सावधान-रखें ध्यान: अगर ऐसे ऑनलाइन पेमेंट किया, तो गायब होंगे सारे पैसे

कैश लेन-देन के लिए आजकल ज्यादातर लोग डिजिटल सिस्टम का इस्तेमाल करने लगे हैं। ये बेहद आसान भी है। इससे लोग घर बैठे ही दूर-दूर तक पैसों का लेन-देन कर सकते हैं। सरकार भी डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा दे रही है।

Published by Vidushi Mishra Published: October 26, 2019 | 10:35 am
Modified: October 26, 2019 | 11:37 am
सावधान-रखें ध्यान: अगर ऐसे ऑनलाइन पेमेंट किया, तो गायब होंगे सारे पैसे

सावधान-रखें ध्यान: अगर ऐसे ऑनलाइन पेमेंट किया, तो गायब होंगे सारे पैसे

नई दिल्ली : कैश लेन-देन के लिए आजकल ज्यादातर लोग डिजिटल सिस्टम का इस्तेमाल करने लगे हैं। ये बेहद आसान भी है। इससे लोग घर बैठे ही दूर-दूर तक पैसों का लेन-देन कर सकते हैं। सरकार भी डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा दे रही है। कुछ समय पहले सरकार ने डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए बीबीपीएस से बिल पेमेंट की सुविधा शुरू की थी और एनईएफटी की सुविधा को 24 घंटों तक देने की भी घोषणा की थी।

यह भी देखें… सरकार लायी लाखों का तोहफा! सिर्फ 250 रुपए में मिलेगा आपको इसका लाभ

सावधानी से करें डिजिटल पेमेंट

डिजिटल पेंमेट आसान तो बहुत है लेकिन इससे इतनी तेजी से धोखा-धड़ी के मामले बढ़ रहे है जिससे लोगों को भारी नुकसान हुआ। फ्रॉड उन लोगों से ज्यादा होता है जो लोग डि़जिटल पेंमेंट के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं। या फिर कम जानकारी रखते हैं।

या फिर ऐसा तब होता है जब आपकी ओटीपी गलत हाथों में पड़ जाए। लेकिन कुछ तरीकों को अपनाकर आप फ्रॉड से बच सकते हैं और अपना पैसा सुरक्षित रख सकते है। तो चलिए जानते हैं डिजिटल पेमेंट करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

सेफ ऐप का ही करें इस्तेमाल

हैकर्स स्मार्टफोन में इस्तेमाल की जाने वाली कई तरह की ऐप्स की मदद से भी फोन में मौजूद दूसरे डिटेल्स और ओटीपी चुरा लेते हैं, भले ही ये ऐप टॉर्च या कैलकुलेटर हों। ऐसे में प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से डाउनलोड की गईं ऑफिशल ऐप्स ही इस्तेमाल करें।

यह भी देखें… इंडिया-बम फोड़ने के पैसे! 7 पाकिस्तानियों से ये सवाल

तो जब भी आप डिजिटल पेमेंट करते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि इसे ट्रस्टेड सोर्स से ही किया जाए। इसके अलावा इस बात पर भी ध्यान रखें कि कितनी रकम कटने वाली है क्योंकि फ्रॉड होने पर बड़ी राशि आपके अकाउंट से गायब हो सकती है। इसलिए अगर सोर्स विश्वसनीय न लगे तो फौरन पेमेंट कैंसल कर दें।

किसी को न बताए ओटीपी

ऐसे मामलों में सबसे जरूरी कदम ये है कि आप किसी से भी अपना ओटीपी शेयर न करें। इसी तरह से कॉल, वॉट्सऐप या ईमेल पर सामने कोई भी हो, भले ही वह खुद के बैंककर्मी होने का दावा करे, आपको ओटीपी शेयर नहीं करना है।

ध्यान कर लीजें कि कोई भी बैंक कभी भी अकाउंट होल्डर से ओटीपी नहीं पूछते, ऐसे में झूठ बोलकर कोई आपको धोखा-धड़ी का शिकार बना सकता है।

यह भी देखें… अयोध्या में दीपोत्सव आज, 5 लाख 51 हजार दीये जलाने का बनेगा वर्ल्ड रिकॉर्ड