×

कोरोना काल में अर्थव्यवस्था को तगड़ा झटका, दूसरी तिमाही में इतना हुआ कर संग्रह

इस वक्त की बड़ी खबर आयकर विभाग से जुड़ी हुई आ रही है। जीएसटी से जुड़े एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बुधवार को बताया कि बीते वित्त वर्ष में सरकार का कुल कर संग्रह 3,27,320.2 करोड़ रुपये था।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 16 Sep 2020 12:18 PM GMT

कोरोना काल में अर्थव्यवस्था को तगड़ा झटका,  दूसरी तिमाही में इतना हुआ कर संग्रह
X
केंद्र सरकार का कुल कर संग्रह चालू वित्त वर्ष 1 जनवरी से बदल जाएंगे GST रिटर्न के नियम, 94 लाख टैक्सपेयर्स पर होगा असर
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: इस वक्त की बड़ी खबर आयकर विभाग से जुड़ी हुई आ रही है। जीएसटी से जुड़े एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बुधवार को बताया कि बीते वित्त वर्ष में सरकार का कुल कर संग्रह 3,27,320.2 करोड़ रुपये था।

हालांकि ये फाइनल आंकड़ा नहीं है, क्योंकि बैंक दिन के अंत तक इसमें चेंजेज कर सकते हैं। जून में खत्म हुई चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान टैक्स के कुल कलेक्शन में 31 फीसदी की गिरावट आई।

जबकि दूसरी तिमाही के लिए अग्रिम कर संग्रह सहित केंद्र सरकार का कुल कर संग्रह चालू वित्त वर्ष में 15 सितंबर तक 2,53,532.3 करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले 22.5 फीसदी कम है।

यह भी पढ़ें…India Vs China Dispute : कल हो सकता है बड़ा फैसला, होगी बड़ी बैठक…

Tax टैक्स(फोटो-सोशल मीडिया)

यह भी पढ़ें: इस्लाम कबूलने की धमकी: सफाईकर्मियों का जीना हराम, शोषण बंद करने की मांग

सरकार के इस कदम का राज्यों ने किया विरोध

कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिए देश भर में लागू किए गए पूर्ण लॉकडाउन के चलते यह गिरावट हुई। इस दौरान अग्रिम कर संग्रह में 76 फीसदी की भारी गिरावट देखने को मिली।

उधर कुछ राज्यों ने राजस्व की कमी को पूरा करने के लिए केंद्र की प्रस्तावित उधार योजना पर एतराज जताया है। सरकार से अपील से की है कि वे दोनों विकल्पों में से किसी एक को ही साथ लेकर चलें। ये जानकारी वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने दी।

उन्होंने बताया कि केंद्र ने पिछले महीने अंत में राज्यों को दो ऑप्शन दिए हैं।' वे रिजर्व बैंक की विशेष 'विंडो' सुविधा से 97,000 करोड़ रुपये उधार लें या बाजार से 2.35 लाख करोड़ रुपये का कर्ज जुटायें।

ये जानकारी उन्होंने राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में दी। बताया कि कुछ राज्यों ने प्रस्तावित दोनों विकल्पों को लेकर आपत्ति जताई है। उनसे दोनों में से एक विकल्प का उपयोग करने का निवेदन किया गया है।

यह भी पढ़ें…ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी: इन बैंकों में करें निवेश, मिलेगा सबसे ज्यादा ब्याज

money

यह भी पढ़ें…ट्रंप के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी, इस देश ने दिया आदेश, ये है वजह

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App

Newstrack

Newstrack

Next Story