Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

सीएम नीतीश के नए मंत्रिमंडल पर उठे सवाल, इण्टर पास को दिए छह विभाग

यह है कि चुनाव के पहले मुख्यमंत्री पद के दावेदार तेजस्वी यादव की पढ़ाई को लेकर एनडीएन नेता लगातार सवाल उठाते रहे थें।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 18 Nov 2020 9:16 AM GMT

सीएम नीतीश के नए मंत्रिमंडल पर उठे सवाल, इण्टर पास को दिए छह विभाग
X
सीएम नीतीश के नए मंत्रिमंडल पर उठे सवाल, इण्टर पास को दिए छह विभाग (Photo by social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: बिहार में सातवीं बार मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी संभालने के बाद आज नीतीश कुमार ने अपने मंत्रियों के विभागों को बंटवारा करने के साथ ही अपने कैबिनेट की पहली बैठक भी की। लेकिन मंत्रियों के विभागों का बंटवारा करते समय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से एक चूक हो गयी। उनके मंत्रिमंडल में इण्टर पास ताराकिशोर को उपमुख्यमंत्री के साथ ही छह विभागों की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। जिसके बाद सोशल मीडिया पर इसे लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। वह पहली बार मंत्री बने हैं।

ये भी पढ़ें:बैंक ग्राहकों को झटका: सरकार का लक्ष्मी विकास बैंक पर एक्शन, जाने पूरी कहानी

मंत्रिमंडल में कई ऐसे मंत्री भी शामिल हैं जिनका आपराधिक इतिहास भी रहा है

इसके अलावा मंत्रिमंडल में कई ऐसे मंत्री भी शामिल हैं जिनका आपराधिक इतिहास भी रहा है। तारकिशोर प्रसाद को वित्त, वाणिज्य, पर्यावरण, वन एवं जलवायु, सूचना प्रावैधिकी, आपदा प्रबंधन, नगर विकास एवं आवास विभाग जैसे अहम मंत्रालय दिए गए हैं। तारकिशोर प्रसाद को इतने अहम मंत्रालय दिए जाने को लेकर चर्चा इसलिए भी हो रही है कि उन्होंने महज 12वीं तक की पढ़ाई की है।

तेजस्वी यादव की पढ़ाई को लेकर एनडीएन नेता लगातार सवाल उठाते रहे थें

दिलचस्प बात यह है कि चुनाव के पहले मुख्यमंत्री पद के दावेदार तेजस्वी यादव की पढ़ाई को लेकर एनडीएन नेता लगातार सवाल उठाते रहे थें। दरअसल विधानसभा चुनाव में एनडीए के नेता लगातार आरजेडी नेता और महागठबंधन के सीएम उम्मीदवार तेजस्वी यादव की शैक्षणिक योग्यता पर सवाल उठाते रहे। लेकिन तारा प्रसाद के डिप्टी सीएम बनने और केवल इण्टर तक ही शिक्षित होने से अब इस पर सत्ता पक्ष घिरता नजर आ रहा है। तारकिशोर प्रसाद को वित्त, वाणिज्य जैसे अहम मंत्रालय दिए जाने पर आरजेडी के साथ-साथ कई विपक्षी पार्टियां सवाल उठा रही है।

Bihar-Vidhansabha Bihar-Vidhansabha (Photo by social media)

वहीं संतोष कुमार सुमन (जीतन राम मांझी के पुत्र) मो लघु जल संसाधन, अनुसूचित जातिध्जनजाति कल्याण मंत्रालय दिए जाने पर भी सवाल उठ रहे हैं।

एनडीए की बिहार सरकार का नया मंत्रिमंडल

नीतीश कुमार (मुख्यमंत्री)- गृह, सामान्य प्रशासन, मंत्रिमंडल सचिवालय, निगरानी और निर्वाचन विभाग के अलावा वे सभी विभाग रखे हैं जो अबतक किसी को आवंटित नहीं किये गए हैं।

ये भी पढ़ें:900 मौतों से हिला देश: आत्महत्या से बिछ गई थीं लाशें, जब धर्मगुरु ने किया मजबूर

तारकिशोर प्रसाद (उपमुख्यमंत्री)- वित्त, वाणिज्य कर, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन तथा आपदा प्रबंधन, सूचना प्रौद्योगिकी तथा नगर विकास की जिम्मेदारी रेणु देवी (उपमुख्यमंत्री)- पंचायती राज, पिछड़ा एवं अत्यंत पिछड़ा कल्याण तथा उद्योग विभाग।

मेवालाल चैधरी- शिक्षा मंत्रालय

जीवेश कुमार- पर्यटन, श्रम और खनन मंत्रालय

विजय कुमार चौधरी - ग्रामीण कार्य, ग्रामीण विकास, जल संसाधन, सूचना-जनसंपर्क तथा संसदीय कार्य का मंत्री

अशोक चौधरी - भवन निर्माण, समाज कल्याण, अल्पसंख्यक एवं विज्ञान प्रावैधिकी विभाग

विजेंद्र यादव- ऊर्जा, मद्य निषेध, योजना और खाद्य तथा उपभोक्ता मामला

शीला कुमारी- परिवहन मंत्रालय का प्रभार

संतोष कुमार सुमन (जीतन राम मांझी के पुत्र)- लघु जल संसाधन, अनुसूचित जातिध्जनजाति कल्याण मंत्रालय

अमरेन्द्र प्रताप सिंह- कृषि, सहकारिता समेत गन्ना विकास मंत्रालय

रामसूरत राय- राजस्व और विधि मंत्रालय।

रामप्रीत पासवान- पीएचईडी मंत्रालय

मंगल पांडे- स्वास्थ्य मंत्रालय, कला संस्कृति विभाग

मुकेश सहनी- पशु एवं मतस्य संसाधन मंत्रालय

रिपोर्ट- श्रीधर अग्निहोत्री

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story