सावधान! ये लक्षण बताते हैं कि आप में है आयोडीन की कमी, इन बातों का रखें ध्यान

थायरॉयड ग्रंथि गण्डमाला का बढ़ जाना आयोडीन की कमी का सबसे पहली चीज है। गण्डमाला को कई लोग घेंघा भी कहते हैं। अमेरिकन थायराइड एसोसिएशन का कहना हैं

Published by Roshni Khan Published: January 22, 2021 | 11:19 am
health

सावधान! ये लक्षण बताते हैं कि आप में है आयोडीन की कमी, इन बातों का रखें ध्यान (PC: social media)

लखनऊ: आज-कल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में लोग अपना शरीर के उपर ध्यान नहीं देते है। जिस वजह से हमारे शारीर पर काफी असर पड़ता है। बॉडी के विकास और मेटाबॉलिज्म में आयोडीन की खास भूमिका है। थायराइड हार्मोन्स बनाने के लिए आयोडीन बहुत जरूरी है। अगर आपके अंदर आयोडीन की कमी है तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

ये भी पढ़ें:संसदीय समिति ने पूछा- क्यों किया गृहमंत्री का अकाउंट लॉक, ट्विटर ने दिया ये जवाब

गर्दन पर बड़ी गांठ-

थायरॉयड ग्रंथि गण्डमाला का बढ़ जाना आयोडीन की कमी का सबसे पहली चीज है। गण्डमाला को कई लोग घेंघा भी कहते हैं। अमेरिकन थायराइड एसोसिएशन का कहना हैं कि, ‘ज्यादातर प्रोसेस्ड कमर्शियल फूड में इस्तेमाल नमक में आयोडीन नहीं होता है। जो लोग प्रोसेस्ड फूड पर निर्भर रहते हैं उनके शरीर में पर्याप्त मात्रा में आयोडीन नहीं होता है।’

दम घुटना लेटते समय-

गण्डमाला की वजह से सांस लेने और कुछ निगलने में कठिनाई महसूस हो सकती है। अमेरिकन थायराइड एसोसिएशन के अनुसार, लेटने पर आपको ऐसा महसूस हो सकता है जैसे कि आपका दम घुट रहा हो।

रूखी स्किन और बालों का गिरना-

आयोडीन की कमी से आपकी स्किन रूखी होने लगती है, बाल गिरने लगते हैं और कुछ लोगों को मांसपेशियों में दर्द भी हो सकता है। एसोसिएशन का कहना है, ‘पुरुषों की तुलना में महिलाओं में हाइपोथायरायडिज्म का आठ गुना ज्यादा खतरा होता है। वैसे तो ये महिलाओं में किसी भी उम्र में हो सकता है लेकिन मेनोपॉज के बाद इसकी संभावना ज्यादा बढ़ जाती है।’

ये भी पढ़ें:दुश्मनों की तबाही शुरू: भारत के पास अब हॉक आई विमान, सेकेंडों में होगा काम-तमाम

प्रेग्नेंसी के टाइम दिक्कत-

प्रेग्नेंसी के टाइम शरीर को थायरॉयड हार्मोन की जरूरत होती है और जिसके लिए बॉडी को आयोडीन की ज़रूरत होती है। एसोसिएशन का कहना हैं कि, ‘ये थायरॉयड हार्मोन मायलिन बनाते हैं जिनसे तंत्रिका कोशिकाओं की रक्षा होती है। गंभीर आयोडीन की कमी होने पर गर्भपात का भी खतरा हो सकता है।’ उनका आगे कहना है कि ‘आयोडीन की कमी का होने वाले बच्चे के विकास पर बहुत असर पड़ता है। उसमें कई तरह की न्यूरोलॉजिकल दिक्कतें आ सकती हैं। इसके अलावा आयोडीन की कमी से होने वाले बच्चे के ब्रेन डैमेज का भी खतरा होता है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App