×

इस देश ने खोज निकाला कोरोना का नया इलाज, 73 संक्रमितों को ठीक करने का दावा

संयुक्‍त अरब अमीरात (UAE) ने कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए एक नई तकनीक खोज निकालने का दावा किया है। यूएई के मुताबिक़, देश के रिसर्च सेंटर ने इस महामारी के इलाज के लिए नई तकनीक विकसित की, जिसे अब तक 73 मरीजों को ठीक किया जा चुका है।

Shivani Awasthi
Updated on: 1 May 2020 5:56 PM GMT
इस देश ने खोज निकाला कोरोना का नया इलाज, 73 संक्रमितों को ठीक करने का दावा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से निपटने और संक्रमितों को बचाने के लिए दुनिया के तमाम देश वैक्सीन, दवाएं और कई तरह के ट्रीटमेंट पर काम कर रहे हैं। इसी कड़ी में अब संयुक्‍त अरब अमीरात (UAE) ने कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए एक नई तकनीक खोज निकालने का दावा किया है। यूएई के मुताबिक़, देश के रिसर्च सेंटर ने इस महामारी के इलाज के लिए नई तकनीक विकसित की, जिसे अब तक 73 मरीजों को ठीक किया जा चुका है।

विदेश मंत्रालय की ओर से ट्वीट पर दी गई जानकारी

यूएई के विदेश मंत्रालय के स्‍ट्रै‍टेजिक कम्‍यूनिकेशंस विभाग की डायरेक्‍टर हेंड अल कतीबा ने इस बात की जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, अबू धाबी स्टेम सेल सेंटर ने कोविड-19 के लिए एक नया इलाज विकसित किया है। इस वायरस से लड़ने के लिए विश्व भर में गेम चेंजर साबित होगा।



ये भी पढ़ेंः यहां खुलेंगी शराब की दुकानें, इन नियमों का करना होगा सभी को पालन

दावा- नई तकनीक से अब तक 73 कोरोना मरीज हुए ठीक

उन्होंने दावा किया कि इस तकनीकि से अब तक देश में 73 कोरोना वायरस संक्रमितों को ठीक किया जा चुका है। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि इस तकनीक को लेकर और अधिक ट्रायल किये जा रहे हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि आने वाले हफ्तों में इस तकनीक के जरिये और अधिक बेहतर इलाज किया जा सकेगा।



ये भी पढ़ेंः अमेरिका का ‘मैनहैटन प्रोजेक्ट’: है बेहद खुफिया, ट्रंप खुद कर रहे निगरानी

ऐसे होता है इस तकनीक से कोरोना मरीजों का इलाज

डायरेक्टर ने नई तकनीक से इलाज का तरीका बताते हुए ट्वीट पर लिखा, इस इलाज में रोगी के खून से स्टेम कोशिकाओं को निकाला जाता है और उन्हें फिर से संक्रिय करके रोगी के फेफड़ों में डाला जाता है। इस तरह कोशिकाओं को पुनर्जीवित किया जाता है। इस तकनीक से फेफड़ों की क्षमता फिर से बढ़ जाती है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story