चूहों के आतंक से सहमा पाकिस्तान का ये शहर, कर चुका है सैकड़ों को घायल

Published by May 2, 2016 | 6:29 pm

पेशावर: यूं तो चूहों से जुड़ी कई रोचक किस्से हमने पढ़े हैं, लेकिन ये खबर कुछ हटकर है। पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वाह प्रांत की राजधानी पेशावर में चूहों ने इंसानों पर हमले शुरू कर दिए हैं। शहर के लेडी रीडिंग अस्पताल में 22 घायलों को इलाज चल रहा है जिन्हें चूहों ने काटा था। इस महीने अब तक 374 लोग चूहों के काटने से जख्मी हो गए हैं।

चूहे काटने के मामलों में भारी इजाफा
-पेशावर में चूहों के काटने के मामलों में खतरनाक स्तर तक इजाफा हुआ है। इससे शहर में डर का माहौल है।
-ये चूहे आम चूहों के मुकाबले काफी बड़े बताए जा रहे हैं।
-लेडी रीडिंग अस्पताल में रोज़ाना चूहों के काटने से घायल लोग इलाज के लिए पहुंच रहे हैं।
-अस्पताल के प्रवक्ता सैय्यद जमील शाह ने बताया कि इस महीने चूहों के काटने से घायल होने वालों में 174 बच्चे और 72 महिलाएं शामिल है।

गर्दन के ऊपर भी काटते हैं चूहे
-जमील के मुताबिक अगर चूहा गर्दन से नीचे काटे तो एक इंजेक्शन दिया जाता है।
-यदि गर्दन के ऊपर काटे तो चार इंजेक्शन कुछ दिनों के अंतराल पर दिए जाते हैं।
-उनके मुताबिक़ चूहों ने ज़्यादातर बच्चों को गर्दन से ऊपर काटा है।

अधिकतर मामले अंदरूनी इलाकों से
-उनका कहना था कि ज़्यादातर घायल अंदरूनी पेशावर के उन इलाक़ों से हैं जहां खाने और गल्ले की दुकाने हैं।
-पेशावर के रहने वाले राशिद महमूद को भी चूहे ने चेहरे पर काटा है।
-उन्होंने बताया कि रात और सुबह के वक़्त गली में चूहे ही नज़र आते हैं।

जमीन पर सोने वाले होते है शिकार
-चूहों के शिकार ज़्यादातर लोग वो हैं जो जमीन पर सोते हैं।
-हालांकि कुछ लोगों का ये भी कहना है कि ये चूहे चारपाई पर भी चढ़ जाते हैं.

अभियान बंद होने से बढ़े चूहे
जिला प्रशासन ने चूहा मारने के लिए जनता के सहयोग से एक अभियान भी चलाया था। जिसके तहत लोगों को प्रत्येक चूहा मारने के बदले तीस रुपए दिए जाते थे।
लेकिन बाद में ये चूहा मार अभियान बंद कर दिया गया।