कोरोना वायरस के दौर में इन कंपनियों ने की जम कर कमाई…

लॉकडाउन शुरू होते ही जब वर्क फ्राम होम का सिस्टम लागू हो गया तो सॉफ्टवेयर बनाने वाली कंपनियों के लिए यह बहुत अच्छी ख़बर साबित हुई। मिसाल के तौर पर ज़ूम ऐप का स्टॉक मूल्य दिसंबर की तुलना में दोगुना हो गया और यूज़र्स की संख्या एक करोड़ से बढ़कर दो करोड़ हो गई।

नीलमणि लाल

नई दिल्ली। कोरोना महामारी की वजह से पूरी दुनिया में उद्योग-धंधे चौपट होने का रोना रोया जा रहा है लेकिन ऐसी कंपनियां भी हैं जो लॉकडाउन के दौरान भी भारी मुनाफ़ा कमाने में कामयाब रही हैं।

जानते हैं इनके बारे में :

सॉफ्टवेयर :

लॉकडाउन शुरू होते ही जब वर्क फ्राम होम का सिस्टम लागू हो गया तो सॉफ्टवेयर बनाने वाली कंपनियों के लिए यह बहुत अच्छी ख़बर साबित हुई। मिसाल के तौर पर ज़ूम ऐप का स्टॉक मूल्य दिसंबर की तुलना में दोगुना हो गया और यूज़र्स की संख्या एक करोड़ से बढ़कर दो करोड़ हो गई।

इस ऐप को पहसे शायद ही कोई जानता था लेकिन अब कैबिनेट की मीटिंग से लेकर तमाम दफ़्तरों की मीटिंग इसी पर हो रही हैं। इसी तरह माइक्रोसॉफ़्ट टीम्स के 4.4 करोड़ यूज़र्स हो गए हैं। इसमें एक हफ़्ते में 40 फ़ीसदी का इज़ाफ़ा हुआ। रिमोट-एक्सेस सॉफ्टवेयर टीमव्यूअर की भी मांग बढ़ी है। वर्क चैट ऐप स्लैक में हर दिन यूज़र्स के नए रिकॉर्ड बन रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः  ‘गो कोरोना’गीत’ हुआ लांच, राज्यपाल ने कोरोना वारियर्स का किया अभिनंदन

गेमिंग :

लोग घर में बंद हैं और ऑनलाइन गेम खेलने में ज़्यादा वक्त गुजार रहे हैं। इनकी संख्या में बड़ा इज़ाफा देखा जा रहा है। गेम्स की बिक्री में 35 फ़ीसदी का इज़ाफ़ा हुआ है और हार्डवेयर की बिक्री में 63 फ़ीसदी का इजाफा।

वीडियो स्ट्रीमिंग :

मनोरंजन के लिए उपभोक्ता नेटफ़्लिक्स और दूसरी वीडियो स्ट्रीमिंग कंपनियों की सेवाओं पर पैसे ख़र्च कर रहे हैं और वीडियो स्ट्रीमिंग कंपनियों को लॉकडाउन का फ़ायदा मिल रहा है। नेटफ्लिक्स को 16 लाख नए सब्सक्राइबर्स मिले हैं। उसने साल भर के लिए कंटेट पहले से तैयार कर लिया था जो फायदेमंद साबित हुआ है।

डिज़्नी प्लस ने भी ऐन वक्त पर मार्च के आख़िरी में ब्रिटेन और दूसरी जगहों पर अपनी लॉचिंग की और अब इसके क़रीब साढ़े पांच करोड़ सब्सक्राइबर्स हो गए हैं। थियेटर के बंद होने से अब बड़ी फ़िल्में भी सीधे डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म पर ही रिलीज़ हो रही हैं।

ये भी पढ़ेंः सावधान: जन धन खाते बने लूट का साधन, महिला बनी शिकार

अमेज़न :

कोरोना के बावजूद अमेज़न के मालिक जेफ़ बेज़ोस ने लॉकडाउन के दौरान अपनी संपत्ति में 24 बिलियन डॉलर की वृद्धि की है। आमेज़न के शेयर की क़ीमत में भी वृद्धि हुई है। इसकी वज़ह ऑनलाइन सेवा की भारी मांग हो जाना है।

फ़िटनेस :

लॉकडाउन के कारण फिटनेस ऐफ और फिटनेस वीडियो की बहुत मांग बढ़ी है। ऑनलाइन सर्विस के ज़रिए लोगों को जिम ट्रेनिंग दी जा रही है। फिटनेस यूट्यूबरों को भी लॉकडाउन का फ़ायदा मिला है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।