×

ऑनर किलिंग : पाकिस्तान में कुछ नहीं बदला है

Newstrack
Updated on: 5 Oct 2019 7:20 AM GMT
ऑनर किलिंग : पाकिस्तान में कुछ नहीं बदला है
X
ऑनर किलिंग : पाकिस्तान में कुछ नहीं बदला है
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पाकिस्तानी मॉडल और सोशल मीडिया सेलेब्रिटी कंदील बलोच (२६) की हत्या खुद उनके भाई ने की थी, जिसे अब अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। यह हत्या पाकिस्तान में ऑनर किलिंग के सबसे हाई प्रोफाइल मामलों में से एक रही है। कंदील की हत्या ने एक सच को फिर सामने ला दिया है कि पाकिस्तान में अब भी कुछ नहीं बदला है। दकियानूसी सोच, कबीलाई संस्कृति और कट्टïरपंथ की जड़ें अब भी बहुत गहरे समाई हुई हैं।

पाकिस्तानी अदालत ने मोहम्मद वसीम को अपनी बहन और सोशल मीडिया स्टार कंदील बलोच की हत्या का दोषी पाया और उसे उम्रकैद की सजा सुनाई। हालांकि इस मामले में छह दूसरे आरोपियों को बरी कर दिया गया है जिनमें एक मौलवी मुफ्ती अब्दुल कवी और वसीम के दो अन्य भाई भी शामिल थे।

मुल्तान शहर में अदालत के फैसले के बाद कंदील के भाइयों के वकील सरदार महबूब ने कहा, वसीम को उम्रकैद मिली है। मुफ्ती कवी के साथ असलम शाहीन, हक नवाज, अब्दुल बासित और मोहम्मद जफर हुसैन को अदालत ने बरी कर दिया। जब ये लोग अदालत से निकले तो उनके समर्थकों ने उन पर गुलाबों की पखुंडिय़ा बरसाईं।

यह भी पढ़ें : पाकिस्तान का दोहरा चरित्र! गैर-मुस्लिमों संग संसद कर रहा गलत काम

2016 में कंदील की हत्या ने पाकिस्तान में ऑनर किलिंग और महिलाओं के अधिकारों को लेकर एक बड़ी बहस छेड़ी थी। इसके बाद ऑनर किलिंग से जुड़े कानून में भी बदलाव किया गया। पाकिस्तान में अकसर ऑनर किलिंग के मामले सामने आते हैं। इसके तहत किसी महिला को उसके परिवार वाले सिर्फ इस वजह से मार देते हैं कि उसने कुछ 'अनैतिक' किया जिसकी वजह से परिवार की 'बदनामी' हुई।

ऑनर किलिंग से जुड़े कानून में बदलाव के बाद दोषी को उम्रकैद की सजा का प्रावधान किया गया। हालांकि यह तय करने का अधिकार जज को ही होगा कि क्या वाकई हत्या इज्जत के नाम पर की गई है। इसका मतलब है कि आरोपी हत्या की कोई और वजह बताकर उम्रकैद से बच सकता है। वसीम और अन्य आरोपियों के लिए जिस तरह का समर्थन देखा गया है, उससे पता चलता है कि ऐसी हत्याओं को समाज में किस तरह की स्वीकार्यता है। वसीम की मां अनवर माई को भी अपने बेटे के बरी होने की उम्मीद थी। अदालत के फैसले से पहले उन्होंने कहा, 'वह निर्दोष है। वह मेरी बेटी थी और यह मेरा बेटा है।'

बड़ी बात यह है कि पुलिस हिरासत में लिए जाने के बाद एक प्रेस कांफ्रेंस में वसीम ने सबके सामने अपनी बहन की हत्या की बात कबूली थी। वसीम के मुताबिक, कंदील ने सोशल मीडिया पर पोस्ट होने वाले अपने वीडियो और बयानों की वजह से बलोच नाम को 'बदनामÓ किया था। वसीम ने कहा कि उसी ने अपनी बहन को मारा था क्योंकि उसका 'व्यवहार बर्दाश्त के बाहर' हो रहा था। वसीम ने कंदील को सोते समय गला दबा कर मार डाला था। हत्या के बाद वसीम अपने पैतृक गांव शाह सदर दीन लौट गया और वहां उसने छिपने की कोई कोशिश नहीं की। वह आराम से गांव व आसपास मोटरसाइकिल से घूमता रहा। वह चाहता था कि लोग जा जाएं कि उसने क्या कारनामा किया है। दरसअल गांववाले कंदील के बारे में फब्तियां कसते थे कि बहन नाच गा रही है और भाई उस पैसे पर ऐश कर रहा है। कंदील को पाकिस्तान की किम करदाशियां कहा जाता था और सोशल मीडिया में मिली शोहरत के दम पर उन्होंने मॉडलिंग करियर बनाया लेकिन उन्हें आलोचना भी खूब झेलनी पड़ी। उन्होंने पाकिस्तान क्रिकेट टीम के लिए कपड़े उतारने की पेशकश भी की थी। अपने एक वीडियो में कंदील ने कहा कि वह पाकिस्तानी समाज की रुढि़वादी मानसिकता को बदलना चाहती हैं.

पाकिस्तान में ऑनर किलिंग को लेकर इतनी बहस के बावजूद वहां हर साल 500 महिलाओं को इस तरह मार दिया जाता है। उनकी हत्या करने वाले उनके परिवार वाले ही होते हैं।

Newstrack

Newstrack

Next Story