Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

कोरोना काल में लगातार 12 घंटे ऑनलाइन पढ़ा रहे मैथेमैटिक्स गुरू

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के प्रति लोगों को जागरूक करने का कार्य फेसबुक, ट्विटर एवं यू-ट्यूब के जरिए भी किया जा रहा।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 26 July 2020 5:27 PM GMT

कोरोना काल में लगातार 12 घंटे ऑनलाइन पढ़ा रहे मैथेमैटिक्स गुरू
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिहार: कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के प्रति लोगों को जागरूक करने का कार्य फेसबुक, ट्विटर एवं यू-ट्यूब के जरिए भी किया जा रहा। देशव्यापी लॉकडाउन की वजह से शिक्षण संस्थाएं बंद हैं। ऐसे में शिक्षकों की ओर से ऑनलाइन कक्षा और सोशल मीडिया के माध्यम से छात्रों की उलझनें दूर करने का कार्य किया जा रहा है।

कोरोना के कारण जब से शैक्षणिक संस्था बंद हुआ तो ऑनलाइन नाइट क्लासेज (पूरी रात लगातार 12 घंटे) से बिहारी मैथेमैटिक्स गुरू क्लास ले रहे हैं।

ये भी पढ़ें: वाराणसी में सीएम योगी: तैयारियों का लिया जायजा, इस मुद्दे पर की अहम बैठक

आपको बताते चले की कोरोना (Corona) के कारण पूरे देश में हाई अलर्ट (High Alert) है। सुरक्षा कारणों से अन्य राज्यों की तरह बिहार में भी सभी स्कूल-कॉलेज के साथ कोचिंग संस्थाओं को बिहार सरकार ने बंद करने के आदेश दिये हैं। परीक्षा के समय होने के बावजूद पिछले कई महिनो से शैक्षणिक संस्थानों मे स्टूडेंट्स की पढ़ाई पूरी तरह ठप है।

12 घंटे पूरी रात नि:शुल्क गणित पढाकर खुब सुर्खियाँ बटोर रहे

ऐसे में रेगुलरिटी और परीक्षा को देखते हुए मैथेमैटिक्स गुरू फेम आरके श्रीवास्तव ने विद्यार्थियो के हित में एक अहम फैसला लेते हुए अनोखा ऑन लाइन क्लास (Online Classes) शुरू किया है। प्रत्येक दिन तो ऑनलाइन क्लासेज लेकर स्टूडेंट्स को आरके श्रीवास्तव गणित पढाते है। परन्तु प्रत्येक शनिवार को आरके श्रीवास्तव ऑनलाइन लगातार 12 घंटे पूरी रात नि:शुल्क गणित पढाकर खुब सुर्खियाँ बटोर रहे हैं।

स्टूडेंट्स भी कह रहे की कब रात से सुबह हो जा रहा पता ही नही चल रहा। आज तक ऐसा जादूई तरीका से पढाने वाला शिक्षक नही देखा। कोरोना संकट में स्टूडेंट्स के साथ दिन रात खड़े रहने वाला यह बिहारी शिक्षक है कोरोना योद्धा ।

ये भी पढ़ें: खत्म हुआ डेवलपमेंट प्रोग्राम, प्रोफेसरों ने सात दिन ऐसे बनाये ख़ास

अपने रोहतास जिले के बिक्रमगंज घर में आरके श्रीवास्तव मोबाइल पर ऑनलाइन क्लासेज की मदद से पढ़ा रहे तो दूसरी तरफ देश के सैकड़ों स्टूडेंट्स इस ऑनलाइन क्लास में LIVE जुड़ते भी जा रहे हैं। छात्र अपने मैथेमैटिक्स गुरु की स्पीच को सुनने के साथ-साथ अपने जेहन में उठने वाले सवाल भी पूछ रहे हैं। क्लास ले रहे शिक्षक स्पीच देने के साथ-साथ वाइट बोर्ड पर लिख कर भी छात्रों को समझाते देखे गए है। वहीं कई छात्र मोबाइल पर चल रहे ऑनलाइन क्लास का घर बैठे बड़ी संजीदगी के साथ पढ़ाई करते देखे गए।

छात्रों में भी खुशी....

आरके श्रीवास्तव ने कहा कि अब इस प्रयोग के सफल होने के बाद सभी क्लास के साथ-साथ आये दिन शैक्षणिक संस्थाओं में ऑनलाइन पढ़ाई हमेशा जारी रखा जायेगा। छात्रों की पढ़ाई-लिखाई नहीं छूटे। ऑनलाइन पढ़ाई का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इससे सिर्फ छात्रों को फायदा नहीं मिलेगा बल्कि कोई भी छात्र इस ऑनलाइन पढ़ाई में जुड़ कर शिक्षा हासिल कर सकता है।

बिहारी गुरु कोरोना संकट में पढ़ाकर पेश कर रहे मिशाल...

सितम्बर में होने वाले है आईआईटी प्रवेश परीक्षा, जिसके लिये आरके श्रीवास्तव स्टूडेंट्स को पूरी रात लगातार 12 घंटे ऑनलाइन गणित पढाकर खुब सुर्खियाँ बटोर रहे हैं। देश विदेश के लोग इनके जज्बे को सलाम कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: प्रियंका गांधी का न्योता: इस BJP दिग्गज नेता को चाय पर बुलाया, मुलाकात होगी खास

आरके श्रीवास्तव बताते है की...

ब्लैक-बोर्ड, चॉक, वाइट बोर्ड, मार्कर, डस्टर, स्टूडेंट्स और गणित के सवाल, अब तो वर्षों बीत गये पढ़ाते-पढ़ाते। लेकिन अच्छा लगता है, स्टूडेंट्स को गणित पढ़ाना। कुछ उन्हें सिखाना और उनसे भी सीखते रहना, बहुत अच्छा लगता है।

घर पर ही रहकर खुद को सुरक्षित करने की अपील करते हुए शिक्षक, विद्यार्थियों के माध्यम से लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को जागरूक कर रहे हैं। असल में वैश्विक महामारी के इस संकट की घड़ी में पूरा देश एक साथ आ गया है। चिकित्सा, सुरक्षा, खाद्यान्न लोगों तक पहुंचाया जा रहा है।

इन सब के बीच शिक्षक और विद्यार्थी फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब के जरिए कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए जागरूकता कार्यक्रम चला रहे हैं। यह सोशल मीडिया से जुड़े लोगों में गहरी पैठ बना चुका है। शिक्षक और छात्रों द्वारा सोशल मीडिया पर फैलाए जा रहे कोरोना वायरस के बचाव संदेशों व वीडियो को कितने लोगों ने पसंद किया।

ये भी पढ़ें: दिग्गज क्रिकेटर बने पापाः कोरोना संकट के बीच मिली खुशखबरी, घर आई बेटी

Newstrack

Newstrack

Next Story