×

साबुन नहीं इससे मरेगा कोरोना, क्या आपको पता है ये छोटी सी बात

कोरोना को शिकस्त इस तरीके से आप भी दे सकते हैं। बनिए इस अभियान में हमारे साथी, महज 20 सेकंड में आप कोरोना का सफाया कर देंगे वह भी साबुन से हाथ धो कर। लेकिन ध्यान रहे इससे कोरोना वायरस सिर्फ आपने हाथों की सतह से निकल कर मरेगा। क्योंकि साबुन का झाग उसे जिंदा नहीं रहने देगा।

राम केवी
Updated on: 27 March 2020 7:23 AM GMT
साबुन नहीं इससे मरेगा कोरोना, क्या आपको पता है ये छोटी सी बात
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

दुनिया में महामारी का सबब बना कोविड 19 यानी कोरोनावायरस नामक दैत्य का वध कौन करेगा। या कौन कर सकता है। क्या आपको पता है कि कोरोना को मारने की ताकत किसके पास है, और किससे ये वायरस पस्त होगा। कौन है जो कोरोना को शिकस्त देगा। अरे भाई ये सब बातें इसलिए कर रहे हैं ताकि जिसमें ताकत हो वह आगे आए। उससे कहा जाए भाई मार दो इस वायरस को।

अच्छी खबर ये है कि अब इस वायरस की काट निकाल दी गई है। कोरोना को शिकस्त इस तरीके से आप भी दे सकते हैं। बनिए इस अभियान में हमारे साथी, महज 20 सेकंड में आप कोरोना का सफाया कर देंगे वह भी साबुन से हाथ धो कर। लेकिन ध्यान रहे इससे कोरोना वायरस सिर्फ आपने हाथों की सतह से निकल कर मरेगा। क्योंकि साबुन का झाग उसे जिंदा नहीं रहने देगा।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च दिल्ली के वायरोलॉजिस्ट देव प्रसाद चट्टोपाध्याय के अनुसार कोरोना या कोविड 19 लिविंग सेल नहीं है। कोरोना का संक्रमण तीन तरह से हो रहा है। एक तो वह व्यक्ति जो संक्रमित हैं उनसे, दूसरे वह जो संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आ गए हैं और तीसरे वह जो इन दोनों में नहीं हैं। यानी वह न तो किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आये ना कोई यात्रा की फिर भी संक्रमण हो गया। ये जो तीसरी श्रेणी है यही है कम्युनिटी संक्रमण।

शुक्र है अभी हम बचे हैं

हमें इसी से बचना है। सौभाग्य से आईसीएमआर की सलाह पर सरकार द्वारा उठाए गए त्वरित कदमों से हम अभी तक कम्युनिटी संक्रमण की तीसरी स्टेज से दूर हैं। हम सचेत और सतर्क थे, हमने बचाव की तैयारी बिना किसी देरी के की इसी लिए हम कोरोना वायरस के संक्रमण की तीसरी स्टेज से अभी दूर हैं।

इसे भी पढ़ें

Corona:शिक्षकों के तबादले पर योगी सरकार का नया आदेश, क्या बढ़ जाएंगी मुश्किलें?

लेकिन आपको समझना है साबुन से बार-बार हाथ धोना क्यों जरूरी है। कई लोग जानना चाहते हैं वायरस के संक्रमण से बचाने में ये कैसे मदद करेगा। बताते हैं कि किसी भी वायरस को जीवित रहने के लिए होस्ट की जरूरत होती है। यानी कि वह शख्स जिस पर निर्भर रहकर वायरस अपना जीवन बढ़ाता है।

कोरोना को गेस्ट न बनाएं

हमें कोरोनावायरस का होस्ट नहीं बनना है और यह कैसे होगा, असली बात यह है कि कोरोनावायरस शरीर में घुसेगा कैसे। तीन दशकों से वायरस पर अध्ययन कर रहे डॉक्टर देव प्रसाद का कहना है कि कोरोनावायरस जब तक हमारे शरीर के बाहर हैं वह मृत अवस्था में रहता है, लेकिन यह हमारे शरीर में आंख और नाक के रास्ते घुसता है। सबसे आसान रास्ता नाक है, आंख के जरिए भी यह हमारे शरीर में घुसता लेकिन यह हवा में उड़कर नहीं जाता है, यह शरीर के भीतर जाएगा आपके हाथों से, इसलिए अगर आप 20 सेकंड हाथ धो लेंगे तो आप इसे मार देंगे।

इसे भी पढ़ें

Corona से यहां 35 साल के युवक ने दम तोड़ा, देश में सबसे कम उम्र में मौत का मामला

कोरोनावायरस से जंग में हाथ धोना सबसे कारगर हथियार है। साबुन में जब झाग बनता है तो वायरस मार देता है। इस वायरस को अल्कोहल मिटाता है इसीलिए अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर बन रहे हैं लेकिन गरीब लोगों के पास ये नहीं है, इसलिए हम सभी साबुन से बार बार हाथ धोकर कोरोना को मौत के घाट उतार सकते हैं।

राम केवी

राम केवी

Next Story