क्या इतना सस्ता हो गया? यहां विदेश से लायी गयी 7 हजार टन प्याज सड़ रहा

प्याज की थोक कीमतों में पिछले एक हफ्ते में 40 फीसदी की गिरावट आ गई है। दूसरी तरफ, विदेश से आयात हुआ प्याज कोई लेने वाला नहीं दिख रहा और मुंबई के बंदरगाह पर 7 हजार टन आयातित प्याज सड़ रहा है।

मुंबई: पिछले कई महीने से सारा देश प्याज की महंगाई से परेशान था। देश के हर हिस्से में प्याज 120 से 180 रूपये प्रति किलो के हिसाब से बिक रही थी। मुंबई में आयात की गई लगभग 7 हजार टन विदेशी प्याज सड़ रहा है। बता दें कि प्याज की थोक कीमतों में पिछले एक हफ्ते में 40 फीसदी की गिरावट आ गई है। दूसरी तरफ, विदेश से आयात हुआ प्याज कोई लेने वाला नहीं दिख रहा और मुंबई के बंदरगाह पर 7 हजार टन आयातित प्याज सड़ रहा है।

क्यों किया गया था प्याज आयात

सबको पता  कुछ महीने पहले जब प्याज की कीमतें 150 रुपये की ऊंचाई पर पहुंच गई थीं तो सरकार ने विदेश से आयात का फैसला किया था। हालांकि, घरेलू बाजार में राहत मिलने के बाद आयातित प्याज सड़ने लगा है। एजेंसियों की खबरों के मुताबिक मुंबई के जेएनपीटी पर बाहर से आयातित 7 हजार टन प्याज सड़ रहा है। यह 45 रुपये प्रति किलो कीमत पर यह प्याज आयात किया गया है, जबकि थोक बाजार में कीमत 24 रुपए प्रति किलो पहुंच गई है।

अब क्या है कीमत

देश की थोक मंडियों  में मंगलवार को लगातार पांचवें दिन प्याज की कीमतों में गिरावट आई। एक हफ्ते में कीमत 40 फीसदी गिर गई है। महाराष्ट्र के नासिक जिले में स्थित लासलगांव मंडी में मंगलवार को प्याज की कीमत 24 रुपये प्रति किलोग्राम थी। यह 20 जनवरी के 40 रुपये प्रति किलो रेट के हिसाब से करीब 40 फीसदी की गिरावट है। इसके पहले प्याज की यह कीमत 6 नवंबर को देखी गई थी। इसकी वजह से खुदरा प्याज की कीमत 40 से 44 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई है।

ये भी देखें : अभी-अभी बंगाल में भगदड़: ताबड़तोड़ चली गोलियां, दो की मौत

80 फीसदी आयातित प्याज सड़ने की आशंका

कुछ दिनों पहले उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान ने भी कहा था कि केंद्र सरकार राज्यों को 55 रुपए प्रति किलो की दर से प्याज दे रही है। सरकार ने अब तक विदेशों से 24,500 टन प्याज मंगाया है, जबकि आयात के कुल 40,000 टन के सौदे हुए हैं। लेकिन राज्यों ने केवल 2,000 टन प्याज ही उठाया है, लिहाजा अब बचे हुए 89 फीसदी प्याज के सड़ने की चिंता बढ़ रही है। उन्होंने कहा था कि राज्य सरकारेंआयातित प्याज लेने से मना कर रही हैं।

क्यों घटी कीमत

पिछले दिनों नए प्याज की आवक मंडियों में बढ़ गई है जिसकी वजह से प्याज की कीमतों में गिरावट आई है। प्याज का दाम बढ़ने पर किसानों ने रबी सीजन में अच्छी फसल लगाई है और प्याज का रकबा चालू सीजन में 9.34 लाख हेक्टेयर होने का अनुमान है, जबकि पिछले साल रबी सीजन में प्याज का रकबा 7.6 लाख हेक्टेयर था।

ये भी देखें : बड़ी खबर: सेना के जवानों को देने के लिए गृह मंत्रालय के पास नहीं है पैसे 

मालूम हो कि बीते मॉनसून में हुई भारी बारिश से खरीफ सीजन में प्याज की फसल खराब होने से देश में प्याज की उपलब्धता कम हो गई थी, जिसके कारण प्याज के दाम आसमान छू गए थे। लिहाजा, केंद्र सरकार ने प्याज के दाम को काबू में रखने के लिए पिछले साल सितंबर में प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App