Top

DGP ने बाराबंकी जहरीली शराब कांड मामले में इंस्पेक्टर और सीओ को किया सस्पेंड

उत्‍तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह ने बाराबंकी जहरीली शराब कांड मामले में सख्त कार्रवाई करते हुए इंस्पेक्टर रामनगर और सीओ पवन गौतम को सस्पेंड कर दिया है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 28 May 2019 9:42 AM GMT

DGP ने बाराबंकी जहरीली शराब कांड मामले में इंस्पेक्टर और सीओ को किया सस्पेंड
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी: उत्‍तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह ने बाराबंकी जहरीली शराब कांड मामले में सख्त कार्रवाई करते हुए इंस्पेक्टर रामनगर और सीओ पवन गौतम को सस्पेंड कर दिया है। वहीं, आईजी फैजाबाद मौके पर पहुंच गए हैं। मामले की जांच की जा रही है। इस घटना पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मरने वालों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है और कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए हैं। सीएम योगी ने डीएम और एसपी को तुरंत मौके पर पहुंचने और मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध करवाने के आदेश दिए हैं। इसके अलावा योगी ने प्रिंसिपल सेक्रटरी (एक्साइज) को भी तुरंत जांच के आदेश दिए हैं।

यह भी पढ़ें,,, कानपुर: चौकी प्रभारी ने चौकी पहुंचे प्रेमी जोड़े की शादी कराकर किया कन्यादान

जहरीली शराब से पहले भी गयी है कई जान-

प्रदेश के बाराबंकी में मारे गए लोगों ने राम नगर कोतवाली क्षेत्र के रानीगंज में सोमवार शाम को सरकारी ठेके से खरीद कर शराब पी थी। देर रात अचानक उनकी तबियत बिगड़ने लगी तो परिजन उन्हें लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे, जहां इलाज के दौरान अभी तक 10 लोगों ने दम तोड़ दिया है। इससे पहले भी प्रदेश में जहरीली शराब कांड ने कई लोगों की जाने ली हैं। प्रदेश के सहारनपुर में हाल ही में जहरीली शराब के चलते कई लोगो की मौत हो गई इतना ही नहीं कुशीनगर,कानपुर में भी जहरीली शराब ने कई जाने ले ली थी।

यह भी पढ़ें,,, जीआरपी सिपाही रोजाना करता है हफ्ता वसूली, प्रशासन खामोश

इससे पहले 98 लोगों की हुई थी मौत-

इससे पहले उत्तर प्रदेश और उत्तरखंड में जहरीली शराब पीने से सहारनपुर, रुड़की और कुशीनगर में 98 लोगों की मौत हो गई थी। सहारनपुर के 64, रुड़की में 26 और कुशीनगर में 8 लोगों की मौत हुई थी। तब इस मामले में प्रशासन की लापरवाही के लिए सरकार ने नागल थाना प्रभारी सहित दस पुलिसकर्मा और आबकारी विभाग के तीन इंस्पेक्टर और दो कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया था।

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story