×

जानिए कैसे, अब स्टील से भी मजबूत लकड़ी 'सुपर वुड' आई सामने

Rishi
Updated on: 10 Feb 2018 11:59 AM GMT
जानिए कैसे, अब स्टील से भी मजबूत लकड़ी सुपर वुड आई सामने
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नीलमणि लाल नीलमणि लाल

चिनार (मैपल), सिन्दूर (ओक), सागौन (टीक) जैसी लकड़ी की कुछ किस्में अपनी मजबूती के लिए जानी जाती हैं और यही वजह है कि इन लकड़ियों से बने सामान बहुत महंगे होते हैं। अब वैज्ञानिकों ने इसका तोड़ निकाल लिया है। जिसके तहत किसी भी प्रकार की लकड़ी को एक आसान और सस्ते प्रोसेस के जरिये स्टील और टाइटेनियम से भी मजबूत बनाया जा सकता है। ऐसी प्रोसेस्सेड लकड़ी का प्रयोग इमारत बनाने ऑटोमोबाइल निर्माण के अलावा बुलेट प्रूफ सामग्री बनाने में किया जा सकता है।

लकड़ी का इस्तेमाल अति प्राचीन काल से इंसान की जरूरत के तमाम सामान में किया जाता रहा है। लेकिन बिना प्रोसेस की लकड़ी में मजबूती नहीं होती। जिस कारण बहुत से लकड़ी का इस्तेमाल मकान बनाने आदि में नहीं किया जा सकता। लकड़ी की ताकत बढाने के लिये वैज्ञानिकों ने बहुत प्रयास किये हैं। जिसमें लकड़ी को कॉम्प्रेस यानी दबा कर उसके रेशों को आपस में मिला देना शामिल है। लेकिन नम वातावरण में ऐसी लकड़ी फिर फूल कर अपने असली शेप में आ जाती है। अमेरिका की मेरीलैंड यूनिवर्सिटी के एक वैज्ञानिक ने लकड़ी को मजबूती देने का एक नया उपाय ढूंढा है। इसमें लकड़ी को सोडियम हाइड्रोऑक्साइड और सोडियम सल्फाईट के घोल में उबाला जाता है। इसके बाद लकड़ी को तब तक दबाया जाता है जब तक कि उसकी सेल्स की दीवारें ध्वस्त हो जायें। लकड़ी के दबे रहने की अवस्था में ही उसे गर्म किया जाता है।

ये भी देखें : जानिए क्यों, स्मार्टफोन नहीं सामाजिक मेलमिलाप का होता है एडिक्शन

इस प्रक्रिया में लकड़ी के भीतर हाइड्रोजन अणु आपस में एक रासायनिक प्रक्रिया से चिपक जाते हैं। वैज्ञानिकों ने पाया है कि इस तरीके से लकड़ी अपनी प्राकृतिक अवस्था से तीन गुनी सघन हो जाती है। प्रोसेस की हुयी लकड़ी मजबूत ही नहीं बल्कि खरोंच, नमी और चिटकने प्रतिरोधी हो जाती है।

वैज्ञानिकों के अनुसार प्रोसेस की हुयी लकड़ी की पांच परतें सैंडविच की भांति रखी जाएँ तो इससे बख्तरबंद बनाया जा सकता है। जो बहुत सस्ता पडेगा। वैज्ञानिकों के अनुसार लकड़ी को प्रोसेस करने का ये क्रांतिकारी तरीका है। जो निर्माण क्षेत्र में व्यापक बदलाव ला सकता है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story