हल्दी, दूध या सफाई, जानिए पवित्र सावन मास में कौन सा काम है निषेध…

कच्चा दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। ये भी कहा जाता है कि सावन में कढ़ी नहीं खानी चाहिए। ये चीजें वात दोष बढ़ा देते हैं जिससे सेहत से जुड़ी कई समस्याएं हो सकता हैं। इन सभी चीजों को भगवान को तो अर्पित करनी चाहिए लेकिन इनका सेवन नहीं करना चाहिए।  

जयपुर: सावन  माह भगवान शिव का माह है। इसके  हर दिन व हर सोमवार को श्रीगणेशजी, शिव जी, पार्वती जी और नंदी की पूजा करें और शिवजी की पूजा में जल, दूध, चीनी, घी, शहद, पंचामृत, कलावा, वस्त्र यज्ञोपवि, चन्दन, रोली, चावल, फूल, बिल्ब पत्र, दूर्वा, आक, धतूरा कमलगट्टा, पान, सुपारी, लौंग, इलायची, पंचमेवा, धूप, दीप, दक्षिणा कपूर से आरती करनी चाहिए। लेकिन ऐसी चीजें जिनका इस्तेमाल सावन में नहीं करना चाहिए। सावन में पूजा पाठ तो करना ही चाहिए, इसके अतिरिक्त कुछ कामों को निषेध माना जाता है।जानते हैं क्या….

*सावन में हरी पत्तेदार सब्जियां बिल्कुल नहीं खानी चाहिए। ये वात को बढ़ाने का काम करती हैं। इसके अलावा मानसून के दिनों में इनमें बैक्टेरिया और कीड़े भी देखे जा सकते हैं। इसलिए सावन में हरी पत्तेदार सब्जियां खाने की मनाही है।

*दूध के सेवन से बचें। दूध और डेयरी प्रॉडक्ट जैसे दूध, दही पनीर, कच्चा दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। ये भी कहा जाता है कि सावन में कढ़ी नहीं खानी चाहिए। ये चीजें वात दोष बढ़ा देते हैं जिससे सेहत से जुड़ी कई समस्याएं हो सकता हैं। इन सभी चीजों को भगवान को तो अर्पित करनी चाहिए लेकिन इनका सेवन नहीं करना चाहिए।

 

16 जुलाई: लगने वाले चंद्रग्रहण के कारण कैसा रहेगा मंगलवार का दिन, पढ़िए पंचांग व राशिफल

* बैंगन का प्रयोग कदापि न करें। बैंगन नहीं खाया जाता। ऐसा माना जाता है कि बैंगन अशुद्ध है। इसके अलावा कार्तिक में भी बैंगन नहीं खाया जाता। अगर दूसरा पक्ष देखा जाए तो बारिश के दौरान बैंगन में कीड़े ज्यादा लग जाते हैं जो नुकसान पहुंचा सकते हैं।

*बुरे विचार मन में न आने दें।मन बेकार की बातों में ही उलझा रहेगा। शास्त्रों में स्त्रियों के लिए गलत बातें सोचना महापाप बताया गया है।

*बड़े-बुजुर्ग, बहन, गरीब, लाचार व्यक्ति एवं गुरु का अपमान न करें।शिवजी ऐसे लोगों से प्रसन्न नहीं होते हैं जो यहां बताए गए लोगों का अपमान करते हैं। ये सभी लोग हर स्थिति में सम्मान के पात्र हैं, हमेशा इनका सम्मान करें।

*शिवलिंग पर हल्दी न चढ़ाएं।शिवलिंग पर हल्दी नहीं चढ़ानी चाहिए। हल्दी जलाधारी होने के साथ-साथ हल्दी स्त्री से संबंधित वस्तु है। शिवलिंग पुरुष तत्व से संबंधित है और ये शिवजी का प्रतीक है।

*मांस व शराब का सेवन न करें।सावन के महीने में इंसान को मांस के सेवन से दूर रहने को कहा जाता है, इसके पीछे बहुत सारे धार्मिक कारण हैं लेकिन इसका वैज्ञानिकों की ओर से सटिक वजह है कि यह मौसम बारिश का होता है, इस दौरान वातावरण में काफी कीड़े-मकोड़े सक्रिय हो जाते हैं जो कि जानवरों के शरीर पर भी पाये जाते हैं, जिनका सेवन करना बीमारियों को दावत देना होता है।

सावन सावन में शिव का यह मंत्र आपको देगा कई गुना ज्यादा फल, इस रोज जाप करके करें हर बाधा दूर

*घर में रखें साफ-सफाई का विशेष ध्यान।   वृक्ष को नहीं काटें बल्कि परिवार के सदस्यों की संख्या के बराबर पेड़ लगाएं।सावन के महीने में इंसान को मांस के सेवन से दूर रहने को कहा जाता है, इसके पीछे बहुत सारे धार्मिक कारण हैं लेकिन इसका वैज्ञानिकों की ओर से सटिक वजह है कि यह मौसम बारिश का होता है, इस दौरान वातावरण में काफी कीड़े-मकोड़े सक्रिय हो जाते हैं जो कि जानवरों के शरीर पर भी पाये जाते हैं, जिनका सेवन करना बीमारियों को दावत देना होता है।

सुबह जल्दी जागने की कोशिश करें और स्नान आदि कार्यों के बाद शिवजी की पूजा करें। यदि देर तक सोते रहेंगे तो इससे आलस्य बढ़ेगा। सुबह जल्दी उठने से वातावरण से स्वास्थ्य लाभ भी मिलते हैं। सुबह के समय मन शांत रहता है और इस वजह से पूजा पूरी एकाग्रता से हो पाती है।