×

पाकिस्तान ने यहां-यहां छिपाए परमाणु बम, ऐसे हुआ पर्दाफाश

जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद से भारत और पाकिस्तान तनाव बढ़ गया है। आए दिन पाकिस्तानी नेता भारत परमाणु हमले की गीदड़भभकी देते रहते हैं। लेकिन क्या आपको पता पाकिस्ना अपने घातक परमाणु हथियारों की सुरक्षा कैसे करता है और कौन सी जगहों पर इन्हें छुपा कर रखा है?

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 5 Sep 2019 3:03 PM GMT

पाकिस्तान ने यहां-यहां छिपाए परमाणु बम, ऐसे हुआ पर्दाफाश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद से भारत और पाकिस्तान तनाव बढ़ गया है। आए दिन पाकिस्तानी नेता भारत परमाणु हमले की गीदड़भभकी देते रहते हैं। लेकिन क्या आपको पता पाकिस्ना अपने घातक परमाणु हथियारों की सुरक्षा कैसे करता है और कौन सी जगहों पर इन्हें छुपा कर रखा है?

क्या कोई पता लगा सकता है कि कहां पर परमाणु बम रखा हुआ। यह किसी भी देश का बेहद गोपनीय मामला है और वह ऐसी सीक्रेट लोकेशन्स का कभी पता नहीं चलता है।

यह भी पढ़ें…आतंकियों के लगे कैंप! कश्मीर पर रच रहे ऐसी बड़ी साज़िश

रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान के पास 160 परमाणु हथियार हैं जबकि भारत के पास 140 परमाणु हथियार हैं। पाकिस्तान के परमाणु हथियारों से दुनिया में सबसे ज़्यादा खतरा किसी देश को है, तो वह भारत ही है। भारत के लिए ये जानना हमेशा फायदेमंद ही रहेगा कि पाकिस्तान अपने इन हथियारों को कहां छुपाकर रखता है।

हालांकि दो साल पहले भारतीय सेना ने कहा था कि वह पाकिस्तान के इस भंडार को ध्वस्त करने में सक्षम है। आईए जानते हैं कि पाकिस्तान कहां कहां परमाणु हथियारों को रखा हुआ है।

यह भी पढ़ें…250 ग्राम का परमाणु बम! पाकिस्तान का ये दावा, सच्चा या झूठा

इस बारे में आई एक रिपोर्ट ने ये 9 जगहें चिह्नित किया गया था और कहा गया था कि यहां पाकिस्तान के परमाणु हथियारों का संरक्षण कियाजा सकता है।

-सिंध स्थित अकरो में अंडरग्राउंड स्टोरेज।

-पंजाब प्रांत के गुजरांवाला में रिमोट डिपो से जुड़ा स्टोरेज।

-सिंध स्थित कराची के मसरूर एयरबेस/डिपो में परमाणु बमों का स्टोरेज।

-बलूचिस्तान स्थित खुज़दार में अंडरग्राउंड स्टोरेज।

-पंजाब स्थित फतेहगंज में नेशनल डेवलपमेंट कॉम्प्लेक्स में वॉरहेड स्टोरेज और एसएसएम लॉंचर संग्रहण।

-सिंध स्थित पानो अकील में रिमोट डिपो से जुड़ा स्टोरेज।

-खैबर पख्तूनख्वा स्थित तारबेला में वॉरहेड का अंडरग्राउंड डिपो।

-पंजाब स्थित सरगोढ़ा डिपो, जो सरगोढ़ा एयरबेस के पास है, यहां एफ16 के लिए बमों का स्टोरेज।

-पंजाब के ही वाह ऑर्डिनेन्स फैसिलिटी में वॉरहेड निर्माण, असेम्बलिंग और विघटन केंद्र।

यह भी पढ़ें…पी चिदंबरम को लगा बड़ा झटका, कोर्ट ने सुनाया नया फैसला

ऐसे खुला राज

फेडरेशन ऑफ अमेरिकन साइंटिस्ट यानी एफएएस की तरफ से कहा गया था कि पाकिस्तान अपनी परमाणु शक्ति लगातार बढ़ा रहा है और अपने इन हथियारों को कई जगहों पर तैनात कर रहा है, लेकिन ये लोकेशन्स ठीक ठीक जान पाना मुश्किल है। हैन्स क्रिस्टेन्सन के साथ रॉबर्ट एस नॉरिस और जूलिया डायमंड ने टेलर एंड फ्रांसिस ऑनलाइन पर एक लेख में पाकिस्तान के प​रमाणु हथियारों की लोकेशनों के बारे में अनुमान लगाया था।

ये रिपोर्ट जारी करते हुए बताया गया था कि वैज्ञानिकों ने इन लोकेशन्स के अनुमान के लिए कमर्शियल सैटेलाइट तस्वीरों, विशेषज्ञों के अध्ययनों और स्थानीय खबरों व लेखों को आधार बनाया था. वैज्ञानिकों की इस स्टडी के आधार पर ही मीडिया में खबरें भी छपी थीं।

यह भी पढ़ें…अहमदाबाद में गिरी तीन मंजिला इमारत, 1 की मौत, मचा हाहाकार

यहा होता बनते हैं परमाणु हथियार

इन घातक शस्त्रों और उसके मटेरियल का निर्माण पाकिस्तान के निलोर, काहूटा और खुशाब न्यूक्लियर कॉम्प्लेक्स में होने की खबरें हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story