×

FB,TWITTER पर जारी है डेटा सेंधमारी, नहीं SAFE है पैसा, पर्स व पर्सनल जानकारी

लिंकड इन, ट्विटर,फेसबुक  पर बने प्रोफाइल के डेटा लीक होने की खबर है। एक बार फिर से एक बड़ा डेटा लीक की खबर आ रही है। इस डेटा लीक में साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर ने खुलासा किया है। कहा है कि ये डेटा जिस सर्वर पर रखा था वो सिक्योर नहीं था।

suman
Updated on: 22 Nov 2019 3:44 PM GMT
FB,TWITTER पर जारी है डेटा सेंधमारी, नहीं SAFE है पैसा, पर्स व पर्सनल जानकारी
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

जयपुर:लिंकड इन, ट्विटर,फेसबुक पर बने प्रोफाइल के डेटा लीक होने की खबर है। एक बार फिर से एक बड़ा डेटा लीक की खबर आ रही है। इस डेटा लीक में साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर ने खुलासा किया है। कहा है कि ये डेटा जिस सर्वर पर रखा था वो सिक्योर नहीं था।

यह पढ़ें...विधानसभा परिसर से भागे नेता! परिसर के बाहर फेंका ग्रेनेड, इस संगठन ने ली जिम्मेदारी

ये 4TB का पर्सनल डेटा है इसमें 1.2 बिलियन पर्सनल डीटेल्स हैं। ये डेटा में पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड नंबर्स नहीं हैं। लेकिन यहां प्रोफाइल की पूरी जानकारी और फोन नंबर शामिल हैं जिसका इस्तेमाल हैकिंग के लिए किया जा सकता है।

पासवर्ड और संवेदनशील डीटेल्स न होने के बावजूद ये डेटा लीक एक आम यूजर के लिए खतरे का सिग्नल है। हैकर्स यूजर्स को टारगेट करने के लिए जो बेसिक जानकारी चाहिए, इसमें इनका अहम रोल होता है।

सिक्योरिटी रिसर्चर के मुताबिक इस डेटा में लगभग 50 मिलियन फोन नंबर्स और 662 मिलियन यूनिक ईमेल शामिल हैं। साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर ने कहा है, 'किसी के पास इतनी आसानी से उपलब्ध है, ये बहुत खराब है। ऐसा पहली बार देखा है कि एक सिंगल डेटाबेस में इतने ज्यादा मात्रा में डेटा रखे है। अगर अटैकर की नजर से देखें तो ये यूजर्स के अकाउंट को हाइजैक करने के लिए काफी है।

यह पढ़ें...पितृत्व साबित करने के लिए डीएनए जांच से नहीं भाग सकता कथित पिता: हाईकोर्ट

1.2 अरब यूजर्स में भारत के कितने यूजर्स हैं, लेकिन पूरी उम्मीद है कि इस डेटा लीक में भारत के यूजर्स भी प्रभावित हुए होंगे। इसका असर अचानक नहीं दिखेगा। क्योंकि इस डेटा को फिल्टर करके हैकर्स अपने फायदे के लिए यूज कर सकते हैं।

टीरोइया(Troia) को जो डेटा मिला है उसे अलग-अलग लेबल के साथ सर्वर पर स्टोर किया गया था। ये सर्वर सैन फ्रैंसिस्को की कंपनी पीपल डेटा लैब्स का है। इस कंपनी के को फाउंडर का कहना है कि कंपनी के पास वो सर्वर नहीं है जहां से डेटा लीक हुआ। यानी इसे कोई और यूज कर रहा था। ये डेटा चार अलग अलग सर्वर के है जिसे एक जगह मिला कर रखा गया था।

suman

suman

Next Story