CBSE का बड़ा फैसला: कोरोना के कारण बोर्ड EXAM के लिए लागू किए ये नियम

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षाओं में बड़ा बदलाव किया है। इसके तहत सभी परीक्षा केंद्रों पर यह बदलाव मंगलवार से लागू हो जाएगा। सीबीएसई देहरादून के क्षेत्रीय अधिकारी रणबीर सिंह की ओर से पूरे रीजन में सभी परीक्षा केंद्रों को पत्र भेजा गया है।

Published by suman Published: March 17, 2020 | 11:20 am
Modified: March 17, 2020 | 11:54 am

नई दिल्ली सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षाओं में बड़ा बदलाव किया है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच सभी परीक्षा केंद्रों पर यह बदलाव मंगलवार से लागू हो जाएगा। सीबीएसई देहरादून के क्षेत्रीय अधिकारी रणबीर सिंह की ओर से पूरे रीजन में सभी परीक्षा केंद्रों को पत्र भेजा गया है।

इसमें कहा गया है कि बोर्ड के निर्देशानुसार अब सभी परीक्षा केंद्रों में छात्रों के बीच की दूरी कम से कम एक मीटर होनी जरूरी है। अभी तक एक परीक्षा कक्ष में 24 छात्रों के बैठने की व्यवस्था होती थी, जिसे घटाकर 12 तक कर दिया गया है। छात्रों के लिए अतिरिक्त कक्षों में बैठने के इंतजाम करने होंगे।

अगर कक्ष कम पड़ जाएं तो लाइब्रेरी, ऑडिटोरियम, लैब आदि में छात्रों के बैठने का इंतजाम करना होगा। बोर्ड ने तत्काल यह आदेश लागू कर दिया है यानी मंगलवार को होने वाली बोर्ड परीक्षाओं में छात्रों के बीच की दूरी एक-एक मीटर होगी। इन निर्देशों का अनुपालन न करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

यह पढ़ें…Corona इफेक्ट: BCCI ने आज से शुरू किया ऐसे काम, IPL पर संकट बरकरार

 

कोरोना वायरस को लेकर इसका यह मतलब नहीं है कि इसे लेकर स्थिति बहुत भयावह है। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना को लेकर घबराने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है। बस इसके संक्रमण को लेकर लेकर सतर्कता और एहतियात बरतें। जिससे इसे फैलने से रोका जा सके।

सोसायटी ऑफ पीपुल फॉर डेवलपमेंट के वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस का संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में किसी संक्रमित व्यक्ति के खांसने, छींकने या हाथ मिलाने, छूने या संक्रमित व्यक्ति के स्राव के संपर्क में आने पर होता है।

इसके अलावा संक्रमित के संपर्क में आने के बाद अपने मुंह, नाक या आंखों को छूने से भी इसका संक्रमण हो सकता है। अब तक इस वायरस को रोकने वाला कोई टीका या दवा नहीं बनी है। इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बेहद जरूरी है। कोरोना को लेकर बिल्कुल भी घबराएं नहीं ,बल्कि एहतियात बरतें। कोरोना से संबंधित लक्षण महसूस होने या दिखने पर तत्काल योग्य डॉक्टर को दिखाएं और डॉक्टर के बताए अनुसार जांच व उपचार कराएं।

 

यह पढ़ें…कोरोना का असर: यहां खाली हुआ चिड़ियाघर, सरकार ने आंकड़ों को देख लिया फैसला

 

लक्षण- बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ
ऐसे करें बचाव- अपनी व्यक्तिगत स्वच्छता पर ध्यान दें। साबुन-पानी से हर आधे घंटे में हाथ धोते रहें। इसी तरह हाथ को सैनेटाइजर से साफ करते रहें। छींकने और खांसने के दौरान अपना मुंह जरूर ढंकें। प्रयोग के बाद टिशू को तुरंत किसी बंद डिब्बे में फेंक दें।
जब आपके हाथ स्पष्ट रूप से गंदे न हों, तब भी अपने हाथों को हैंड वॉश से जरूर धोएं।
-अपनी आंखों, नाक और मुंह को बार-बार छूने से बचें। जिन व्यक्तियों में कोल्ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें। जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बचें।
बुखार, खासी, सांस लेने में तकलीफ हो तो डॉक्टर से संपर्क करें।