Top

राष्ट्रपति का 'स्वतंत्रता दिवस समारोह' पर एलान, कोरोना-अल्फान का किया जिक्र

भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश को संबोधित किया। राष्ट्रपति ने इस मौके पर देश-विदेश में रह रहे भारत के सभी लोगों को शुभकामनाएं दीं।

Shivani

ShivaniBy Shivani

Published on 14 Aug 2020 2:10 PM GMT

राष्ट्रपति का स्वतंत्रता दिवस समारोह पर एलान, कोरोना-अल्फान का किया जिक्र
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश को संबोधित किया। राष्ट्रपति ने इस मौके पर देश-विदेश में रह रहे भारत के सभी लोगों को शुभकामनाएं दीं। राष्ट्रपति कोविंद कहा कि इस अवसर पर स्वाधीनता सेनानियों के बलिदान को याद किया और कृतज्ञता जताई।

राष्ट्रपति का स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर देश को सम्बोधन

भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविदं ने देश को संबोधित करते हुए 74वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी। उन्होंने कहा कि 15 अगस्त को हम सभी तिरंगे को लहराते हुए स्वाधीनता दिवस समारोह में भाग लेकर और देशभक्ति से भरे गीत सुनकर उत्साह से भर जाते हैं। यह स्वाधीनता के गौरव को महसूस करने का दिन है।

राष्ट्रपति ने इस मौके पर स्वाधीनता सेनानियों के बलिदान को याद किया और कहा कि स्वतंत्रता सैनानियों के बलिदान की वजह से हम सब आज एक स्वाधीन देश के निवासी हैं।

राष्ट्रपति का संबोधन

उन्होंने कहा कि इस साल स्वतंत्रता दिवस के उत्सवों में हमेशा की तरह धूम-धाम नहीं होगी। इसका कारण स्पष्ट है। पूरी दुनिया एक ऐसे घातक वायरस से जूझ रही है जिसने जन-जीवन को भारी क्षति पहुंचाई है और हर प्रकार की गतिविधियों में बाधा उत्पन्न की है।

ये भी पढ़ेंः सैनिकों को बड़ा तोहफा: 12 लाख रुपये का लाइफ कवर, एचडीएफसी ने किया एलान

दुनिया में कहीं पर भी मुसीबत में फंसे हमारे लोगों की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध, सरकार द्वारा ‘वंदे भारत मिशन’ के तहत, दस लाख से अधिक भारतीयों को स्वदेश वापस लाया गया है।

भारत की आत्मनिर्भरता का अर्थ स्वयं सक्षम होना है, दुनिया से अलगाव या दूरी बनाना नहीं। इसका अर्थ यह भी है कि भारत वैश्विक बाज़ार व्यवस्था में शामिल भी रहेगा और अपनी विशेष पहचान भी कायम रखेगा।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अस्थायी सदस्यता के लिए, हाल ही में सम्पन्न चुनावों में मिला भारी समर्थन, भारत के प्रति व्यापक अंतर्राष्ट्रीय सद्भावना का प्रमाण है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani

Shivani

Next Story