Top

अमेरिका ने भारत को दी ट्रेड वॉर की धमकी, डिजिटल सर्विस टैक्स पर उठाया ये कदम

आज की बड़ी खबर आ रही है। अमेरिका के प्रेसिडेंट जो बिडेन ने भारत के खिलाफ ट्रेड वॉर छेड़ने की धमकी दी है।

Neel Mani Lal

Neel Mani LalWritten By Neel Mani LalVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 8 Jun 2021 5:04 AM GMT

अमेरिका ने भारत को दी ट्रेड वॉर की धमकी, डिजिटल सर्विस टैक्स पर उठाया ये कदम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: अमेरिका के प्रेसिडेंट जो बिडेन ने भारत के खिलाफ ट्रेड वॉर छेड़ने की धमकी दी है। अमेरिका ने कहा है कि अगर भारत ने बड़ी टेक कंपनियों पर लगाया डिजिटल टैक्स नहीं हटाया तो भारत से आने वाले सामानों पर पर 25 फीसदी शुल्क ठोंक दिया जाएगा। भारत को दिसंबर तक की मोहलत दी गई है।

अमेरिका की ट्रेड रिप्रेजेंटेटिव कैथरीन टाय ने कहा है कि भारत से इम्पोर्ट होने वाले 26 सामानों पर शुल्क 25 फीसदी बढ़ा दिया जाएगा। लेकिन ये फैसला दिसंबर तक लागू नहीं किया जाएगा। भारत के इन 26 आइटम में बासमती चावल, ज्वेलरी, फर्नीचर आदि शामिल हैं।

भारत ने पिछले साल अप्रैल में अमेज़न, फेसबुक और गूगल जैसी विदेशी टेक कंपनियों पर दो फीसदी डिजिटल सर्विस टैक्स लगा दिया था। इस कदम का तत्कालीन प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प ने सख्त विरोध किया था। अब प्रेसिडेंट बिडेन ने भी वही रवैया अपनाया है। अमेरिका के ट्रेड रिप्रेजेंटेटिव कार्यालय ने कहा है कि भारत का डिजिटल सर्विस टैक्स औचित्यहीन और मनमाना है। ये अमेरिकी व्यापार पर लगाम लगाता है, उस पर बोझ डालता है।

बदले की कार्रवाई

भारत से होने वाले इम्पोर्ट पर शुल्क की धमकी सीधे सीधे बदले की कार्रवाई है। अमेरिका के ट्रेड ऑफिस ने कहा भी है कि भारत के डिजिटल सर्विस टैक्स का जितना बोझ अमेरिकी कम्पनियों पर पड़ेगा, उसके बराबर की रकम आयात शुल्क बढ़ा कर वसूल ली जाएगी। भारत के डिजिटल टैक्स का अनुमान करीब 55 मिलियन डॉलर प्रतिवर्ष है।

बिडेन प्रशासन की इस नई कार्रवाई से भारत - अमेरिका के बीच 2018 से शुरू हुए ट्रेड वॉर में एक नया मोर्चा खुल गया है। 2018 में प्रेसिडेंट ट्रम्प ने भारत से आने वाली स्टील और अलमुनियम पर 25 फीसदी शुल्क लगा दिया था।

इसके बाद 2019 में ट्रम्प ने भारत के कुछ निर्यात को मिली विशेष छूट वापस ले ली थी।

दोनों देशों के बीच व्यापारिक तनातनी का मसला जी20 की बैठक में उठ सकता है। ये बैठक इसी महीने होने वाली है।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story