Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

भरभराकर गिरा पुल: 264 करोड़ में हुआ था निर्माण, 29 दिन भी न टिका

बारिश के कहर से देश के कई राज्य प्रभावित हैं लेकिन इस बीच बिहार में हुई बारिश ने सरकारी कामों की कलई खोल कर रख दी। छपरा जिले में 264 करोड़ की लागत से बना ब्रिज उद्घाटन के 29 दिन बाद ही ढह गया।

Shivani

ShivaniBy Shivani

Published on 16 July 2020 6:19 AM GMT

भरभराकर गिरा पुल: 264 करोड़ में हुआ था निर्माण, 29 दिन भी न टिका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: बारिश के कहर से देश के कई राज्य प्रभावित हैं लेकिन इस बीच बिहार में हुई बारिश ने सरकारी कामों की कलई खोल कर रख दी। दरअसल, राज्य के छपरा जिले में 264 करोड़ की लागत से बना ब्रिज उद्घाटन के 29 दिन बाद ही ढह गया। बताया जा रहा है कि इस पुल को बनने में 8 साल लग गए और एक महीने पहले ही सीएम नीतीश कुमार ने इसका वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिये उद्घाटन किया था।

तेजस्वी यादव ने बताया सीएम नीतीश को भ्रष्टाचार के पितामाह

राष्ट्रीय जनता लोकदल नेता और पूर्व मंत्री तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भ्रष्टाचार को पितामाह बताया। उन्होंने लिखा, '263 करोड़ से 8 साल में बना लेकिन मात्र 29 दिन में ढ़ह गया पुल। संगठित भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश जी इस पर एक शब्द भी नहीं बोलेंगे और ना ही साइकिल से रेंज रोवर की सवारी कराने वाले भ्रष्टाचारी सहपाठी पथ निर्माण मंत्री को बर्खास्त करेंगे। बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट मची है।'



8 साल में बनकर तैयार हुआ 264 करोड़ का महत्वकांक्षी पुल

दरअसल, राज्य के छपरा से सटे गोपालगंज में सत्तरघाट महासेतु भारी बारिश के दबाव के चलते ध्वस्त हो गया है। ये पुल चंपारण तिरहुत और सारण के कई जिलों का संपर्क मार्ग था, हालाँकि अब पुल टूटने से आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया है। गोपालगंज के बैकुंठपुर के फैजुल्लाहपुर में यह पुल टूटा है।

ये भी पढ़ेंः तबाह हुईं जिंदगियां: असम से लेकर मुंबई तक इतने बुरे हालात, बाढ़ से मचा हाहाकार

16 जून को सीएम नीतीश ने किया था पुल का उद्घाटन,

बता दें कि इस पुल का उद्घाटन 16 जून को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया था। कई जिलों को जोड़ने वाला यह महत्वकांक्षी पुल आठ सालों में बनकर तैयार हुआ था और मात्र 29 दिनों में पानी में ढह भी गया। इसके निर्माण की जिम्मेदारी पुल निर्माण विभाग की थीं। साल 2012 में निर्माण शुरू हुआ और 16 जून 2020 तक बन कर तैयार पुल का उद्घाटन हुआ।



भारी बारिश का दवाब न झेल सका महासेतू, आवागमन बाधित

बताया जा रहा है कि तेज बारिश के मद्देनजर गोपालगंज में तीन लाख से ज्यादा क्यूसेक पानी का बहाव था। ऐसे में जलस्तर के दबाव की वजह से पुल का एप्रोच रोड टूट गया।

ये भी पढ़ेंः पायलट को गहलोत सरकार ने दिया तगड़ा झटका, करीबियों पर दर्ज होगी FIR

पुल निर्माण में लापरवाही और भ्रष्टाचार की जांच की मांग

वहीँ अब पुल निर्माण में लापरवाही और भ्रस्टाचार के आरोप लग रहे है। लोगों ने जांच की मांग की है। इसमें नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव का नाम भी शामिल हैं।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani

Shivani

Next Story