सावधान: Telegram यूजर्स फौरन कर लें ये काम, फंस सकते हैं बड़ी मुसीबत में

हाल ही में एक स्पाइवेयर के जरिए वाटसएप पर जासूसी किए जाने की रिपोर्ट आई थी। व्हाट्स एप में दिए गए एंड-टु-एंड इनक्रिप्शन के बावजूद भी थर्ड पार्टी स्पाइवेयर ने हैकर्स के लिए जासूसी करने का कोई न कोई रास्ता ढूंढ ही लिया।

Published by Aditya Mishra Published: November 20, 2019 | 4:43 pm
Modified: November 20, 2019 | 5:03 pm

लखनऊ: भारत समेत दुनिया भर के करीब 1,400 लोगों के व्हाट्स एप अकाउंट हैक होने के बाद अब लोग टेलीग्राम और सिग्नल एप को डाउनलोड कर रहे हैं। अगर आप भी उन लोगों में से हैं जिन्होंने व्हाट्स एप जासूसी के खतरे के बाद किसी दूसरे एप पर अकाउंट बना लिया है तो आपको सावधान रहने की जरूरत है।

हाल ही में एक स्पाइवेयर के जरिए वाटसएप पर जासूसी किए जाने की रिपोर्ट आई थी। व्हाट्स एप में दिए गए एंड-टु-एंड इनक्रिप्शन के बावजूद भी थर्ड पार्टी स्पाइवेयर ने हैकर्स के लिए जासूसी करने का कोई न कोई रास्ता ढूंढ ही लिया।

एक नई रिपोर्ट में पता लगा है कि कुछ इसी तरह का खतरा टेलीग्राम और सिग्नल एप पर भी मंडरा रहा है। रिसर्चर का कहना है कि काफी सुरक्षित होने के बाद भी ऑपरेटिंग सिस्टम के बग के कारण इन मैसेजिंग एप को हैक किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें…मोबाइल से करते हैं लेनदेन तो पढ़े ये जरूरी खबर,खाली हो जाएगा आपका एकाउंट

 रिसर्चर्स ने कही ये चौंकाने वाली बात

साइबर सिक्योरिटी के शोधकर्तांओ ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि यह पूरी तरह से आधारहीन बात है कि एंड टू एंड इनक्रिप्शन वाले टेलीग्राम और सिग्नल हैक नहीं हो सकते। टेलीग्राम और सिग्नल चैट की प्राइवेसी के लिए कई तरह से सिक्योरिटी लेयर्स से लैस हैं, लेकिन एक्सपर्ट का मानना है कि ये दोनों एप भी हैक किए जा सकते हैं।

साइबर सिक्योरिटी फर्म के को-फाउंडर राहुल त्यागी ने अपने एक बयान में कहा है कि हैकर्स स्मार्टफोन के जरिए हैकिंग के लिए हमेशा एक बैकडोर की तलाश में रहते हैं। इसी साल जून में ब्राजील के 4 हैकर्स ने एक हजार से अधिक टेलीग्राम अकाउंट्स को हैक किया था। इस हैकिंग के शिकार ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सनारो भी शिकार हुए थे।

प्राइवेसी फीचर्स  सिक्योरिटी फीचर्स के लिए भी काम करें जरुरी नहीं

बीते अगस्त में भी कंपनी ने कई यूजर्स का मोबाइल नंबर लीक कर दिया था। एक्सपर्ट्स का मानना है कि इन दोनों एप्स में चैटिंग के लिए तो तमाम प्राइवेसी फीचर्स हैं लेकिन जरूरी नहीं कि वे फीचर्स सिक्योरिटी के लिए भी काम करें।

बता दें कि टेलीग्राम में सीक्रेट चैट के लिए एक फीचर है जो मैसेज को इनक्रिप्ट करता है। टेलीग्राम का सीक्रेट चैट सिर्फ दो लोगों के बीच काम करता है, यह फीचर ग्रुप चैट के लिए नहीं है। हालांकि साइबर सिक्टोरिटी की इस रिपोर्ट के बाद टेलीग्राम और सिग्नल की ओर से कोई बयान नहीं आया है।

कैसे करे बचाव

मोबाइल को अपडेट रखे

फोन को हैक होने बचाने के लिए और सुरक्षित रखने के लिए फोन के ऑपरेटिंग सिस्टम को अपडेट रखे। नये अपडेट में बहुत सारे लूपहोल, बग को फिक्स किया जाता है जो हैकर द्वारा ढूंढ लिए जाते है। इसलिए फोन को हमेशा अपडेट रखना चाहिए। जिससे की कोई भी हैकर बग की कमियों का फायदा उठाकर फोन को हैक नहीं कर पाएगा।

