Top

बिहार में चरम पर होगा चुनावी बुखार, एक साथ सियासी रण में कूदेंगे ये दो दिग्गज

एनडीए के शीर्ष नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य में चुनावी बिगुल फूंकेंगे तो उनको जवाब देने के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी राज्य में दो चुनावी सभाएं करेंगे।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 18 Oct 2020 5:16 AM GMT

बिहार में चरम पर होगा चुनावी बुखार, एक साथ सियासी रण में कूदेंगे ये दो दिग्गज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: विधानसभा चुनावों को लेकर बिहार पूरी तरह चुनावी रंग में रंग चुका है। सियासी मैदान में सभी दलों ने अपनी सेनाएं सजा ली हैं और एक-दूसरे पर तीखे हमलों का दौर शुरू हो चुका है मगर राज्य का चुनावी पारा 23 अक्टूबर से पीक पर होगा जब दो बड़े गठबंधनों के शीर्ष नेता एक ही दिन चुनावी रण में कूदेंगे।

ये भी पढ़ें:अनुराग-पायल विवाद: एक्ट्रेस ने लिया इरफान पठान का नाम, कही ये बड़ी बात

इसी दिन एनडीए के शीर्ष नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य में चुनावी बिगुल फूंकेंगे तो उनको जवाब देने के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी राज्य में दो चुनावी सभाएं करेंगे।

मुख्य मुकाबला दो गठबंधनों के बीच

बिहार के सियासी रण में चुनावी बाजी जीतने के लिए वैसे तो कोई गठबंधनों ने मोर्चा संभाल रखा है मगर सियासी जानकारों की नजर में मुख्य मुकाबला एनडीए और महागठबंधन के बीच ही माना जा रहा है।

एनडीए के गठबंधन में जदयू, भाजपा, हम और वीआईपी शामिल हैं तो महागठबंधन में राजद, कांग्रेस और वामदलों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को चुनौती देने के लिए मोर्चा संभाल रखा है। दोनों सेनाओं ने एक-दूसरे पर तीखे हमले शुरू कर दिए हैं।

नीतीश और तेजस्वी आमने-सामने

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 15 साल के अपने काम और बिहार को और विकसित राज्य बनाने के आधार पर वोट मांग रहे हैं। दूसरी और राजद के नेता तेजस्वी यादव नीतीश के दावों को खोखला बताते हुए युवा चेहरे को एक बार आजमाने की अपील कर रहे हैं। तेजस्वी का आरोप है कि नीतीश ने युवाओं, मजदूरों और किसानों के लिए अपने लंबे शासनकाल के दौरान कोई काम नहीं किया।

Bihar_election Bihar_election (Photo by social media)

23 को चुनावी रण में कूदेंगे मोदी और राहुल

सियासी जानकारों का कहना है कि राज्य में 23 अक्टूबर से चुनावी पारा चरम पर पहुंच जाएगा क्योंकि उस दिन राज्य में चुनाव प्रचार के लिए दो बड़े सियासी दिग्गज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस नेता राहुल गांधी चुनावी रण में कूदेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 23 को बिहार में अपनी चुनाव की रैलियों की शुरुआत करेंगे और उसी दिन कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी दो सभाएं करके एनडीए को जवाब देंगे।

पहले चरण में मोदी की तीन रैलियां होंगी

बिहार चुनाव में एनडीए को एक बार फिर जीत दिलाने के लिए पीएम मोदी की 12 रैलियों का कार्यक्रम तैयार किया गया है। मोदी 23 अक्टूबर को सासाराम से अपनी चुनावी रैलियों की शुरुआत करेंगे और उसी दिन उनकी दो और रैलियां गया व भागलपुर में भी आयोजित की जाएंगी।

पहले चरण के चुनाव के लिए प्रधानमंत्री की सिर्फ यही तीन रैलियां होंगी और इनके माध्यम से वे 71 सीटों पर एनडीए उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित करने की कोशिश करेंगे। उनकी नौ और रैलियां दूसरे व तीसरे चरण की सीटों के लिए होंगी।

मोदी के साथ मंच पर नीतीश भी होंगे

बिहार भाजपा के चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस का कहना है कि पीएम मोदी की सभी रैलियों में जदयू अध्यक्ष व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी शामिल होंगे। पीएम मोदी के दूसरे दौर की रैली 28 अक्टूबर को शुरू होंगी और इस दिन वे दरभंगा मुजफ्फरपुर और पटना में रैलियां करेंगे।

मोदी का तीसरा दौरा एक नवंबर को छपरा, पूर्वी चंपारण और समस्तीपुर में होगा। फडणवीस ने बताया कि प्रधानमंत्री का चौथा और अंतिम दौरा 3 नवंबर को होगा जिसमें में पश्चिम चंपारण, सहरसा और अररिया के फारबिसगंज में चुनावी रैलियों को संबोधित करेंगे।

राहुल की 23 को दो रैलियां होंगी

दूसरी ओर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी 23 अक्टूबर को बिहार में अपने चुनावी अभियान की शुरुआत करते हुए दो चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे। वे अपनी चुनावी रैलियों की शुरुआत हिसुआ से करेंगे और उसी दिन उनकी दूसरी सभा भागलपुर के कहलगांव में होगी।

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि राहुल की चुनावी सभाओं में आसपास के विधानसभा क्षेत्रों के महागठबंधन उम्मीदवार भी शामिल होंगे। इन सीटों पर पहले चरण में चुनाव होने हैं।

राहुल गांधी बिहार में करेंगे छह रैलियां

बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रमुख मदन मोहन झा ने बताया अभी तक राहुल गांधी ने प्रत्येक चरण में दो-दो यानी कुल 6 चुनावी रैलियों को संबोधित करने के लिए अपनी सहमति दी है। उन्होंने कहा कि भविष्य में जरूरत को देखते हुए राहुल की और रैलियों का कार्यक्रम तय किया जा सकता है।

उन्होंने बताया कि पहले चरण की चुनावी सभाओं के बाद राहुल के चुनाव प्रचार का कार्यक्रम और स्थल अभी तय होना बाकी है।

कांग्रेस से जुड़े सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी की सभाओं में राजद नेता महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव के मंच पर मौजूद हो सकते हैं।

ये भी पढ़ें:बलिया हत्याकांड: अभी तक आरोपी को नहीं पकड़ पाई पुलिस, कर सकता है आत्मसमर्पण

बिहार में अभी प्रियंका का दौरा तय नहीं

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की बिहार में चुनावी सभाओं को लेकर अभी तक स्थिति स्पष्ट नहीं हो सकी है। हालांकि कांग्रेस उम्मीदवारों की ओर से प्रियंका की चुनावी सभाओं की डिमांड की जा रही है मगर अभी तक प्रियंका के दौरे का कोई कार्यक्रम नहीं बन सका है।

बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने तीन चरणों में अपने 70 उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे हैं। इसके साथ ही बाल्मीकि नगर में हो रहे लोकसभा उपचुनाव में भी कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी उतारा है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story