शंखपुष्पी में महिलाओं की इस बीमारी का है इलाज, मनुष्य के लिए ये पौधा है संजीवनी समान

हमारे यहां कई तरह की जड़ी बूटी मिलती है इनमें से एक है शंखपुष्पी ।यह मनुष्य के लिए प्रकृति का दिया तोहफा है जो कि मनुष्य की कई समस्याओं को दूर करता है। खासकर दिमाग से जुड़ी याददाश्त बढ़ाने के काम आती है।

जयपुर:हमारे यहां कई तरह की जड़ी बूटी मिलती है इनमें से एक है शंखपुष्पी । यह मनुष्य के लिए प्रकृति का दिया तोहफा है जो कि मनुष्य की कई समस्याओं को दूर करता है। खासकर दिमाग से जुड़ी याददाश्त बढ़ाने के काम आती है।
आयुर्वेद में शंखपुष्पी अनेक तरह की बीमारियों को दूर करने वाली औषधि है।इसकी प्रकृति ठंडी होती है और स्वाद में कसैली होती है। आज के टेंशन वाली लाइफ में हर व्यक्ति को सेवन करना चाहिए। इस के फूल, पत्ते, तना, जड़ और बीज सभी लाभदायक है। जानते हैं कैसे?

*शंखपुष्पी दिमाग के लिए संजीवनी है। मस्तिष्क से संबंधित रोगों इसका इस्तेमाल अद्भुत है। प्राचीन काल पूरे पौधे को पीसकर दूध या मक्खन के साथ शहद, मिश्री या शक्कर मिलाकर सेवन किया जाता रहा है।ताकि तेज बुद्धि हो।
*लंबे बालों को बढ़ाने वाली व इन्हें चमकदार बनाने वाली औषधी है। इसका लेप सिर पर लगाने से बाल लंबे, सुंदर और चमकदार होते हैं। शंखपुष्पी की जड़ को पीसकर उसके रस की कुछ बूंदें नाक में डालने से समय से पहले बाल सफेद नहीं होते।

हिन्दु नहीं मुस्लिम हैं ये एक्टर्स, 99 पर्सेन्ट लोग नहीं जानते ये बड़ी बात

*शंखपुष्पी खून की उल्टी रोकने वाली उत्तम औषधि है। यदि किसी को खून की उल्टी हो रही हो, तो 4 चम्मच शंखपुष्पी का रस, 1 चम्मच दूब घास तथा 1 चम्मच गिलोय का रस मिलाकर पिलाने से तत्काल लाभ होता है।

*शुगर के रोगियों को शंखपुष्पी के सेवन से नया जीवन मिलता है। यह शरीर में ऊर्जा का संचार करती है। शुगर को नियंत्रित करने के लिए शंखपुष्पी 2-4 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम पानी के साथ सेवन करें, काफी लाभ होगा।

*मिर्गी के मरीज को शंखपुष्पी के पूरे पौधे के रस या चूर्ण शहद के साथ देने से लाभ मिलता है। इससे मरीज के दिमाग को शक्ति मिलती है। हिस्टीरिया और उन्माद जैसे रोगों से मुक्ति मिलती है।

ATS की बड़ी कामयाबी: अलकायदा के आतंकी कलीमुद्दीन को यहां से किया गिरफ्तार

*बवासीर एवं गैस के रोगों में शंखपुष्पी लाभकारी औषधि है। इसके सेवन से आंतों के अंदर रुका हुआ (मलरूपी) विष बाहर निकलता है और कब्ज एवं बवासीर दूर होता है।गर्भाशय से निकलने वाले रक्त को रोकने के लिए यह एक उत्तम है।
*अस्थमा, सर्दी, खांसी और बुखार जैसी समस्याएं आम हो जाती हैं। ऐसे में शंखपुष्पी एक असरदार औषधि है।शंखपुष्पी का नियमित सेवन 6 माह तक किया जा सकता है। इससे शरीर के कई रोग दूर होते हैं एवं मन शांत होता है।