मनचाही कामयाबी चाहिए तो सावन में करें ये उपाय

सावन में प्रतिदिन भगवान की शिव की पूजा बहुत ही फलदायी है। भगवान शिव बहुत ही भोले और शीघ्र प्रसन्न होने वाले देव है । राशि के अनुसार करें भगवान शिव की पूजा उनके अभिषेक से सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इसी प्रकार विभिन्न राशि के व्यक्तियों के लिए पूजा का अलग अलग महत्व है…

लखनऊ : भगवान शिव सर्वशक्तिमान है। उनकी पूजा का सावन मास में विशेष महत्व है। भगवान भोलेनाथ ऐसे देव हैं जो थोड़ी सी पूजा से भी प्रसन्न हो जाते हैं। सावन में प्रतिदिन भगवान की शिव की पूजा बहुत ही फलदायी है। भगवान शिव बहुत ही भोले और शीघ्र प्रसन्न होने वाले देव है । राशि के अनुसार करें भगवान शिव की पूजा उनके अभिषेक से सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इसी प्रकार विभिन्न राशि के व्यक्तियों के लिए पूजा का अलग अलग महत्व है…

ऊं नम: शिवाय का जाप करें

मेष राशि- वाले शहद व कच्चे दूध से शिव को अभिषेक करें लाल चन्दन और लाल रंग के फूल चढ़ाएं। ऊं नम: शिवाय का जाप करें।

ये भी देखें : अब ये सरकार सीता माता के अपहरण की कराएगी जांच, जानिए क्या है मामला

वृष राशि- वाले दही व दुध शिवलिंग पर चढ़ाएं शुभ फल देगा। भगवान शिव की स्तुति करें, चमेली के फूल व बिल्व पत्र भी चढ़ाएं ।

मिथुन राशि- वाले गन्ने के रस से भगवान शिव की पूजा करें। इससे भय क्रोध से मुक्ति मिलेगी। भगवान शिव को धतूरा, भांग चढ़ाएं, शिव के पंचाक्षरी मन्त्र का जाप करें।

कर्क राशि- वाले भांग, शक्कर व दूध से भगवान शिव को अभिषेक करें। साथ ही आंकड़े के फूल भी शिव को अर्पित करें। स्वास्थ्य लाभ होगा।

सिंह राशि- वाले लाल चंदन के जल से शिवजी का अभिषेक करें। भगवान शिव को कनेर के लाल फूल अर्पित करें व शिव चालीसा का पाठ करें।

पंचाक्षरी मन्त्र का जाप करें

कन्या राशि- वाले भांग वाले जल से भगवान शिव का अभिषेक करें। बेलपत्र, धतूरा, भांग आदि चढ़ाएं और पंचाक्षरी मन्त्र का जाप करें।

तुला राशि- वाले भगवान शिव का गाय के घी और इत्र या सुगंधित तेल या मिश्री मिले दूध से अभिषेक करें। शिव सहस्त्रनाम का जाप करें।

ये भी देखें : सावन, शिव और सोमवार, इस वजह से होती है सावन में बारिश

वृश्चिक राशि- वाले शहद मिश्रित जल से भगवान शिव का अभिषेक करें । धन, यश, कीर्ति में वृद्धि होगी। गुलाब का फूल और बिल्वपत्र की जड़ चढ़ाएं।

धनु राशि- वाले दूध में केसर मिलाकर भगवान शिव का अभिषेक करें। साथ ही शिव पंचाक्षर स्त्रोत का पाठ करना चाहिए।

‘ऊं पार्वतीनाथाय नमः’ का जाप करें

मकर राशि- वाले तिल के तेल से शिव जी का अभिषेक करें, भगवान शिव को बिल्व पत्र, धूतरा, फूल, भांग एंव अष्टगंध चढ़ाएं और ऊं पार्वतीनाथाय नमः का जाप करें।

कुम्भ राशि- वाले पूरे सावन माह में नारियल के पानी, गन्ने के रस, सरसों के तेल से भगवान शिव का अभिषेक करें।

मीन राशि- वाले पानी में केसर मिलाकर भगवान शिव का अभिषेक करें। पंचामृत, दही, दूध और पीले फूल चढ़ाएं और चन्दन की माला से 108 बार पंचाक्षर मन्त्र का जाप करें।