गणेश जी से रुठा कपूर खानदान, इसलिए नहीं मना रहे गणेश उत्सव

आज आखिरकार बप्पा का आगमन हो चुका है। दुनिया के कोने-कोने हर घर लोग गणेश उत्सव धूमधाम से मना रहे हैं पर बॉलीवुड का एक ऐसा भी परिवार है, जहां गणेश उत्सव को मनाने की 70 साल की परंपरा टूट गई है।

गणेश जी से रुठा कपूर खानदान, इसलिए नहीं मना रहे गणेश उत्सव

गणेश जी से रुठा कपूर खानदान, इसलिए नहीं मना रहे गणेश उत्सव

मुम्बई: आज आखिरकार बप्पा का आगमन हो चुका है। दुनिया के कोने-कोने हर घर लोग गणेश उत्सव धूमधाम से मना रहे हैं पर बॉलीवुड का एक ऐसा भी परिवार है, जहां गणेश उत्सव को मनाने की 70 साल की परंपरा टूट गई है। इस बार बॉलीवुड का फेमस परिवार कपूर खानदान गणेश उत्सव को सेलिब्रेट नहीं करेगा और इसकी वजह है आरके स्टूडियो का बिक जाना। दरअसल, कपूर खानदार आरके स्टूडियो में ही गणेश उत्सव को धूमधाम से सेलिब्रेट करता था लेकिन 2017 में आरके स्टूडियो में आग लगने की वजह से भारी नुकसान हुआ और आरके स्टूडियो को बेच दिया गया।

गणेश जी से रुठा कपूर खानदान, इसलिए नहीं मना रहे गणेश उत्सव

यह भी पढ़ें: गणपति बप्पा मोरया: तिरंगे के रंग में गणेश प्रतिमाएं, दे रही ऐसा संदेश

आरके स्टूडियो के बिक जाने के बाद नहीं मनायेंगे गणेश उत्सव-

हाल ही में इस बारे में रणधीर कपूर ने बताया कि, साल 2018 का गणेश चतुर्थी हमारे लिए आखिरी सेलीब्रेशन था। जब आरके स्टूडियो ही नहीं रहा तो कहां करेंगे? पापा ने 70 साल पहले ये परंपरा शुरु की थी और वो बप्पा को बहुत मानते थे। लेकिन आरके स्टूडियो के बाद अब हमारे पास जगह ही नहीं है। हमें बप्पा पर अटूट विश्वास है और हम उनको बहुत मानते हैं। मगर मुझे लगता है कि हम इस परंपरा को आगे नहीं बढ़ा पाएंगे।

इससे पहले कपूर खानदान हर साल धूमधाम से गणेश चतुर्थी सेलीब्रेट करता था। आरके स्टूडियो में बप्पा का पंडाल सजता था और सारे लोग यहां बप्पा के दर्शन के लिए आते थें और गणेश चतुर्थी के आखिरी दिन धूमधाम के साथ बप्पा को विदा किया जाता था।

यह भी पढ़ें: जान लें बप्पा फैंस: तो यहां से आया गणपति बप्पा मोरया, गजब है ये राज

लेकिन आरके स्टूडियो के बिक जाने के बाद इस साल कपूर खानदान गणेश उत्सव को सेलीब्रेट नहीं करेगा। बता दें कि राज कपूर ने 1948 में आरके स्टूडियो की स्थापनी की थी। 2017 में इस स्टूडियो में भीषण आग लग गई थी, जिस वजह से काफी नुकसान हुआ था। उसके बाद इस स्टूडियो को गोदरेज प्रोपर्टीज को बेच दिया गया।