×

बहुत गरीब हो गए अंबानी! कहा- दिवालिया हो चुका हूं मैं, मेरे पास फूटी कौड़ी नहीं

अनिल अंबानी के वकीलों ने कहा कि भारत सरकार की स्पेक्ट्रम देने की नीति में बदलाव से भारतीय दूरसंचार क्षेत्र में नाटकीय बदलाव आया है|वर्ष 2012 में अंबानी का निवेश सात अरब डॉलर से अधिक का था| आज यह 8|9 करोड़ डॉलर रह गया है|यदि उनकी देनदारियों को जोड़ा जाए, तो यह शून्य पर आ जाएगा|

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 8 Feb 2020 8:24 AM GMT

बहुत गरीब हो गए अंबानी! कहा- दिवालिया हो चुका हूं मैं, मेरे पास फूटी कौड़ी नहीं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लन्दन: एक समय दुनिया के छठे सबसे अमीर शख़्स रहे अनिल अंबानी अब दीवालिया हैं| अनिल अम्बानी ने ब्रिटेन की एक अदालत से कहा है कि उनकी शुद्ध संपत्ति यानी नेट वर्थ जीरो है| दरअसल, चीन के तीन सरकारी बैंक 700 मिलियन डॉलर यानी पांच हज़ार करोड़ रुपए से भी अधिक रक़म की वसूली के लिए अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कम्यूनिकेशन को ब्रिटेन के हाई कोर्ट में ले गए हैं|

इंडस्ट्रियल एंड कमर्शियल बैंक ऑफ़ चाइना लिमिटेड (आईसीबीसी), चाइना डिवेलपमेंट बैंक और एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट बैंक ऑफ़ चाइना ने 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) को 925 मिलियन डालर का कर्ज़ दिया था जो उन्हें वापस नहीं मिला| ये कर्ज अनिल अम्बानी की निजी गारंटी की शर्त पर दिया गया था| अम्बानी का कहना है कि उन्होंने ऐसी कोई गारंटी नहीं दी थी|

अंबानी को अदालत में 715 करोड़ रुपये जमा करवाने होंगे

बैंकों ने कोर्ट से अपील की कि वे अंबानी को लगभग 4690 करोड़ की रकम कोर्ट में जमा करवाने का आदेश जारी करे, लेकिन कोर्ट ने तय किया अंबानी को अदालत में सौ मिलियन डॉलर (715 करोड़ रुपये) जमा करवाने होंगे| शुक्रवार को हुई कार्यवाही के दौरान अंबानी के बेटे अनमोल कोर्ट में उपस्थित रहे| जज वाक्समैन ने अनिल अंबानी के वकीलों के इस तर्क को मानने से इनकार कर दिया कि भारत में उनकी शुद्ध संपत्ति शू्न्य हो गई है और परिवार भी उनकी मदद के लिए आगे नहीं आएगा|

ये भी पढ़ें—श्रीलंका के हिंदुओं को बचाने के लिए मोदी सरकार से की गयी ये मांग

जज ने कहा, अंबानी मुझे इस मसले पर संतुष्ट करने में विफल रहे हैं कि वह कुछ भी भुगतान करने में असमर्थ हैं| वह इस बात पर जोर दे रहे हैं कि व्यक्तिगत रूप से दिवालिया हो चुके हैं| मेरा सवाल है कि क्या उन्होंने भारत में दिवालिया होने आवेदन किया है? इसके जवाब में अनिल अंबानी के वकीलों की टीम में शामिल हरीश साल्वे ने कहा कि ऐसा कोई आवेदन नहीं किया गया है|

अनिल अंबानी के वकीलों ने कहा कि भारत सरकार की स्पेक्ट्रम देने की नीति में बदलाव से भारतीय दूरसंचार क्षेत्र में नाटकीय बदलाव आया है|वर्ष 2012 में अंबानी का निवेश सात अरब डॉलर से अधिक का था| आज यह 8|9 करोड़ डॉलर रह गया है|यदि उनकी देनदारियों को जोड़ा जाए, तो यह शून्य पर आ जाएगा|

शान शौकत में कमी नहीं

बैंकों के वकील ने अंबानी की विलासपूर्ण जीवनशैली का जिक्र किया और कहा कि अंबानी के पास 11 से ज्यादा लग्जरी कारें, एक प्राइवेट जेट, एक याट और दक्षिण मुंबई में एक सी-विंड पेंटहाउस है| बैंकों के वकीलों ने कई ऐसे उदाहरण दिए जब अम्बानी के परिवार के सदस्यों ने उन्हें संकट से बाहर निकलने में मदद की है|

ये भी पढ़ें—डिफेंस एक्सपो 2020: आओ देखें जरा किसमें-कितना है दम

अनिल अंबानी के वकीलों ने कोर्ट में ये साबित करने का प्रयास किया कि उनके मुवक्किल के पास अपनी मां कोकिला, पत्नी टीना अंबानी और पुत्रों अनमोल और अंशुल की संपत्तियों और शेयरों तक कोई पहुंच नहीं है| बैंकों के वकीलों ने जवाब में कहा कि क्या हम गंभीरता से यह मान सकते हैं कि संकट के समय उनकी मां, पत्नी और बेटे उनकी मदद नहीं करेंगे| वकीलों ने अदालत को यह भी बताया कि अनिल अंबानी के भाई मुकेश अंबानी एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति माने जाते हैं और वह फोर्ब्स की सूची में दुनिया के 13वें सबसे अमीर व्यक्ति हैं| उनका अनुमानित नेटवर्थ 55 से 57 अरब डॉलर है|

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story