Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

नीतीश का बड़ा ऐलान: सुन कर हिल उठे सत्ताधारी, अंत भला तो सब भला

बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू नेता नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव के आखरी दौर में पूर्णिया की अपनी रैली में ऐलान कर दिया कि यह चुनाव उनका आखिरी चुनाव है। अपने इस ऐलान से उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि अब वह बिहार की चुनावी राजनीति में सक्रिय नहीं रहेंगे

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 5 Nov 2020 11:24 AM GMT

नीतीश का बड़ा ऐलान: सुन कर हिल उठे सत्ताधारी, अंत भला तो सब भला
X
बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू नेता नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव के आखरी दौर में पूर्णिया की अपनी रैली में ऐलान कर दिया कि यह चुनाव उनका आखिरी चुनाव है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना. बिहार की राजनीति के 15 साल तक शासन की बागडोर संभालने वाले जदयू के सर्वे सर्वा नीतीश कुमार ने बृहस्पतिवार को पूर्णिया में अपनी चुनावी रैली में आखिरी पारी का ऐलान कर दिया है। उन्होंने कहा कि यह उनका आखिरी चुनाव है। उनके बयान ने चुनावी राजनीति में खलबली पैदा कर दी है।

ये भी पढ़ें... हैवानियत से हिला देश: फोड़ी महिला की आंख, सड़क पर पड़ी तड़पती रही बेचारी

बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू नेता नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव के आखरी दौर में पूर्णिया की अपनी रैली में ऐलान कर दिया कि यह चुनाव उनका आखिरी चुनाव है। अपने इस ऐलान से उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि अब वह बिहार की चुनावी राजनीति में सक्रिय नहीं रहेंगे।

इससे यह स्पष्ट हो गया कि वह बिहार को केवल अगले 5 साल तक नेतृत्व देने के लिए तैयार हैं लेकिन उनके भाषण ने विपक्ष में भी खलबली मचा दी है।

राष्ट्रीय जनता दल ने उन पर इमोशनल कार्ड खेलने का आरोप लगाया है। राष्ट्रीय जनता दल ने यह भी कहा है कि तेजस्वी के मैदान में आने के बाद जब नीतीश कुमार को समझ में आ गया है कि वह बिहार की जनता को आगे भरमा नहीं पाएंगे इसलिए उन्होंने संन्यास का ऐलान किया है।

ये भी पढ़ें...पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी: PoK को लेकर गरजे राजनाथ, कांप उठी दुश्मन सेना

bihar cm फोटो-सोशल मीडिया

नीतीश को मिल सकता है इमोशनल फायदा

बिहार विधानसभा के दो चरण के मतदान पूरे हो चुके हैं तीसरे चरण के चुनाव के लिए बृहस्पतिवार को प्रचार का आखिरी दिन है शाम 5:00 बजे चुनाव प्रचार बंद हो जाएगा उससे पहले ही पूर्णिया की रैली में नीतीश कुमार ने आखरी चुनाव का दांव चला है।

माना जा रहा है कि इसका उन्हें फायदा मिल सकता है क्योंकि तीसरे चरण में जिन सीटों पर चुनाव होने जा रहा है वहां से जदयू ने पिछले चुनाव में 22 सीटें जीती हैं। अगर जदयू इस आंकड़े को नीतीश कुमार की इमोशनल दांव से आगे बढ़ा पाती है तो यह विपक्ष पर करारा प्रहार होगा।

कहा यह भी जा रहा है कि राजनीति के नौसिखिया तेजस्वी को नीतीश कुमार ने चुनाव प्रचार के आखिरी दौर में फंसा दिया है। बिहार की जनता यह सोचकर मतदान कर सकती है कि नीतीश जैसे स्वच्छ छवि वाले नेता को कम से कम 5 साल के लिए और मौका दिया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें...बिहार में गरजे नड्डा: राजद पर बोला हमला, विकास के मुद्दे पर कही ये बात

Newstrack

Newstrack

Next Story