फोन एन्क्रिप्ट रखे

यह आपके फोन को सुरक्षित रखने में मदद करता है। फोन एन्क्रिप्ट होने से यदि आपका फोन कोई हैक भी कर लेता है तो वह आपकी किसी भी जानकारी को नहीं पढ़ पाएगा। इस फ़ीचर को आई-फोन यूज़र और एंड्राइड यूज़र दोनों इस्तेमाल कर सकते है। इस फ़ीचर से कोई दूसरा व्यक्ति आपके पासवर्ड के बिना आपके फोन का इस्तेमाल नहीं कर पाएगा।

फोन का बैकअप बनाकर रखे

फोन का बैकअप बनाते रहना चाहिए। इससे आप आपके महत्वपूर्ण फोटो और डाटा को खोने से बचा पाएँगे।

अकाउंट को पासवर्ड से सुरक्षित रखे

एंड्राइड एप्प्स और सोशल मीडिया दोनों को सुरक्षित रखने का यह सबसे अच्छा तरीका है की आप उस पर पासवर्ड लगाकर उसे सुरक्षित रखे। पासवर्ड से किसी भी अकाउंट और एप्प को सुरक्षित करने पर कोई भी दूसरा व्यक्ति आपके अकाउंट को तब तक लॉग इन नहीं कर पाएगा जब तक आपके पासवर्ड उसके पास नहीं होंगे।

ये भी पढ़ें…Xiaomi लाया नया अपडेट, यहां चेक करें पूरी मोबाइल लिस्ट

टू-स्टेप ऑथेंटिकेशन प्रयोग करे

इस फ़ीचर का इस्तेमाल करने पर यदि कोई आपका पासवर्ड पता भी कर लेता है तो आपका अकाउंट एक्सेस नहीं कर पाएगा। जब आप टू-स्टेप ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल करते है तो आपके फोन पर एक ओटीपी आता है जिसे इंटर करने पर ही आपका अकाउंट ओपन होता है। अगर आपका फोन खो भी जाता है तो आप अपने पासवर्ड को रिकवर भी कर सकते है।

थर्ड पार्टी एप्पस को इंस्टाल ना करे

बहुत से यूज़र कहीं से भी किसी भी एप्लीकेशन को डाउनलोड करके अपने मोबाइल में इंस्टाल कर लेते है। ऐसा करना बहुत खतरनाक हो सकता है। हमेशा अपने एप्प स्टोर से ही एप्लीकेशन को डाउनलोड करे। एंड्राइड यूज़र प्लेस्टोर से और आईफोन यूज़र एप्पल के एप्प स्टोर से डाउनलोड करे। थर्ड पार्टी एप्पस का इस्तेमाल ना करे।

पब्लिक वाईफाई सावधानी से इस्तेमाल करे

आजकल वाई फाई  का कनेक्शन हर जगह पर मिल जाता है। जिसमें से बहुत सी जगह पर लगे वाई फाई को आप आसानी से प्रयोग भी कर सकते है। लेकिन आपको यह शायद ही पता होगा की जब आप किसी वाई फाई के कनेक्शन को इस्तेमाल करते है तो आपके द्वारा सर्च की गई चीजों को वाई फाई का ओनर आसानी से पता कर सकता है। आपके द्वारा इंटर की गई इनफार्मेशन को हैक होने से बचाने के लिए पब्लिक वाईफाई पर ऑनलाइन पेमेंट जैसे काम को करने से बचना चाहिए।

स्पैम लिंक को क्लिक ना करे

अगर किसी तरह के ऐसे मैसेज आते है की आप किसीलकी ड्रा  के विनर  है और आपको इतने रुपये मिलेंगे तो इस तरह के लिंक को आप क्लिक ना करे। किसी मिलती-जुलती नाम वाली वेबसाइट पर अपने यूजर नेम  और पासवर्ड  ना डाले। वह फिशिंग पेज भी हो सकता है जिसमें आप जैसे ही यूजर नेम  और पासवर्ड इंटर  करते है तो वह हैक भी हो सकता है।

ये भी पढ़ें…गजब का कप: चाय के साथ मोबाइल भी चार्ज, यहां जाने पूरी डीटेल

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App