Top

फिर विश्व युद्ध का खतरा: चार हफ्तों में मचेगी तबाही, चेतावनी हुई जारी

सैन्य विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि एक महीने के अंदर दुनिया को कोरोना महामारी के बीच विश्व युद्ध का सामना करना पड़ेगा।

Shreya

ShreyaPublished By Shreya

Published on 6 April 2021 10:40 AM GMT

फिर विश्व युद्ध का खतरा: चार हफ्तों में मचेगी तबाही, चेतावनी हुई जारी
X

फिर विश्व युद्ध का खतरा: चार हफ्तों में मचेगी तबाही, चेतावनी हुई जारी (सांकेतिक फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: दुनिया पर एक बार फिर से विश्व युद्ध का खतरा मंडरा रहा है। यहां तक यह चेतावनी भी दे दी गई है कि अगले चार सप्ताह में दुनिया विश्व युद्ध की गवाह बनेगी। ये चेतावनी दी है रूस के सैन्य विशेषज्ञों ने। साथ ही इस बात की भी चिंता जताई जा रही है कि कोरोना वायरस संकट के बीच अगर वर्ल्ड वॉर हुआ तो इसके परिणाम बहुत ज्यादा भयावह होंगे।

रूस-यूक्रेन सीमा पर तनाव के बाद बढ़ा खतरा

दरअसल, रूस-यूक्रेन सीमा पर तनाव काफी ज्यादा बढ़ता जा रहा है, जिससे विश्व युद्ध का खतरा मंडराने लगा है। बता दें कि सीमा पर बढ़ते तनाव को देखते हुए रूस ने हाल ही में विवादित सीमा पर चार हजार सैनिक भेजे हैं। रूसी सेना की हलचल से यूरोप हाई अलर्ट पर मोड पर आ गया है। साथ ही विश्व युद्ध का खतरा भी गहरा गया है।

(सांकेतिक फोटो- सोशल मीडिया)

महामारी के बीच भयंकर विश्व युद्ध का सामना

इस बीच सैन्य विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि अगर हालात नहीं सुधरते हैं तो एक महीने के अंदर दुनिया को कोविड-19 महामारी के बीच भयंकर विश्व युद्ध का सामना करना पड़ेगा। मीडिया रिपोर्ट्स में स्वतंत्र रूसी सैन्य विश्लेषक पावेल फेलगेनहर के हवाले से लिखा गया है कि स्थिति को देखते हुए यह कहना गलत नहीं होगा कि अगले कुछ सप्ताह में विश्व के सामने यूरोपीय या वर्ल्ड वॉर जैसा बड़ा खतरा सामने आने वाला है।

विश्व युद्ध से पूरा विश्व होगा प्रभावित

उन्होंने कहा कि खतरा तेजी से बढ़ रहा है। भले ही इसे लेकर मीडिया में ज्यादा बातें न हो रही हों, लेकिन बहुत ही बुरे संकेत दिखाई दे रहे हैं। पावेल फेलगेनहर ने आगे कहा कि अगर विश्व युद्ध हुआ तो केवल दो देशों तक ही सीमित रहने वाला नहीं है, बल्कि इससे यूरोपीय या विश्व भी प्रभावित होगा।

बता दें कि रूसी सैन्य विश्लेषक का ये बयान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा चार हजार रूसी सैनिकों को विवादित सीमा पर भेजने के बाद आया है। वहीं, रूसी सेना के हलचल के बाद यूरोप ने भी अपनी सेना को हाई अलर्ट कर दिया है।

Shreya

Shreya

Next Story