Top

ट्विटर ब्लॉक कर इस देश ने अपनाया मेड इन इंडिया ऐप Koo, सह-संस्थापक ने किया स्वागत

नाइजीरिया सरकार (Nigeria Government) ने भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म कू (Koo) पर आधिकारिक अकाउंट बनाया है।

Network

NetworkNewstrack NetworkAshiki PatelPublished By Ashiki Patel

Published on 11 Jun 2021 4:04 AM GMT

Koo App
X

Koo App (symbolic picture)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: नाइजीरिया सरकार (Nigeria Government) ने भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म कू (Koo) पर आधिकारिक अकाउंट बनाया है। दरअसल, हाल ही में नाइजीरिया सरकार ने माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर (Twitter) को अपने देश में अनिश्चित काल के लिए बैन कर दिया था। ऐसे में नाइजीरिया के इस कदम को ट्विटर के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है

Koo नाइजीरिया की स्थानीय भाषाओं को भी इसमें जोड़ रहा है। नाइजीरिया सरकार सरकार के Koo पर आने की जानकारी खुद कू के सीईओ ने दी है। Koo के को-फाउंडर और सीईओ अप्रमेय राधाकृष्ण (Aprameya Radhakrishna) ने कू पर एक पोस्ट में कहा, 'नाइजीरिया सरकार का आधिकारिक हैंडल अब कू पर है!' खास बात यह है कि है कि अप्रमेय ने यह बात ट्विटर पर भी कही है। उन्होंने ट्वीट किया, ''कू इंडिया पर नाइजीरिया सरकार के आधिकारिक हैंडल का स्वागत है! अब हम भारत से बाहर भी पंख फैला रहे हैं।''

राष्ट्रपति का ट्वीट डिलीट करने के बाद उठाया गया कदम

माना जा रहा है कि नाइजीरिया सरकार की यह बदले की कार्रवाई है। दरअसल, ट्विटर ने दो दिन पहले ही नाइजीरिया के राष्ट्रपति मोहम्मदु बुहारी (Muhammadu Buhari president of Nigeria) के आधिकारिक अकाउंट को डिलीट कर दिया था। ट्विटर का कहना था कि राष्ट्रपति ने नियमों को तोड़ा।

राष्ट्रपति ने किया था विवादास्पद ट्वीट

दरअसल, नाइजीरिया के राष्ट्रपति मोहम्मदु बुहारी ने सिविल वार को लेकर एक ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने दक्षिण-पूर्व में हुई हिंसा का जिक्र किया था। जानकारी के मुताबिक करीब 50 साल पहले 30 महीने तक चले इस सिविल वार में 10 लाख से ज्यादा लोग मारे गए थे।

अप्रमेय राधाकृष्ण और मयंक बिदावत ने शुरू की थी KOO

आपको बता दें कि बता दें कि अप्रमेय राधाकृष्ण (Aprameya Radhakrishna) और मयंक बिदावत (Mayank Bidawat) ने पिछले साल कू की शुरुआत की थी, ताकि यूजर्स को अपनी बात कहने और भारतीय भाषाओं के प्लेटफॉर्म के साथ जुड़ने का अवसर मिल सके। यह हिंदी, तेलुगु और बंगाली सहित कई भाषाओं में उपलब्ध है।

Ashiki

Ashiki

Next Story