंस कोआर्डिनेशन ऑफिस में 26 अप्रैल को एक पूर्वाभ्यास किया गया। जिसमें यह जानने की कोशिश की गई कि एक ऐस्टरॉइड के धरती से टकराने पर क्या असर होगा।

धरती के पास से गुजरता ऐस्टरॉइड (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

क्या है वैज्ञानिकों का कहना?

हालांकि वैज्ञानिकों का कहना है कि अभी ऐस्टरॉइड से धरती के टकराने की आशंका दूर-दूर तक नहीं है। लेकिन भविष्य में होने वाली टक्कर को नकारा भी नहीं गया है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, अभी तो इस टक्कर की आशंका नहीं है, लेकिन भविष्य में यह टक्कर हो सकती है। अब इस पूर्वाभ्यास से निकले निष्कर्ष के बाद नासा और और यूरोपीय एजेंसी ने धरती को बचाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं।

परमाणु बम जैसे होगा धमाका

मिली जानकारी के मुताबिक, इस पूर्वाभ्यास में पाया गया कि ऐस्टरॉइड के धरती से टकराने की पांच फीसदी संभावना है। यह टक्कर यूरोप में कहीं भी होने की बात कही गई है। बताया गया है कि अंतरिक्ष से आने वाले चट्टान से यह टक्कर इतनी भयानक होगी, जैसे किसी शक्तिशाली परमाणु बम के विस्फोट से होती है। जिसके बाद एजेंसियां इससे निपटने की तैयारी में जुट गए हैं। वैज्ञानिकों ने सुझाव दिया है कि कुछ मामलों में परमाणु हथियार के इस्तेमाल का विकल्प ज्यादा बेहतर रहेगा।

Shreya

Shreya

Next Story