×

US की बड़ी तैयारी: दुनिया में 1 घंटे में कहीं भी ऐसे पहुंचा देगा हथियार, कांपे पाक-चीन

अमेरिकी सेना अमेरिकी प्राइवेट अंतरिक्ष एजेंसी स्पेसएक्स के साथ मिलकर एक खास रॉकेट का निर्माण करने की तैयारी कर रही है। ये रॉकेट दुनिया भर में कहीं भी हथियारों को सिर्फ 60 मिनट यानी 1 घंटे में पहुंचा सकता है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 12 Oct 2020 3:47 PM GMT

US की बड़ी तैयारी: दुनिया में 1 घंटे में कहीं भी ऐसे पहुंचा देगा हथियार, कांपे पाक-चीन
X
अमेरिकी सेना प्राइवेट अंतरिक्ष एजेंसी स्पेसएक्स के साथ मिलकर एक रॉकेट का निर्माण करने की तैयारी कर रही है। ये रॉकेट दुनिया में कहीं भी हथियारों को सिर्फ 60 मिनट में पहुंचा सकता है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: दुनिया में कई देशों के लिए चीन खतरा बन गया है। चीन के इस खतरे से निपटने के लिए अमेरिका ने बड़ी तैयारी की है। इसी के तहत अमेरिका की तरफ से अपनी सैन्य ताकत को बढ़ाने का ऐलान किया गया है।

हाल ही में यूएस नौसेना के लिए बैटल फोर्स 2045 की घोषणा की गई थी। इसके बाद अब अमेरिका ने ट्रांसपोर्टेशन सिस्टम को मजबूत बनाने का निर्णय लिया है।

अमेरिकी सेना अमेरिकी प्राइवेट अंतरिक्ष एजेंसी स्पेसएक्स के साथ मिलकर एक खास रॉकेट का निर्माण करने की तैयारी कर रही है। ये रॉकेट दुनिया भर में कहीं भी हथियारों को सिर्फ 60 मिनट यानी 1 घंटे में पहुंचा सकता है। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने कुछ दिन पहले ही एलन मस्क के कंपनी स्पेसएक्स के साथ मिसाइल ट्रैकिंग सैटेलाइट बनाने का सौदा किया है। यह सौदा दोनों के बीच 149 मिलियन डॉलर का है।

ये भी पढ़ें...मॉडल्स और करोडों का होटल: सऊदी प्रिंस की ऐसी भव्य पार्टी, जानकर हो जाएंगे हैरान

यूएस ट्रांसपोर्ट कमांड ने की पुष्टि

यूएस ट्रांसपोर्ट कमांड के प्रमुख जनरल स्टीफन लियोंस ने नए सौदे के बारे में पुष्टि की है। जनरल लियोन ने बताया कि स्पेसएक्स अब इस महत्वाकांक्षी परियोजना की तकनीकी चुनौतियों और लागतों का आकलन करेगा। जनरल लियोंस का कहना है कि इस तकनीक का शुरुआती परीक्षण 2021 में आयोजित हो सकता है।

C-17 Globemaster

ये भी पढ़ें...सचिन की बेटी सारा: टूर्नामेंट की वजह से मिला नाम, दिलचस्प हैं कई किस्से…

उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि मिलिट्री का हैवी ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट सी-17 ग्लोबमास्टर एक बार में जितना भार उठा सकता है उतना ही भार एक घंटे के अंदर दुनिया के किसी भी कोने में पहुंचाया जा सकता है। अमेरिकी वायु सेना की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, सी -17 ग्लोबमास्टर 74,000 किलोग्राम से अधिक का पेलोड ले जा सकता है।

ये भी पढ़ें...खदेड़ी गई चीनी सेना: हथियारों के साथ घुस रहा था जहाज, दौड़ा लिया इस देश ने

12070 किमी प्रति घंटा होगी स्पीड

सी -17 ग्लोबमास्टर की तुलना में स्पेसएक्स एक हाई-स्पीड रॉकेट बनाने की तैयारी कर रहा है। यह रॉकेट 12070 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भर सकता है। इसका मतलब है कि यह रॉकेट एक बार में सी-17 ग्लोबमास्टर के जितना कार्गो उठाकर अमेरिका में फ्लोरिडा से अफगानिस्तान 1 घंटे में पहुंच सकता है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story