Top

Bihar में स्कूल खोलना बना गया घातक, 22 बच्चे हुए कोरोना पॉजिटिव

मिली जानकारी के मुताबिक असरगंज प्रखंड की अमैया पंचायत स्थित लाल बहादुर शास्त्री किसान उच्च विद्यापीठ, ममई के 22 स्कूली बच्चे, दो शिक्षक व एक आदेशपाल कोरोना पॉजिटिव पाये गये।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 8 Jan 2021 7:59 AM GMT

Bihar में स्कूल खोलना बना गया घातक, 22 बच्चे हुए कोरोना पॉजिटिव
X
Bihar में स्कूल खोलना बना गया घातक, 22 बच्चे हुए कोरोना पॉजिटिव (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: देश में कोरोना को देखते हुए लगभग सभी राज्यों ने स्कूल खोल दिए हैं। लेकिन कोरोना को देखते हुए सभी स्टेप उठाए जा रहे हैं। इसी को देखते हुए बिहार में स्कूल खोले गए थे, जहां अब कोरोना ने तहलका मचा दिया है। एक स्कूल में 25 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये। जिसकी खबर मिलते ही पूरे एरिया में हड़कंप मच गया। जिनमें 22 स्कूली बच्चे हैं, केवल 75 लोगों की जांच में 25 लोग ही पॉजिटिव पाये गए हैं। खबर मिलते ही स्वस्थ्य विभाग अलर्ट पर है।

ये भी पढ़ें:लॉकडाउन हुआ देश: हुई हजारों मौतें कोरोना से, आपातकाल घोषित जापान में

लाल बहादुर शास्त्री किसान उच्च विद्यापीठ का मामला

मिली जानकारी के मुताबिक असरगंज प्रखंड की अमैया पंचायत स्थित लाल बहादुर शास्त्री किसान उच्च विद्यापीठ, ममई के 22 स्कूली बच्चे, दो शिक्षक व एक आदेशपाल कोरोना पॉजिटिव पाये गये। सूचना के बाद डीएम रचना पाटील के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा विद्यालय में मेडिकल टीम को भेज कर सभी पॉजिटिव बच्चों और शिक्षकों को होम आइसोलेनश में भेजा गया, जबकि बच्चों और शिक्षकों के संपर्क में आने वाले लोगों और आसपास के स्थानों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया और सभी निर्देश दे दिए हैं।

प्रभारी सिविल सर्जन डॉ अजय कुमार भारती ने बताया

प्रभारी सिविल सर्जन डॉ अजय कुमार भारती ने बताया कि, ''कोरोना चेन की पहचान की जायेगी। पॉजिटिव बच्चों और शिक्षकों के परिजनों और उनके संपर्क में आने वालों को चिह्नित किया जायेगा। इसके बाद शुक्रवार से चिह्नित लोगों की कोरोना जांच की जायेगी। किसी भी प्रकार के सिस्टम पाये जाने वाले बच्चों को पूर्व से संचालित जीएनएम आइसोलेशन वार्ड में रखा जायेगा, जबकि जो बच्चे या परिजन होम आइसोलेशन में रहना चाहते हैं, उनसे शपथपत्र भरवाकर उन्हें होम आइसोलेशन में रखा जा रहा है।''

ये भी पढ़ें:महाराष्ट्र में कापेंगे अपराधी: इनको मिला DGP का कार्यभार, जानिए इनके बारे में

डीएम रचना पाटील ने बताया

डीएम रचना पाटील ने बताया कि, ''सभी पॉजिटिव पाये गये बच्चों के स्वास्थ्य की जांच के लिए मेडिकल टीम को विद्यालय भेजा गया है। विद्यालय को बंद कर दिया गया है। संपर्क में आने वाले सभी लोगों को चिह्नित कर उनकी मेडिकल जांच की जायेगी। मेडिकल टीम द्वारा पंचायत में हाउस-टू-हाउस सर्वेक्षण के बाद संदिग्ध पाये जाने वाले लोगों की कोरोना जांच की जायेगी।''

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story