बजाज ऑटो कंपनी का बड़ा फैसला, कर्मचारियों की सैलरी पर किया ये एलान

बजाज ऑटो ने सैलरी में कटौती करने के विचार को वापस ले लिया है इसकी सूचना रविवार को बजाज ऑटो ने कर्मचारियों को एक लेटर भेज करकहा कि कंपनी ने अप्रैल की सैलरी में कटौती करने के प्रस्तावित फैसले को वापस ले लिया है।

Published by suman Published: May 4, 2020 | 9:03 am
Modified: May 4, 2020 | 9:08 am

मुंबई बजाज ऑटो ने सैलरी में कटौती करने के विचार को वापस ले लिया है इसकी सूचना रविवार को बजाज ऑटो ने कर्मचारियों को एक लेटर भेज करकहा कि कंपनी ने अप्रैल की सैलरी में कटौती करने के प्रस्तावित फैसले को वापस ले लिया है।

लॉकडाउन  के समय उन्हें पूरी सैलरी दी जाएगी। इससे पहले कंपनी ने सभी कर्मचारियों की सैलरी में 10 पर्सेंट कटौती का प्रस्ताव दिया था। यह फैसला लॉकडाउन के चलते कंपनी के कार्य के बंद होने के बाद उठाया गया था। कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव बजाज ने इस पूरी अवधि के दौरान सैलरी नहीं लेने का फैसला किया था। कंपनी के एचआर डिपार्टमेंट की ओर से भेजे गए लेटर में कहा गया है।

 

यह पढ़ें….संजय दत्त ने लॉकडाउन को लेकर कह दी बड़ी बात, जानिए क्या कहा

 

दिमाग की जगह दिल से काम

हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि यह ऐसा समय हैं जहां हमें दिमाग की जगह दिल से काम करना चाहिए।लेटर में लिखा है, ‘हमारे बिजनस की सफलता शीर्ष से लेकर निचले स्तर तक के हममें से हर कर्मचारी पर निर्भर करती हैं। ऐसे में हम इससे पहले कि समाज के बड़े हिस्से को मदद देने के लिए आगे बढ़ें, हम सबसे पहले अपने खुद के लोगों को सुरक्षित करने के लिए बाध्य हैं। जब तक हम मदद करने की स्थिति में रहेंगे, तब तक हमारे अंतिम पायदान के कॉन्ट्रैक्ट वर्कर का एक भी बच्चा भूखे पेट नहीं सोएगा।

 

यह पढ़ें….मकान मालकिन ने किया ऐसा गलत काम, अब चुकानी पड़ेगी ये कीमत

 

बता दें कि अप्रैल में ऑटोमोबाइल कंपनियों की घरेलू बिक्री नहीं हुई है। साथ ही मार्च के आखिरी सप्ताह से ही उनके सभी मैन्युफैक्चरिंग प्लांट्स में कामकाज बंद हो गए है। इस बीच सैलरी जैसे फिक्स्ड कॉस्ट ने ऑटोमोबाइल कंपनियों के कैश फ्लो को बिगाड़ दिया है और उन्हें कैश बचाने के लिए सैलरी में कटौती, छंटनी जैसे फैसले लेने को मजबूर होना पड़ा है।  इस बीच देश में लॉकडाउन का तीसरा चरण शुरू हो गया है। केंद्र सरकार ने ग्रीन जोन में पड़ने वाले मैन्युफैक्चरिंग प्लांट्स में कामकाज शुरू करने की इजाजत दी है।  इससे हो सकता है कि आने वाले समय में मंद पड़ी अर्थव्यवस्था पटरी पर आने लगे। अभी देश में कोरोना संक्रमण के मामले में बढ़ोतरी ही हो रही है। 40 हजार से उपर आंकड़ा पार कर चुका है। 1306 लोगों की  मौत हो गई है।