BSNL के 70 हजार कर्मचारियों ने किया ”स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति” के लिए आवेदन

सरकारी दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) के 70 हजार कर्मचारियों ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति(वीआरएस) ले लिया है। बीएसएनएल के चेयरमैन और एमडी पीके पुरवार ने सोमवार को यह जानकारी दी।

नई दिल्ली: सरकारी दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) के 70 हजार कर्मचारियों ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति(वीआरएस) ले लिया है। बीएसएनएल के चेयरमैन और एमडी पीके पुरवार ने सोमवार को यह जानकारी दी।

कुल मिलाकर बीएसएनएल में करीब 1.5 लाख कर्मचारियों हैं जिनमें एक लाख कर्मचारी वीआरएस योजना के लिये पात्र हैं। इनमें से 70 हजार कर्मचारियों ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है। बीएसएनएल ने करीब 77,000 कर्मचारियों के वीआरएस का लक्ष्य रखा है।

यह भी पढ़ें…राम मंदिर ट्रस्ट की रूपरेखा तैयार, 6 से ज्यादा होंगे ट्रस्टी

वीआरएस स्कीम की प्रभावी तारीख 31 जनवरी 2020 तक है। वीआरएस योजना को देखते हुए दूरसंचार विभाग ने बीएसएनएल को व्यापार खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में टेलीफोन एक्सचेंज की व्यवस्था सुचारू बनाए रखने और परिवर्तन के दौर को सुगम बनाये रखने के लिए उपाय करने को कहा है।

यह भी पढ़ें…लता मंगेशकर को हॉस्पिटल से मिली छुट्टी, सांस लेने में थी तकलीफ

पुरवार ने न्यूज एजेंसी से बताया कि अबतक 70,000 कर्मचारियों ने वीआरएस के लिये आवेदन किया है। योजना को लेकर कर्मचारियों से अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है।

बीएसएनएल को उम्मीद है कि 70,000 से 80,000 कर्मचारी वीआरएस योजना को अपनाएंगे और इससे वेतन के करीब 7,000 करोड़ रुपये बचेंगे। 50 साल या इससे ज्यादा उम्र के कर्मचारी इसके दायरे में हैं।

यह भी पढ़ें…जब शेषन ने राजीव के मुंह से खींच लिया था बिस्किट, लालू ने कहा- भैंसिया पे चढ़ाकर..

महानगर टेलिफोन निगम लिमिटेड (एमटीएनएल) ने भी अपने कर्मचारियों के लिए वीआरएस लॉन्च किया है। यह स्कीम गुजरात मॉडल पर आधारित है और यह भी कर्मचारियों के लिए 3 दिसंबर 2019 तक खुली रहेगी। केंद्र सरकार ने पिछले महीने एमटीएनएल और बीएसएनएल को एक साथ लाने की योजना को मंजूरी दी थी।