×

मौद्रिक नीति समीक्षा: RBI गवर्नर की प्रेस कांफ्रेंस, कर सकते हैं ये बड़े एलान

देश में आर्थिक रफ्तार बढ़ाने को लेकर आज आरबीआई( रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ) बड़ा एलान कर सकता है। खबर है कि बैंक आज इंटरेस्ट रेट में कटौती कर सकती है,और  अन्य विकल्पों की भी घोषणा कर सकती है। बता दें कि आरबीआई गवर्नर की अध्यक्षता में आज मौद्रिक समीक्षा नीति की बैठक है।

Suman  Mishra | Astrologer
Updated on: 6 Aug 2020 5:37 AM GMT
मौद्रिक नीति समीक्षा: RBI गवर्नर की प्रेस कांफ्रेंस, कर सकते हैं ये बड़े एलान
X
मौद्रिक नीति समीक्षा
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली : देश में आर्थिक रफ्तार बढ़ाने को लेकर आज आरबीआई( रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ) बड़ा एलान कर सकता है। खबर है कि बैंक आज इंटरेस्ट रेट में कटौती कर सकती है,और अन्य विकल्पों की भी घोषणा कर सकती है। बता दें कि आरबीआई गवर्नर की अध्यक्षता में आज मौद्रिक समीक्षा नीति की बैठक है।

यह पढ़ें...शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 200 अंक मजबूत, निफ्टी 11,150 अंक के पार

अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की कोशिश

इस बैठक में कोरोना के प्रकोप के बीच देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए आरबीआई के गवर्नर शशिकांत दास की अध्यक्षता वाली 6 सदस्यीय मौद्रिक नीति कमिटी (MPC) की बैठक में नई घोषणा होगी। विशेषज्ञों का मानना है कि आरबीआई नीतिगत दर में कटौती से प्रभावित अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की कोशिश कर सकती हैं इसकी साथ ही लोन पुनर्गठन जैसे अन्य उपायों की घोषणा हो सकता है।

file फाइल

केंद्रीय बैंक अर्थव्यवस्था को कम नुकसान

महामारी और उसकी रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन से उबरने के लिए केंद्रीय बैंक अर्थव्यवस्था को नुकसान कम करने के लिए सक्रियता से कदम उठा रहा है। विशेषज्ञयों के अनुसार मौद्रिक नीति तेजी से बदलते आर्थिक परिवेश को देख मौद्रिक नीति नरम रुख बरकरार रखेगा। इधर मांस, अनाज और दाल जैसे खाद्य वस्तुओं के ऊंचे दाम से उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति जून में 6.09% रही।

यह पढ़ें...लालू यादव का बदला ठिकाना: रिम्स से यहां हुए शिफ्ट, BJP ने खड़े किए सवाल

ब्याज दर में कटौती

एसबीआई की एक शोध रिपोर्ट के अनुसार बैंकों ने नए कर्ज पर ब्याज दर में प्रतिशत 0.72 अंक की कटौती दर में कटौती का लाभ ग्राहकों को ब्याज दर में कटौती के जरिए दिया गया।

रिजर्व बैंक को सरकार की जिम्मेदारी

कोटक महिंद्रा बैंक की समूह अध्यक्ष ने कहा कि कोविड-19 संकट कंपनियों और ग्राहकों दोनों को प्रभावित कर रहा है। अनिश्चितताएं अभी भी बनी हुई है। रिजर्व बैंक को मुद्रास्फीति दो प्रतिशत घट-बढ़ के साथ 4% पर कायम रखने की सरकार ने जिम्मेदारी दी है।

यह पढ़ें...पाकिस्तान की फिर हुई इंटरनेशनल बेइज्जती, UNSC में भारत ने जमकर लगाई लताड़

file प्रतीकात्मक

वित्त मंत्री ने कहा था...

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले सप्ताह कहा था, ‘हमारा ध्यान पुनर्गठन पर है। वित्त मंत्रालय आरबीआई के इस बारे में बातचीत कर रहा है। ' इसके अलावा केंद्रीय बैंक कर्ज लौटाने को लेकर दी गयी मोहलत के संदर्भ में दिशानिर्देश जारी कर सकता है। इसकी अवधि 31 अगस्त को समाप्त होने जा रही है।

फ़ैसले से बाजार में पैसों बढ़ेगा

इसका विरोध भी जताया गया है। ब्याज दर में कटौती से सीधा फायदा ग्राहकों को मिलेगा। ग्राहक कम ब्याज पर पैसा लेकर बाजार में निवेश कर सकते हैं। आरबीआई के इस फ़ैसले से बाजार में पैसों बढ़ेगा। ऐसा अनुमान है कि 2020-21 में वित्तीय बचत में इजाफा होगा।

बता दें कि यह एमपीसी की 24वीं बैठक है। इस संकट की घड़ी में इससे पहले में इस साल 2 बैठक हो चुकी है। पहली बैठक मार्च में और उसके बाद दूसरी बैठक मई, 2020 में हुई।

दोस्तों देश-दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Suman  Mishra | Astrologer

Suman Mishra | Astrologer

Next Story