Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

NIT से पढ़कर बना इंजीनियर, अब दे रहा दूसरो को शिक्षा, जानें प्रिंस कुमार की कहानी

आरके श्रीवास्तव के शैक्षणिक संस्थान में उनके सानिध्य में पढ़कर सफलता पाया। इंजीनियरिंग करने के बाद प्रिंस ने GATE QUALIFY किया। उसके बाद NIT पटना से M.TECH की पढ़ाई पुरा किया।

Shraddha Khare

Shraddha KhareBy Shraddha Khare

Published on 28 Jan 2021 5:22 AM GMT

NIT से पढ़कर बना इंजीनियर, अब दे रहा दूसरो को शिक्षा, जानें प्रिंस कुमार की कहानी
X
NIT से पढ़कर बना इंजीनियर, अब दे रहा दूसरो को शिक्षा, जानें प्रिंस कुमार की कहानी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रोहतास: बिहार राज्य के रोहतास जिले के बिक्रमगंज के प्रिंस कुमार की स्टोरी है प्रेरणा दायक। आप भी पढ़े कैसे हिन्दी मीडियम के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाला शिक्षक का बेटा बना इंजीनियर।

इंजीनियरिंग कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर

प्रिंस के पिता का नाम राजा राम चौधरी है जो मिडिल स्कूल के शिक्षक रह चुके हैं , और इनके माता का नाम लालती देवी है। प्रिंस की सफलता में उसके मेहनत के साथ गुरु आरके श्रीवास्तव का बहुत बड़ा योगदान है। उन दिनो प्रिंस के घर में सिर्फ प्रिंस के पापा ही कमाने वाले थे, परन्तु समय बदला परस्थितियां बदली तो आज प्रिंस इंजीनियर बन सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत है।

हिंदी मीडियम से की पढ़ाई

इंजीनियर बनने के बाद अब परिवार की स्थिति पहले से और बेहतर हो गई है। प्रिंस बचपन से हिन्दी मीडियम के सरकारी स्कूलों से पढ़ा है। उसने RDS high SCHOOL धनगाई से 10 वीं की परीक्षा पास किया, उसके बाद AS COLLEGE बिक्रमगंज से 12 वीं और वर्ष 2009 में इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा में सफलता पाकर KEC इंजीनियरिंग कॉलेज भुनेश्वर में दाखिला लिया। उसने इलेक्ट्रिकल ब्रांच से अपना बीटेक किया। प्रिंस अपने गांव बिक्रमगंज से पढ़कर इंजीनियर बना।

प्रिंस ने की गुरु आरके श्रीवास्तव की प्रशंसा

आरके श्रीवास्तव के शैक्षणिक संस्थान में उनके सानिध्य में पढ़कर सफलता पाया। इंजीनियरिंग करने के बाद प्रिंस ने GATE QUALIFY किया। उसके बाद NIT पटना से M.TECH की पढ़ाई पुरा किया। अभी वर्तमान में प्रिंस Assistant Professor in Electrical Engineering Department at Government Engineering College Bilaspur में कार्यरत है। प्रिंस का परिवार हमेशा गुरु आरके श्रीवास्तव की प्रशंसा करते नही थकते जिसने उसे इंजीनियर बनने के लिये प्रेरित किया।

ये भी पढ़ें: दिल्ली उपद्रव: प्रज्ञा ठाकुर बोलीं- एक-एक देशद्रोही को चुन-चुनकर बाहर निकाला जाएगा

कैसे पढ़ाते थे गुरु आरके श्रीवास्तव

आरके श्रीवास्तव बताते है कि प्रिंस मेरे पहले बैच का स्टूडेंट है, जब टीबी की बिमारी के चलते ईलाज के दौरान डॉक्टर ने मुझे घर पर रहकर आराम करने की सलाह दी थी , घर पर रहते रहते बोर होने लगा तो घर के अगल बगल के स्टूडेंट्स को बुलाकर पढ़ाना चालू किया। जब फोन से बात हुआ तो प्रिंस ने बताया की कैसे सर आप पूरी रातभर लगातार हम लोगों को पढ़ाते थे , कब रात से सुबह हो जाती थी पता ही नही चलता था।

सभी स्टूडेंटस के लिए बना प्रिंस रोल मॉडल

प्रिंस ने अपने गुरु आर के श्रीवास्तव को श्रेय देते हुए कहा कि आज आपके द्वारा कराये गये मेहनत का ही देन है की हम इस उपलब्धी तक पहुंचे हैं। आरके श्रीवास्तव ने कहा आप जैसे स्टूडेंट्स पर काफी गर्व होता है जो अपनी मिट्टी से आज भी जुड़े है। आप देश के उन सभी स्टूडेंटस के लिए रोल मॉडल है जो गांव में कम सुविधा में रहकर भी इंजीनियर बनने का सपना देखते है और उस सपने को साकार करते है।

ये भी पढ़ें: किसान यूनियन में फूट: कई संगठन आंदोलन से अलग, धरना खत्म कर लौटे घर

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shraddha Khare

Shraddha Khare

Next Story