राजधानी के स्टूडेंट्स को नहीं भाया, इस बार का यूपी बोर्ड रिजल्ट

लेकिन जारी हुई टॉप10 हाईस्कूल छात्रों की लिस्ट में लखनऊ के किसी भी स्कूल के छात्र को जगह नहीं मिली है। जो कि काफी निराशाजनक है इसी वजह से लखनऊ के लोगों को यह रिजल्ट नहीं भाया है।

लखनऊ: यूपी बोर्ड 10वीं-12वीं का रिजल्‍ट जारी कर दिया गया है। 10वीं में कानपुर के गौतम रघुवंशी ने टॉप किया है जो कि कानपुर के ओंकारेश्वर स्कूल के छात्र हैं।  इसके बाद दूसरे स्थान पर शिवम हैं जो कि बाराबंकी के साई इंटर कॉलेज के छात्र हैं। इसके बाद बाराबंकी की तनुजा विश्वकर्मा हैं जिनहोने तीसरा स्थान हासिल किया है।

यह भी पढ़ें… UP Board Result 2019: ये हैं 10वीं क्लास के टॉप 10 स्टूडेंट्स

लेकिन जारी हुई टॉप10 हाईस्कूल छात्रों की लिस्ट में लखनऊ के किसी भी स्कूल के छात्र को जगह नहीं मिली है। जो कि काफी निराशाजनक है इसी वजह से लखनऊ के लोगों को यह रिजल्ट नहीं भाया है।

यह भी पढ़ें… पास हुए छात्रों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दी बधाइयाँ

ये हैं टॉप 10 स्टूडेंट्स:

1॰ गौतम रघुवंशी (583/600) कानपुर के छात्र।

2. शिवम (582/600) बाराबंकी के छात्र।

3॰ तनुजा विश्वकर्मा (581/600) बाराबंकी की छात्रा।

4॰ अपूर्वा वैश्य, शुभांगी (577/600) इसमें अपूर्वा वैश्य बांदा की तो शुभांगी बाराबंकी की छात्रा हैं।

5॰ शिखा सिंह, निखिल चौरसिया (572/600) इसमें शिखा सिंह उन्नाव की रहने वाली हैं और निखिल चौरसिया श्रावस्ती के छात्र हैं।

यह भी पढ़ें… यूपी बोर्ड रिजल्ट 2019: ये हैं 12वीं क्लास के टॉप 10 स्टूडेंट्स

6॰ हर्षिता सिंह, ईशा यादव (570/600) हर्षिता सिंह और ईशा यादव ने बराबर मार्क्स अर्जित किए हैं और दोनों मऊ की रहने वाली हैं।

7॰ गोपाल मौर्य (569/600) ये संत कबीर नगर के रहने वाले हैं।

8॰ अनुराग सिंह, श्रद्धा सचान, गौरा कमर (568/600) इसमें अनुराग और श्रद्धा जहां कानपुर के रहने वाले हैं, वहीं गौरा कमर कन्नौज से संबंध रखते हैं।

9॰ प्रियान्शु गुप्ता, दिव्यानी सिंह, जैनब (567/600) प्रियान्शु और दिव्यानी कानपुर से संबंध रखते हैं और जैनब इटावा की रहने वाली हैं।

10॰ सुनिधि वसुंधरा, हर्ष खत्री, अक्षय कुमार, प्रज्ञा देवी, साक्षी जायसवाल (566/600) इसमें सुनिधि रायबरेली से, हर्ष कानपुर से, अक्षय प्रयागराज से, प्रज्ञा फ़तेहपुर से और साक्षी अयोध्या की रहने वाली हैं।

इस सूची में राजधानी का कोई भी छात्र नहीं है जो कि लखनऊ के बच्चों को खुशी नहीं दे रहा है।