Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

बिहार चुनाव: नतीजों से पहले ही BJP ने बनाया नया रिकॉर्ड, जानकर चौंक जाएंगे

सियासी जानकारों की मानें तो चुनाव में बागियों पर अंकुश लगाने के लिए बीजेपी पहले मुकम्मल तैयारी करती थी। पार्टी के आलानेता हस्तक्षेप कर बागियों को मनाने की कोशिश करते थे। लेकिन इस बार इस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 30 Oct 2020 7:46 AM GMT

बिहार चुनाव: नतीजों से पहले ही BJP ने बनाया नया रिकॉर्ड, जानकर चौंक जाएंगे
X
बीजेपी के इस कैंपेन से पहले ही टीएमसी ने हमला बोलना शुरू कर दिया है। गुरुवार को ही टीएमसी सरकार में मंत्री चंद्रमा भट्टाचार्य ने बीजेपी पर निशाना साधा है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: इस बार कोरोना काल में ही बिहार के अंदर विधानसभा का चुनाव हो रहा है। प्रथम चरण का मतदान शंतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया है। करीब 55 प्रतिशत लोगों ने मतदान किया था। इसके बाद अब दूसरे चरण का मतदान होना है। जो कि इस बार 3 नवंबर को है।

इस बार बिहार के अंदर कोई पार्टी है जो सबसे अधिक अधिक बागियों की बगावत से परेशान है, तो वो बीजेपी है। बीजेपी ने अभी तक मुख्यालय स्तर पर 43 नेताओं को पार्टी से निकालने का काम किया है।

गौर करने वाली बात ये है कि निकाले गये तमाम नेता ऐसे हैं, जो मौजूदा या पूर्व विधायक के अलावा प्रदेश स्तरीय पदाधिकारी भी रह चुके हैं। इसी तरह यदि हम इसमें जिलास्तरीय इकाइयों से निष्कासित नेताओं को भी शामिल कर लें तो बागियों की संख्या कई गुना बढ़ जाएगी।

Bihar Bjp Leader बिहार के सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील मोदी के साथ बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा(फोटो:सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें…सात सीटों पर 15 दागीः हत्‍या व बलात्‍कार के आरोपितों को चुनने की मजबूरी

भाजपा के गठन के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ

भाजपा का नारा पार्टी विथ डिफरेंस का है। इतने बड़े पैमाने पर नेताओं को पार्टी से निकालने पर विपक्ष हमलावर हो गया है। विपक्ष इस मुद्दे को चुनावी रैलियों में जोर शोर से उठा रहा है और बीजेपी पर हमला बोल रहा है।

बता दें कि भाजपा के गठन के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब दल के खिलाफ जाकर इतनी बड़ी संख्या में बागी चुनावी मैदान में डटे हैं। इन बागियों में ढाई दर्जन जदयू के खिलाफ तो दर्जन भर प्रत्याशी भाजपा के खिलाफ ही चुनावी मैदान में उतरे हैं।

ये भी पढ़ें…भारत इस देश के साथ: आतंकी हमलों का हुआ शिकार, पीएम मोदी ने किया बड़ा एलानइन नेताओं का

मुख्यालय स्तर पर हुआ निष्कासन

मुख्यालय स्तर पर जिन नेताओं का निष्कासन किया गया हैं उनमें तिवारी उर्फ चोकर बाबा, मनोज कुमार सिंह, देवरंजन सिंह, रामानंद राम, राकेश ओझा, विजय कुमार गुप्ता, अजय कुमार सिंह, प्रदीप दास, राघव शरण पांडेय, विभाष चंद्र चौधरी, विश्वमोहन कुमार, किशोर कुमार मुन्ना, चंद्रभूषण ठाकुर, परमानंद ऋषिदेव, अमन पासवान, विजय साह, वीरेन्द्र चौधरी, प्रमोद चंद्रवंशी, जितेन्द्र स्वामी, राकेश कुमार सिंह, प्रो अजीत कुमार सिंह, संजय सिंह, रेणु कुमारी व चंद्रशेखर सिंह बबन शामिल हैं।

Amit Shah and Narendra Modi पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा(फोटो:सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें…फ्रांसीसी दूतावास पर हमला: मचा कोहराम, हमलावर का सऊदी अरब से कनेक्शन

स्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App

Newstrack

Newstrack

Next Story