तुर्की प्रेसिडेंट ने की घोषणा- तीन महीने के लिए देश में इमरजेंसी लागू

Published by July 21, 2016 | 3:03 pm

इस्‍तांबुल: तुर्की के प्रेसिडेंट रेकप तैयप एर्डोगान ने बुधवार को तीन महीने के लिए देश में इमरजेंसी की घोषणा की है। बता दें, कि एर्डोगान ने यह घोषणा पिछले सप्ताह तुर्की में हुई तख्तापलट की विफल कोशिशों के बाद की है।  राष्‍ट्रपति पैलेस में एर्डोगान की अध्‍यक्षता में तुर्की की नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल (एनएससी) और कैबिनेट की लंबी बैठकों के बाद यह घोषणा की गई। हालांकि अंतरराष्‍ट्रीय कानूनों का अनुपालन करते हुए इससे वित्‍तीय और व्‍यावसायिक गतिविधियों पर पाबंदी नहीं लगाई जाएगी। गौरतलब है कि तख्तापलट की नाकाम कोशिश के बाद तुर्की की सरकार ने बड़े पैमाने पर गिरफ्तारियां भी की थी।

इतिहास की दिशा बदलने वाला दिन
-एर्डोगान ने इस घटना के लिए पीछे जिम्‍मेदार टेरेरिस्ट ग्रुप का पता लगाने का भी संकल्‍प लिया है।
-एर्डोगान ने कहा कि इस तख्‍तापलट की कोशिश करने वाले टेरेरिस्ट ग्रुप के सभी तत्‍वों को तत्‍काल रूप से हटाने के लिए इमरजेंसी घोषित करना जरूरी था।
-प्रेसिडेंट एर्डोगान ने तुर्की की जनता से तख्तापलट  को नाकाम करने के लिए शुक्रिया जताया है।
-उन्होंने कहा कि ये इतिहास की दिशा बदलने वाला दिन था।

यह भी पढ़ें … तुर्की के एयरफोर्स चीफ ने कबूला- तख्तापलट की साजिश में था शामिल

धार्मिक नेता जिम्मेदार 
-प्रेसिडेंट एर्डोगान ने तख्तापलट के लिए अपने प्रतिद्वंद्वी और अमेरिका में रह रहे धार्मिक नेता फतुल्‍लाह गुलेन को ज़िम्मेदार ठहराया था।
-एर्डोगान ने कहा कि इमरजेंसी लागू होने से फतुल्‍लाह गुलेन के समर्थकों पर कार्रवाई की जा सकेगी।

पहले भी लग चुकी है इमरजेंसी
-गौरतलब है कि है कि इससे पहले साल 1987 में देश के साउथ-ईस्ट प्रांतों में कुर्द लड़ाकों से लड़ने के लिए उन जगहों पर इमरजेंसी घोषित की गई थी।
-साल 2002 में उसको अंतिम रूप से हटाया गया था।