Top

कोरोना का दूसरा साल घातक: WHO की बड़ी चेतावनी, अब वायरस ज्यादा खतरनाक

देश के कई शहरों में कोविशील्ड की वैक्सीन भी पहुंचाई जा रही है। इन सब तैयारियों के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को लेकर एक ऐसी बात कही है, जिसके बाद लोगों की चिंता और बढ़ जाएगी। WHO ने कहा है कि कोरोना महामारी का दूरसरा साल पहले की तुलना में अधिक कठिन हो सकता है।

Ashiki Patel

Ashiki PatelBy Ashiki Patel

Published on 14 Jan 2021 4:53 AM GMT

कोरोना का दूसरा साल घातक: WHO की बड़ी चेतावनी, अब वायरस ज्यादा खतरनाक
X
कोरोना वायरस पर WHO ने फिर चेताया, पहले से अधिक कठिन हो सकता है दूसरा साल
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: लंबे समय से कोरोना महामारी की मार झेल रही दुनिया को अब थोड़ी राहत मिलनी शुरू हुई है। साथ ही दुनिया के कई देशों में वैक्सीनेशन भी शुरू हो चुका है। वहीं भारत में भी ड्राई रन के बाद 16 जनवरी से कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण का आगाज होने जा रहा है। इसे लेकर देशभर में तैयारी भी पूरी हो चुकी है।

WHO ने कही चिंता बढ़ाने वाली बात

देश के कई शहरों में कोविशील्ड की वैक्सीन भी पहुंचाई जा रही है। इन सब तैयारियों के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को लेकर एक ऐसी बात कही है, जिसके बाद लोगों की चिंता और बढ़ जाएगी। WHO ने कहा है कि कोरोना महामारी का दूरसरा साल पहले की तुलना में अधिक कठिन हो सकता है।

ये भी पढ़ें: ट्रंप पर दूसरी बार चलाया गया महाभियोग, इस दिन होगा आखिरी फैसला

पहले से अधिक कठिन हो सकता है दूसरा साल

WHO हेल्थ इमर्जेंसी प्रोग्राम के कार्यकारी निदेशक माइकल रेयान ने कहा कि कोरोनो वायरस महामारी का दूसरा वर्ष ट्रांसमिशन डायनामिक्स पर पहले की तुलना में अधिक कठिन हो सकता है। रयान ने बुधवार देर शाम एक सवाल-जवाब सत्र के दौरान कहा कि हम दूसरे वर्ष में जा रहे हैं, यह ट्रांसमिशन डायनेमिक्स और कुछ मुद्दों को देखते हुए कठिन हो सकता है।



जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के मुताबिक विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 11 मार्च को कोविड-19 के संक्रमण को एक महामारी घोषित किया था। आज तक दुनिया में 9.21 करोड़ से अधिक लोग कोरोनो वायरस से संक्रमित हैं। इनमें से 19.7 लाख मरीजों की स्थिति अधिक घातक हैं।

ये भी पढ़ें: इस एक गलती की वजह से कंगाल हो गया शख्स, 1800 करोड़ बिटक्वॉइन का था मालिक

Ashiki Patel

Ashiki Patel

Next Story