शिक्षक भर्ती के लिए हो रही ‘अग्निपरीक्षा’, शामिल हो रहे 16 लाख अभ्यर्थी

प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 1076336 व उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 569174 अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन आवेदन किया है। इस बार साफ्टवेयर में बदलाव करने के कारण अभ्यर्थी दोहरे आवेदन नहीं कर सके। इसीलिए किसी का आवेदन निरस्त नहीं हुआ।

Published by SK Gautam Published: January 8, 2020 | 10:55 am
Modified: January 8, 2020 | 11:01 am

लखनऊ: 22 दिसंबर को होने वाली उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी टीईटी) 2019 संशोधन कानून के विरोध में प्रदर्शन के दौरान हिंसा के कारण स्थगित कर दी गयी थी। यह परीक्षा आज 08-01-2020 बुधवार को आयोजित की जा रही है। प्रदेश भर के जिलों में इम्तिहान दो पालियों में होगा।

प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 1986 व उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 1063 केंद्र बनाए गए हैं। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय सभी जिलों में प्रश्नपत्र व ओएमआर शीट पिछले माह ही पहुंचा चुका है, वह कोषागारों के डबल लॉक में सुरक्षित रखा गया था। यूपी टीईटी के लिए प्रक्रिया अक्टूबर माह से चल रही थी ।

प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 1076336 व उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 569174 अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन आवेदन किया है। इस बार साफ्टवेयर में बदलाव करने के कारण अभ्यर्थी दोहरे आवेदन नहीं कर सके। इसीलिए किसी का आवेदन निरस्त नहीं हुआ।

ये भी देखें : भूकंप से थर्राया देश: अभी-अभी घरों से निकले लोग, हिलने लगीं इमारतें

परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी का दावा है कि अधिकांश प्रवेशपत्र डाउनलोड हो चुके हैं। परीक्षा नकलविहीन व शांतिपूर्ण कराने की सारी तैयारियां पूरी हैं।

ये है परीक्षा का समय-

प्राथमिक स्तर – 10 से 12.30 बजे

उच्च प्राथमिक – 2.30 से 5.00 बजे

मुख्य गेट कीन जाएगी वीडियो रिकॉर्डिंग-

सभी मंडलायुक्तों व डीएम को निर्देश हैं कि वे हर परीक्षा केंद्र पर अभ्यर्थियों के प्रवेश के समय प्रवेश द्वार की वीडियो रिकॉर्डिंग कराएं, ताकि कोई अराजकतत्व गड़बड़ी न कर सके। हर परीक्षा केंद्र पर सचल दल, स्टेटिक मजिस्ट्रेट व पर्यवेक्षक पहुंचकर उन कक्षों की विशेष निगरानी की करें, जो बंद पड़े हैं या फिर परीक्षा में उनका प्रयोग नहीं हो रहा है।

अगर पेपर लीक की उड़ाई अफवाह तो होगा मुकदमा

परीक्षा के समय अक्सर अराजकतत्व सोशल मीडिया पर पेपर लीक होने की अफवाह फैला देते हैं। इससे भ्रम की स्थिति बनती है और अभ्यर्थी भी प्रभावित होते हैं। अब अराजकतत्वों के विरुद्ध साइबर क्राइम के तहत प्राथमिकी दर्ज कराकर कार्रवाई होगी। केंद्र व्यवस्थापक, पर्यवेक्षक या फिर स्टेटिक मजिस्ट्रेट कैमरायुक्त मोबाइल लेकर परीक्षा स्थल पर प्रवेश नहीं करेगा, वे बिना कैमरा वाला मोबाइल लेकर जा सकते हैं।

ये भी देखें : ईरान में बड़ा हादसा: 180 लोगों की तलाश जारी, मची अफरातफरी

अगर हो रहे हैं परीक्षा में शामिल तो यह जरूर साथ लाएं-

परीक्षार्थियों ने ऑनलाइन आवेदन करते समय जो भी पहचान पत्र अंकित किया है, उसकी मूल प्रति जरूर साथ लाएं। इसके अलावा प्रवेशपत्र व किसी सेमेस्टर का अंक पत्र भी लाना है। वहीं परीक्षार्थियों को सिर्फ पेन व प्रवेशपत्र के साथ ही प्रवेश दिया जाएगा, अन्य कोई सामग्री कक्ष में ले जाने की अनुमति नहीं है। केंद्रों पर पेपर खोलते समय की वीडियो रिकॉर्डिंग को अनिवार्य है।

