Top

तुर्की में समुद्री थूक की सुनामी, देश की बढ़ी चिंता, कई समुद्री जीवों की मौत

Sea Snot: तुर्की की राजधानी इस्तांबुल (Istanbul) के पास स्थित मारमारा सागर (Marmara Sea) के तटों पर ये समुद्री थूक जमा हो गया है। जिसके चलते कई समुद्री जीवों की मौत हो गई है।

Network

NetworkNewstrack NetworkShreyaPublished By Shreya

Published on 9 Jun 2021 1:06 PM GMT

तुर्की में समुद्री थूक की सुनामी, देश की बढ़ी चिंता, कई समुद्री जीवों की मौत
X

सागर में जमा हुआ समुद्री थूक (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Sea Saliva: तुर्की में इन दिनों समुद्री थूक ने देश की चिंता बढ़ाकर रख दी है, जिसके बाद राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दोगन (President Recep Tayyip Erdogan) को इसे लेकर सामने आना पड़ा है। भले ही आपको सुनने में हैरानी हो रही हो, लेकिन ये सही है। समुद्र भी थूकता है, जिसे समुद्री स्नॉट (Sea Snot) या फिर समुद्री थूक (Sea Saliva) या समुद्री श्लेष्मा (Marine Mucilage) कहा जाता है।

बता दें कि यह एक क्रीम जैसा चिपचिपा पदार्थ होता है, जिससे आमतौर पर तो कोई नुकसान नहीं होता है, लेकिन इस बैक्टीरिया, वायरस पनपने की आशंका रहती है। इसके साथ ही इससे समुद्र के नीचे रोशनी और हवा नहीं जा पता है, जिससे समुद्री जीवों को नुकसान पहुंचता है और उनकी मौत होने लगती है।

राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दोगन (फाइल फोटो साभार- सोशल मीडिया)

राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दोगन ने कही ये बात

तुर्की में आए 'समुद्री थूक' की सुनामी को लेकर राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दोगन ने लोगों को आश्वासन दिया है कि वो उन्हें इस परेशानी से बचा लेंगे और इस समस्या का जल्द ही हल निकालेंगे। दरअसल, समुद्री थूक के चलते समुद्री जीवों और मछली व्यवसाय पर काफी असर पड़ रहा है। ऐसे में राष्ट्रपति ने इस समस्या का जल्द समाधान निकालने की बात कही है।

राष्ट्रपति ने कहा कि इस समस्या की जड़ है सीवेज का वो पानी जिसका ट्रीटमेंट नहीं किया जा रहा है और इसे सीधे समुद्र में डाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि अगर यह थूक काला सागर तक पहुंच गई तो समस्या और भी विकराल हो सकती है। इसके साथ ही राष्ट्रपति ने कहा है कि वो समुद्री थूक किस वजह से सामने आया है, इस बात का पता लगवा रहे हैं। अगर ये पॉल्यूशन के चलते हुआ है तो उसका हल निकाला जाएगा।

मारमारा सागर के तटों पर जमा हुआ समुद्री थूक

जानकारी के लिए आपको बता दें कि तुर्की की राजधानी इस्तांबुल (Istanbul) के पास स्थित मारमारा सागर (Marmara Sea) के तटों पर ये समुद्री थूक जमा हो गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इतिहास में पहली बार इतनी बड़ी मात्रा में समुद्री थूक जमा हुआ है। इसे देखकर ऐसा लगता है, जैसे यह समुद्री थूक की सुनामी हो।

समुद्री थूक तब बनता है जब सागरों में मौजूद एल्गी में पोषक तत्वों की मात्रा बढ़ जाती है। ऐसा जलीय प्रदूषण और क्लाइमेट चेंज के चलते देखा जाता है। वहीं, सागर में जमे समुद्री थूक की वजह से लोग तटों के पास नहीं जा रहे हैं। साथ ही पर्यटकों को भी रोक दिया गया है। इससे समुद्री जीवों और मछली व्यवसाय पर भी काफी असर पड़ रहा है।

कई समुद्री जीवों की मौत

वहीं, गोताखोरों ने जांच के बाद बताया कि समुद्री थूक के चलते मारमारा सागर के अंदर कई समुद्री जीव मर गए हैं। क्योंकि जीवों के पास समुद्री थूक की वजह से रोशनी और हवा नहीं पहुंच पा रही है। तुर्की के मरीन रिसर्च फाउंडेशन में प्रोफेसर बेराम ओजतर्क के मुताबिक, समुद्री थूक बढ़ने की वजह से कई प्रजातियों के समुद्री जीव मारे गए हैं।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story