अपने शरीर को नैचुरली रखें डिटॉक्स

शरीर को डिटॉक्स करना बेहद जरूरी है, क्योंकि इससे शरीर के अंदर जमे विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है। वैसे तो हर मौसम में शरीर को डिटॉक्स करना जरूरी है लेकिन गर्मियों में शरीर को डिटॉक्स करने से ज्यादा फायदा मिलता है।

लखनऊ: शरीर को डिटॉक्स करना बेहद जरूरी है, क्योंकि इससे शरीर के अंदर जमे विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है। वैसे तो हर मौसम में शरीर को डिटॉक्स करना जरूरी है लेकिन गर्मियों में शरीर को डिटॉक्स करने से ज्यादा फायदा मिलता है।

 

यह पढ़ें…यूपी के वाहनों के चालान से अब तक 18 करोड़ 51 लाख रुपये से ज्यादा की वसूली

 

गुनगुना नींबू पानी : अगर आप दिन की शुरूआत गुनगुने नींबू पानी से करते हैं तो पेट संबंधी समस्याओं का सामना न बराबर करना पड़ेगा। गुनगुने पानी और नींबू के रस के संयोजन से शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने और पाचन को दुरुस्त रखने में मदद मिलती है। आप इसमें कसा हुआ अदरक भी मिला सकते हैं लेकिन इसका सेवन केवल खाली पेट करना ही लाभकारी है।

ग्रीन टी : ज्यादातर लोग अपने दिन की शुरूआत चाय या कॉफी का सेवन से करते हैं लेकिन ये बहुत कैफिन युक्त होते हैं। इनकी जगह आप दिन की शुरूआत ग्रीन टी का सेवन करके कर सकते हैं। ग्रीन टी पाचन को स्वस्थ रखने के अलावा चयापचय को मजबूती देती है, जिससे वजन नियंत्रित रहता है।

पैकेटबंद फ्रूट जूस का न करें सेवन : पैकेट वाले फ्रूट जूस प्रिजरवेटिव, आर्टिफिशियल फ्लेवर, कलरिंग एजेंट और प्रोसेस्ड शुगर युक्त होते हैं जो स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। इसकी बजाए ज्यादा से ज्यादा पानी, ताजे फलों के रस या नारियल पानी का सेवन करना सुनिश्चित करें।

 

यह पढ़ें…Live: लॉकडाउन 3.0 का आखिरी दिन आज, नई गाइडलाइन का हो सकता एलान

 

खान-पान का विशेष ध्यान : खान-पान का सेहत पर बेहद ही गहरा असर पड़ता है, इसलिए अपने खान-पान का विशेष ध्यान रखें। अगर आपकी आदत किसी भी समय कुछ भी खा लेने की है, तो अपनी इस आदत को बदलें और अपने खाने का समय निश्चित करें। इसके अलावा ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर में संतुलित और पौष्टिक खाद्य पदार्थों को शामिल करें।

पर्याप्त नींद लेना है जरूरी : शरीर को डिटॉक्सीफाई करने के अलावा, दिमाग को भी डिटॉक्सिफाई करना जरूरी है, जिसके लिए आठ घंटे की नींद आवश्यक है। पर्याप्त मात्रा में गुणवत्तापूर्ण नींद न लेने पर उनकी मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक सेहत पर नकारात्मक असर पड़ता है।