मात्र 80 दिन में दस गुना पैसा, इस कंपनी के शेयर होल्डर हुए मालामाल

अनिल अंबानी समूह की कंपनी रिलायंस नेवल ने पिछले करीब 80 दिनों में निवेशकों को मालामाल कर दिया है। जिसने भी इस कंपनी में आज से ढाई महीने पहले शेयर में निवेश किया होगा, उनके पैसे आज 10 गुने हो गए हैं। अनिल अंबानी समूह की कंपनी रिलायंस नेवल के शेयरों में सितंबर के बाद अभी तक करीब 1000 फीसदी का उछाल देखने को मिला है।

Published by suman Published: November 27, 2019 | 10:40 am
Modified: November 27, 2019 | 12:11 pm

मुंबई: अनिल अंबानी समूह की कंपनी रिलायंस नेवल ने पिछले करीब 80 दिनों में निवेशकों को मालामाल कर दिया है। जिसने भी इस कंपनी में आज से ढाई महीने पहले शेयर में निवेश किया होगा, उनके पैसे आज 10 गुने हो गए हैं। अनिल अंबानी समूह की कंपनी रिलायंस नेवल के शेयरों में सितंबर के बाद अभी तक करीब 1000 फीसदी का उछाल देखने को मिला है।

यह पढ़ेंं…आधी रात सड़क पर सीएम: जानी बाबा विश्वनाथ नगरी के विकास की हकीकत

यह कंपनी पूरे रिलायंस समूह के लिए  खुशी की खबर लेकर आई है।  क्योंकि केंद्र सरकार ने कंपनी को रक्षा क्षेत्र में कई तरह के करार मिलने की उम्मीद है।  9 सितंबर के बाद से शेयर में लगातार तेजी बनी हुई है। 9 सितंबर को बीएसई पर शेयर 73 पैसे पर बंद हुआ था, उसी एक शेयर की 26 नवंबर को कीमत 7.67 रुपये तक पहुंच गई और 7.31 रुपये पर बंद हुआ।  रिलायंस नेवल के शेयर में ये तेजी का सबसे लंबा दौर है।2009 में शेयर की लिस्टिंग हुई थी  कंपनी की आर्थिक स्थिति अभी भी दयनीय है। लेकिन कंपनी को केंद्र सरकार से जल्द ही कई रक्षा कांट्रैक्ट मिलने की उम्मीद है. इसलिए कंपनी के शेयर में उछाल देखने को मिला है।

यह पढ़ेंं…उद्धव ठाकरे कल लेंगे CM पद की शपथ: यहां जानें कौन बनेगा मंत्री, MLA ले रहे शपथ

पिछले 52 हफ्तों के आंकड़ों को देखें तो पिछले साल दिसंबर में शेयर 16.55 रुपये पर कारोबार कर रहा था। खबर है कि केंद्र सरकार जल्द ही अरबों रुपये के करार कई कंपनियों से करने वाली है, और उस कतार में अनिल अंबानी की यह कंपनी भी है। हालांकि समूह की खस्ता आर्थिक हालत को देखते हुए ऐसा नहीं भी हो सकता है।  रिपोर्ट के मुताबिक रिलायंस नेवल के फंडामेंटल्स में कोई बदलाव नहीं हुआ है। कंपनी कई मुश्किलों से गुजर रही है. रिलायंस नेवल के शेयर में तेजी की वजह जो भी हो लेकिन, यह अनिल अंबानी के लिए अहम है।  राष्ट्रीय कंपनी कानून व दिवालिया प्राधिकरण रिलायंस नेवल के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने पर विचार कर र हा है, क्योंकि बैंकों ने कंपनी के कर्ज की रिस्ट्रक्चरिंग से इनकार कर दिया है।