×

World Refugee Day: कौन होते हैं रिफ्यूजी? जानें शरणार्थी दिवस का उद्देश्य

World Refugee Day: दुनियाभर में शरणार्थियों को सम्मानित करने, जागरूकता बढ़ाने और समर्थन करने के लिए हर साल 20 जून को वर्ल्ड रिफ्यूजी डे मनाया जाता है।

Ramkrishna Vajpei

Written By Ramkrishna VajpeiPublished By Shreya

Published on 20 Jun 2021 7:05 AM GMT

World Refugee Day: क्या है इस दिवस का उद्देश्य, जानें इसके बारे में
X

शरणार्थियों की फाइल फोटो (साभार- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

World Refugee Day: विश्व शरणार्थी दिवस, प्रत्येक वर्ष 20 जून को मनाया जाने वाला अंतर्राष्ट्रीय पर्व है। यह दिवस दुनिया भर में शरणार्थियों की स्थिति के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए समर्पित है।

चार दिसंबर 2000 को संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly) ने निर्णय लिया था कि अब से 20 जून को विश्व शरणार्थी दिवस (World Refugee Day) के रूप में मनाया जाएगा। सभी शरणार्थियों को सम्मानित करने, जागरूकता बढ़ाने और समर्थन करने के लिए यह दिन समर्पित है।

गैर मुस्लिम लोगों को भारतीय नागरिकता देने का फैसला

हाल ही में भारत सरकार ने दूसरे देश से आए गैर-मुस्लिम शरणार्थियों के लिए बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत गृह मंत्रालय ने देश के नागरिकता कानून-1955 और उसके तहत 2009 में बनाए गए नियमों के अंतर्गत निर्देश जारी कर तत्काल क्रियान्वयन के लिए अधिसूचना जारी की है, जिसके तहत इन गैर मुस्लिम लोगों को भारतीय नागरिकता देने का फैसला किया गया है।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने 2019 में अमल में आए नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के तहत अभी नियम-कायदे तय नहीं किए हैं। इस कानून का देश के कई हिस्सों में जबरदस्त विरोध हुआ था। अब केंद्र सरकार ने 28 मई से इससे संबंधित आवेदन आमंत्रित किये हैं।

ये शरणार्थी पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से ताल्लुक रखने वाले गैर-मुस्लिम हैं। इन शरणार्थियों से भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं, जो गुजरात, राजस्थान, छत्तीसगढ़, हरियाणा तथा पंजाब के 13 जिलों में रह रहे हैं।

इन जिलों के गैर-मुस्लिम प्राप्त कर सकेंगे भारतीय नागरिकता

इन निर्देशों के तहत मोरबी, राजकोट, पाटन, वडोडरा (गुजरात), दुर्ग और बलोदाबाजार (छत्तीसगढ़), जालौर, उदयपुर, पाली, बाड़मेर, सिरोही (राजस्थान), फरीदाबाद (हरियाणा) तथा जालंधर (पंजाब) में रह रहे पाकिस्तान, अफगानिस्तान व बांग्लादेश के गैर-मुस्लिम भारतीय नागरिकता प्राप्त कर सकेंगे।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story