×

महंगाई की मार! बड़ा फैसला लेने जा रही मोदी सरकार, इन चीजों के बढ़ेंगे दाम

पहले से ही महंगाई की मार झेल रही आम जनता को सरकार एक झटका दे सकती है। केंद्र सरकार जल्द इंपोर्टेड प्रोडक्ट पर ड्यूटी बढ़ाने का ऐलान कर सकती है। अगर सरकार इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ाती है, तो कई चीजें महंगी हो सकती हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 5 Dec 2019 7:38 AM GMT

महंगाई की मार! बड़ा फैसला लेने जा रही मोदी सरकार, इन चीजों के बढ़ेंगे दाम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: पहले से ही महंगाई की मार झेल रही आम जनता को सरकार एक झटका दे सकती है। केंद्र सरकार जल्द इंपोर्टेड प्रोडक्ट पर ड्यूटी बढ़ाने का ऐलान कर सकती है। अगर सरकार इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ाती है, तो कई चीजें महंगी हो सकती हैं।

कलर टीवी, वीडियो गेम्स, सेट-टॉप बॉक्स, गाड़ी के टायर और काजू जैसे अन्य प्रोडक्ट महंगे हो सकते हैं और इसको खरीदने के आपको ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे। घरेलू मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने यह फैसला किया है जो उत्पाद पिछले साल भारी इंपोर्ट ड्यूटी से बच गए थे, इस साल सरकार उन पर भारी आयात शुल्क लगाने की तैयारी की है।

यह भी पढ़ें...कर्नाटक में 15 सीटों पर उपचुनाव, जानिए क्यों जरूरी है बीजेपी के लिए 6 सीटें जीतना

एक रिपोर्ट में वित्त मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि 2017-18 में भारत ने 465 अरब डॉलर का निर्यात किया था। 2018-19 में यह 11 फीसदी बढ़कर 514 अरब डॉलर हो गया।

इंपोर्टड प्रोडक्ट के बढ़ते आंकड़ों से चिंतित सरकार ने पिछले साल इंपोर्टेड उत्पादों पर आयात शुल्क को 6 गुना बढ़ाया था। इसके अलावा हाई-वैल्यू एग्रीकल्चरल इंपोर्ट पर ड्यूटी बढ़ा दी गई। अब वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने घरेलू निर्माण को प्रोत्साहन देने के लिए इंपोर्टेड उत्पादों पर आयात शुल्क बढ़ाने का निर्देश दिया है।

यह भी पढ़ें...ताजा हुआ सिख दंगा का दर्द! पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कही ये बड़ी बात

लेकिन अधिकारियों के मुताबिक काजू, सेट-टॉप बॉक्स, व्हीकल टायर जैसे उत्पादों को तुलनात्मक रूप से कम मात्रा में इंपोर्ट किया जाता है। साथ ही उनका यह भी कहना है कि इंपोर्ट पर अधिक शुल्क बढ़ाने से औद्योगिक मांग को नुकसान पहुंचेगा, क्योंकि घरेलू मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री के पास मैन्युफैक्चरिंग बढ़ाने के लिए पर्याप्त कैपिटल नहीं है।

यह भी पढ़ें...अभी-अभी हुआ भीषण हादसा, 15 लोगों की मौत, 30 से ज्यादा घायल

बता दें कि प्याज की महंगाई से जनता पहले से त्रस्त है। इन चीजों के महंगा होने से उनकी मुसीबतें और बढ़ेंगी। इसके साथ ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बढ़ती प्याज की कीमतों पर बयान पर विपक्षी पार्टियों ने तीखा हमला बोला है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को संसद में कहा कि वह इतना लहुसन, प्याज नहीं खाती हैं और ऐसे परिवार से आती हैं जहां प्याज-लहुसन का ज्यादा मतलब नहीं है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story