बड़ी संख्या में अफसर-कर्मचारी-

परीक्षा के लिए 1,24,325 कक्ष निरीक्षक लगे हैं, जबकि 6096 पर्यवेक्षक, 663 सचल दल, इतने ही प्रश्नपत्र परीक्षा केंद्रों तक पहुंचाने वाली टीमें हैं। 3048 केंद्र व्यवस्थापक तैनात होंगे। इतने ही स्टेटिक मजिस्ट्रेट लगाए गए हैं। वहीं, 4394 तृतीय श्रेणी कर्मचारी और 7645 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी तैनात होंगे। जिले के डीएम, एसपी व डीआइओएस को परीक्षा सकुशल कराने की जिम्मेदारी दी गई है। कुल नियुक्त अफसर व कर्मचारियों की सूची में वह शामिल नहीं है।

ये भी देखें : कौन हैं वो दरिंदे, जिन्होंने निर्भया के साथ की थी दरिंदगी, अब चढ़ेंगे फांसी पर

इस परीक्षा को पास करने वाले होगे शिक्षक के पात्र-

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यूपीटीईटी-2019 को पास करने वाले राज्य के स्कूलों में शिक्षक के पद के लिए पात्र होंगे। आप यूपीटीईटी के हजारों परीक्षार्थियों में से हैं, तो परीक्षा के सुचारू संचालन को सुनिश्चित करने के लिए इन निर्देशों की जाँच करें।

उत्तीर्ण अंक-

परीक्षा को पास करने के लिए उम्मीदवारों को 60 प्रतिशत अंक या 90 अंक प्राप्त करने होंगे। आरक्षित वर्ग से संबंधित लोगों को 55 प्रतिशत या 82 अंक हासिल करने होंगे। उम्मीदवार उन प्रश्नों का प्रयास करें, जिनके उत्तर जानते हैं। इसके अलावा, जैसा कि कोई नकारात्मक अंकन नहीं है, यह यथासंभव अधिक से अधिक प्रयास करना फायदेमंद होगा।

एडमिट कार्ड-

फोटो पहचान पत्र के साथ एडमिट कार्ड, पासपोर्ट के आकार की तस्वीर ले जाना अनिवार्य है। उम्मीदवारों को अपने प्रवेश समय, स्थान और कई अन्य निर्देशों को सुनिश्चित करने के लिए परीक्षा से पहले एडमिट कार्ड की जांच करने की आवश्यकता है। यदि यूपीटीईटी प्रवेश पत्र में कोई त्रुटि है, तो उम्मीदवारों को अधिकारियों के साथ इसे उजागर करने की आवश्यकता है। यह एडमिट कार्ड सत्यापन और जांच के उद्देश्यों के लिए हैं। यदि एडमिट कार्ड और दस्तावेज मेल नहीं खाते हैं, तो उम्मीदवारों को परीक्षा हॉल में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है।

ये भी देखें : अभी नहीं थमेगा ठंड का कहर, यूपी समेत इन राज्यों में होगी जमकर बारिश

उत्तर पुस्तिका-

उम्मीदवारों को परीक्षा से पांच मिनट पहले उत्तर पुस्तिका या टेस्ट बुकलेट की सील खोलने के लिए कहा जाएगा। उन्हें परीक्षा का प्रयास करने से पहले अपने उत्तर पुस्तिकाओं की जांच करने की आवश्यकता है, किसी भी संदिग्ध गतिविधि के मामले में, उम्मीदवार को अधिकारियों को सूचित करने की आवश्यकता है। यदि पकड़ा गया, उत्तर पुस्तिका पर पहचान का एक निशान, लिखना या छोडऩा, उम्मीदवारी रद कर दी जाएगी।

ओएमआर उत्तर पुस्तिका-

उम्मीदवारों को परीक्षण पुस्तिका के साथ ओएमआर उत्तर पत्रक संलग्न करना होगा। ओएमआर उत्तर पुस्तिका गायब होने की स्थिति में, परिणाम रद कर दिया जाएगा।

उम्मीदवारों को परीक्षण पुस्तिका के साथ ओएमआर उत्तर पत्रक संलग्न करना होगा। ओएमआर उत्तर पुस्तिका गायब होने की स्थिति में, परिणाम रद कर दिया जाएगा।