गुजरात में Flying Cars! अब आप भी करेंगे आसमान की सैर

सड़क पर एक बार में थ्री-व्हीलर फ्लाइंग कार 1287 किलोमीटर चल सकती है, जबकि एक बार में 482 किलोमीटर तक ये कार हवा में उड़ सकती है। फ्यूल टैंक की बात करें तो वह 100 लीटर का होगा।

फ्लाइंग कार

फ्लाइंग कार

गांधीनगर: गुजरात में अब जल्द ही फ्लाइंग कार (उड़ने वाली कार) का प्लांट लगने वाला है। अब इसके जरिये भीषण जाम से बचा जा सकता है। ऐसे में इसकी चर्चा तेज हो गई है कि फ्लाइंग कार का प्लांट गुजरात में कब लगाया जाएगा।

यह भी पढ़ें: Shane Warne B’day: बैड ब्वाॅय का जेंटलमैन खेल, जानिए क्रिकेटर से जुड़े 4 विवाद

बता दें, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से पिछले दिनों एक डच कंपनी PAL-V ने मुलाक़ात कर इस संदर्भ में चर्चा की थी। इसलिए अब इसपर चर्चा काफी तेज हो गई है। मुख्यमंत्री से मुलाक़ात के दौरान फ्लाइंग कारों के पहले प्लांट लगाने पर भी चर्चा की गई थी। दरअसल, दुनिया की पहली फ्लाइंग कार PAL-V पेश करने वाली है।

यह भी पढ़ें: ‘लैंडर विक्रम’ पर अब आई ये जानकारी, इन तीन बड़े कारणों से बिगड़ी लैंडिंग!

PAL-V कंपनी चाहती है कि वह एशिया में भी अपना बिजनेस बढ़ाए। ऐसे में वह भारत में ही प्लांट लगाने की इच्छुक है। इसी क्रम में कंपनी ने मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के सामने अपना प्रस्ताव रखा, जिसे सीएम रूपाणी ने भी हाथों-हाथ लिया है।

यह भी पढ़ें: राजपथ, संसद और सचिवालय की तस्वीर बदलने की तैयारी में मोदी सरकार

इस दौरान सीएम रूपाणी ने कंपनी के अधिकारियों को इस बात का भरोसा भी दिलाया कि अगर वह गुजरात में प्लांट लगाएंगे तो उनको जमीन से लेकर बिजली, पानी जैसी सभी मूलभूत सुविधाएं और सरकार की तरफ से सभी मदद उपलब्ध कराई जाएगी।

जल्द होगी शुरुआत

दिसंबर 2018 से इन कारों की प्री-बुकिंग कंपनी शुरू कर चुकी है। इसलिए कंपनी दावा कर रही है कि 2020 तक वह अपनी पहली फ्लाइंग कार पहले ग्राहक को मुहैया करा सकती है। यही कारण है कि कंपनी अपना प्लांट सेटअप जल्द से जल्द करना चाहती है।

कुछ सालों में खरबों का होगा बाजार

बाद डच कंपनी के अधिकारियों ने गुजरात के मुख्यमंत्री से मुलाक़ात करने के बाद कहा कि कंपनी गुजरात के अलावा और भी कई राज्यों में अपना प्लांट लगाने के बारे में विचार कर रही है। इसके तहत कई अन्य विकल्प तलाशे जा रहे हैं। कंपनी को उम्मीद है कि साल 2040 तक तक दुनिया भर में फ्लाइंग कार का बाजार डेढ़ ट्रिलियन डॉलर यानि 1068 खरब रुपये से ज्यादा का हो जाएगा।

इन देशों में शुरू होगी फ्लाइंग कार की बिक्री

कार की बुकिंग शुरू करने के साथ कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि अभी तीन देशों में ही इसकी बिक्री शुरू होगी। यह तीन देश ब्रिटेन, यूरोप और उत्तरी अमेरिका हैं। हालांकि, इसका प्लांट भारत में अगर लग जाएगा तो जल्द ही एशिया के कई देशों में जल्द इसकी शुरुआत होगी।

जानें, क्या होगी इनकी कीमत

अभी फ्लाइंग कार कोई आम आदमी खरीदने की सोच भी नहीं सकता है। दरअसल इसकी कीमत अभी आम आदमी के पॉकेट से ज्यादा होगी। मगर बाद में यह सबके बजट में आ सकती है। इसकी शुरुआती कीमत 3.20 लाख पाउंड (करीब तीन करोड़ रुपये) बताई जा रही है।

भारत में ऐसा होगा कारों की भविष्य

भारत में फ्लाइंग कार आने से आप दो घंटे से भी कम समय में दिल्ली से लखनऊ तक का सफर तय कर सकते हैं। इसके अलावा एक घंटे में दिल्ली से जयपुर की दूरी तय की जा सकती है। इसमें जाम में फंसने की भी कोई दिक्कत नहीं होगी।

क्या है कार की रफ्तार और माइलेज

सड़क पर एक बार में थ्री-व्हीलर फ्लाइंग कार 1287 किलोमीटर चल सकती है, जबकि एक बार में 482 किलोमीटर तक ये कार हवा में उड़ सकती है। फ्यूल टैंक की बात करें तो वह 100 लीटर का होगा। इस कार को पेट्रोल से चलाया जा सकेगा। इसकी रफ्तार सड़क पर 160 किलोमीटर प्रति घंटा तक होगी, जबकि इसकी रफ्तार हवा में 180-190 किलोमीटर प्रति घंटा तक होगी।