…तो क्या बंद हो जाएंगे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के डेबिट कार्ड!

कुमार ने ये भी बताया कि बैंक की योनो एप्लिकेशन के जरिये ग्राहक एटीएम मशीनों से पैसे निकाल तो सकते ही हैं साथ में इसके जरिये दुकानों से सामान भी खरीद सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि 68,000 ‘योनो कैशप्वाइंट’ की स्थापना बैंक द्वारा की जा चुकी है।

मुंबई: स्टेट बैंक ऑफ इंडिया यानि एसबीआई के प्लास्टिक के डेबिट कार्ड अब जल्द ही गुजरे जमाने की बात हो जाएंगे। दरअसल, बैंक सफलीभूत होने की योजना बना रहा है। अगर ऐसा हो जाता है तो बैंक के डेबिट कार्ड बंद हो जाएंगे। मालूम हो, एसबीआई देश के सबसे बड़े बैंकों में से एक है और यह अधिक डिजिटल भुगतान प्रणाली पर काम कर रहा है।

यह भी पढ़ें: चंद्रयान-2 ने चांद की पहली कक्षा में किया प्रवेश, 90% तक कम कराई गई स्पीड

स्टेट बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार ने यहां एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘..हमारी डेबिट कार्ड को प्रचलन से बाहर करने की योजना है। हम इस बात को लेकर आश्वस्त हैं कि हमें उन्हें समाप्त कर सकते हैं।’

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान की टेंशन टाइट: मोदी-ट्रंप की यारी पड़ गई इमरान को भारी

उन्होंने कहा कि देश में 90 करोड़ डेबिट कार्ड और तीन करोड़ क्रेडिट कार्ड हैं। कुमार ने कहा कि डिजिटल समाधान पेश करने वाले उसके ‘योनो’ मंच की डेबिट कार्ड मुक्त देश बनाने में अहम भूमिका होगी।

यह भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल अचानक बढ़ा: गाड़ी चलाना पड़ गया अब महंगा, देखें दाम

कुमार ने ये भी बताया कि बैंक की योनो एप्लिकेशन के जरिये ग्राहक एटीएम मशीनों से पैसे निकाल तो सकते ही हैं साथ में इसके जरिये दुकानों से सामान भी खरीद सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि 68,000 ‘योनो कैशप्वाइंट’ की स्थापना बैंक द्वारा की जा चुकी है। यही नहीं, अगले 1.5 साल इसे 10 लाख करने का प्लान है।